प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन के कारण और इसको दूर करने के 5 घरेलू उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

यीस्ट एक प्रकार का फंगस होता है जो महिलाओं के वजायना में पाया जाता है। वजायनल यीस्ट इंफेक्शन को “वजायनल कैंडिडियासिस” वुल्वोवजायनल कैंडिडियासिस और मोनिलियासिस के नाम से भी जाना जाता है। यह गर्भावस्था के दौरान वजायना में बहुत सारी यीस्ट सेल्स की वृद्धि होने पर हो सकता है। यह गर्भवती महिलाओं में पाया जाने वाला आम संक्रमण है क्योंकि गर्भावस्था के हॉर्मोन वजायना में प्राकृतिक रूप से होने वाले जीवाणुओं के संतुलन को प्रभावित करते हैं। गर्भावस्था के दौरान ईस्ट्रोजेन हॉर्मोन के स्तर में वृद्धि की वजह से यह कैंडिडा की तीव्र वृद्धि को बढ़ावा देता है, जिसकी वजह से थ्रश या प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन हो सकता है।

प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन होने पर किस तरह के लक्षण दिख सकते हैं?  

यीस्ट इंफेक्शन होने पर प्रेग्नेंसी के दौरान निम्नलिखित लक्षण दिखते हैं।

प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन के क्या कारण हो सकते हैं?

गर्भावस्था के दौरान थ्रश आपके शिशु के लिए कोई समस्या पैदा नहीं करता। मगर, यदि इसका उपचार न कराया जाए, तो डिलिवरी के दौरान यह शिशु तक पहुंच सकता है।

क्या फर्टिलिटी यीस्ट इंफेक्शन से प्रभावित होती है?

यीस्ट इंफेक्शन फर्टिलिटी को प्रभावित करता है या नहीं? इसके अभी पर्याप्त सुबूत नहीं मिले हैं। जिससे यह पता चलता हो कि यीस्ट इंफेक्शन से पीड़ित महिलाओं को इनफर्टिलिटी हो सकती है। हालांकि, यीस्ट इंफेक्शन आपके इंटरकोस को असहज बना सकता है।

यीस्ट इंफेक्शन सेक्स लाइफ को कहीं न कहीं प्रभावित करता है। बार-बार यीस्ट इंफेक्शन होने से यह वजायना के अंदर के फ्लोरा को असंतुलित कर देता है, जिससे स्पर्म का यूटरस तक पहुंचना मुश्किल हो जाता है। हालांकि,कैंडिडा की ओवरग्रोथ होने से स्पर्म नष्ट नहीं होते हैं लेकिन, इंफेक्शन सर्वाइकल म्यूकस में बार बार बदलाव करता है। इससे स्पर्म को गर्भाशय के मुख तक पहुंचने में मुश्किल होती है।

प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन से बचने के घरेलू उपाय:  

1. एप्पल साइडर सिरका प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन से राहत देगा

एप्पल साइडर सिरका नेचर में अम्लीय होता है। जो प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन के संक्रमण वाले फंगस को मारने में मदद करता है। एप्पल साइडर सिरका में एंजाइम भी होते हैं जो इन कवक को रोकते हैं। ये वजायना में खुजली और इंफेक्शन को बढ़ने से रोकता है। इसके अलावा यह आपके शरीर के पीएच संतुलन को नियंत्रित भी कर सकता है।

यह भी पढ़ें: पेनिस फंगल इंफेक्शन के कारण और उपचार

2. लहसुन भी प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन होने पर राहत देगा

लहसुन हर घर में इस्तेमाल किया जाने वाला औषधीय गुणों से भरपूर एक हर्बल है। जिसका इस्तेमाल हमारे घरों में सब्जी आदि बनाने में किया जाता है। प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन होने पर वजायना में खुजली से लड़ने के लिए यह कारगर साबित होता है। लहसुन कैंडिडा को खत्म करने में सहायक होता है। लहसुन इस प्रकार की समस्या से लड़ने में मदद करता है। इसमें मौजूद ऑर्गनॉसल्फर कैंडिडा को बढ़ने से रोकता है। लहसुन के दो से तीन कलियों को प्रतिदिन खाएं। इसे आप दही के साथ भी इस्तेमाल कर सकती हैं। 

यह भी पढ़ें: वजायनल इंफेक्शन को दूर कर सकते हैं ये 7 घरेलू नुस्खे

3. दही के सेवन से प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन से बचा जा सकता है

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के वजायना में खुजली और इंफेक्शन के इलाज के लिए दही एक अच्छा उपाय हो सकता है। दही में एसिडोफिलस एलिमेंट्स होती हैं जो अच्छे बैक्टीरिया के विकास को प्रोत्साहित करता है। यह प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन के कारण खुजली और अन्य सूक्ष्म जीवों से लड़ने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें: Coconut Oil : नारियल तेल क्या है?

4. नारियल का तेल इस्तेमाल करें और प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन से बचें

नारियल के तेल में एंटीफंगल गुण मौजूद होते हैं जिसके कारण वजायना में खुजली होने और प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन होने में यह बहुत ही अच्छा घरेलू उपाय माना जाता है। इसमें लॉरिक एसिड और कैपेलिक एसिड इसके एंटीमिक्राबियल गुणों के लिए जिम्मेदार होते हैं। यह प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले यीस्ट इंफेक्शन से राहत पहुंचाता है।

यह भी पढ़ें: क्या आपने लहसुन के इन लाभों के बारे में कभी सुना है?

5. क्रैनबेरी भी बचा सकती है प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन से

क्रैनबेरी में अर्बुटिन नाम का योगिक मौजूद होता है जो कैंडिडा एल्बिकन्स क्रैनबेरी योनि में खुजली और इंफेक्शन के लिए एक बहुत ही प्रभावी उपाय माना जाता है। इनमें अर्बुटिन नामक एक यौगिक होता है जो कैंडिडा एल्बिकन्स को मारने में मदद करता है। क्रैनबेरी की गोलियां या कैप्सूल के इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श कर लें।

प्राेबॉयोटिक सप्लिमेंट्स का सेवन बचा सकता है प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन से

कुछ प्रोबॉयोटिक सप्लिमेंट्स यीस्ट इंफेक्शन के लिए नैचुरल सॉल्यूशन माने जाते हैं। दही खाने से नैचुरल प्रोबॉयोटिक बढ़ते हैं। 

यीस्ट इंफेक्शन के बारे में ये भी जान लें

यीस्ट इंफेक्शन पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा होता है। लगभग 75 प्रतिशत महिलाएं यीस्ट इंफेक्शन से पीड़ित होती है। यीस्ट इंफेक्शन वजायना के अलावा स्तनों पर भी हो सकता है (अगर महिला स्तनपान करा रही है तो संभावना बनती है)। यानी डिलिवरी के बाद भी जब आप स्तनपान करा रही हो तब भी आपको सतर्क रहने की जरूरत है। प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन से बच भी गईं तो ब्रेस्टफीडिंग के समय यह परेशानी आ सकती है। वैसे तो यीस्ट इंफेक्शन सेक्स करने से नहीं फैलता है, पर कुछ मामलों में पाया गया है कि सेक्स करने से यीस्ट इंफेक्शन पार्टनर को हो जाता है। इसलिए हमेशा सुरक्षित सेक्स करना याहिए।

प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन के अलावा सबसे ज्यादा इसका खतरा निम्न लोगों को होता है।

यीस्ट इंफेक्शन से बचने के लिए इन बातों का भी रखें ख्याल

  • एंटीबायोटिक के अधिक इस्‍तेमाल से भी यीस्ट इंफेक्शन की समस्या हो सकती है। इसलिए जब तक सही में इनकी जरूरत न हो एंटीबायोटिक दवाओं का इस्‍तेमाल ना करें।
  • प्राइवेट पार्ट की ठीक से सफाई न रखने से ये यीस्‍ट संक्रमण की समस्‍या होती है
  • वजायना पर सही प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना जरूरी होता है। वजायना बहुत नाजुक हिस्सा होता है। कई बार साबुन में मौजूद केमिकल्स वजायना की नाजुक त्वचा के लिए नुकसान पहुंचा सकते हैं। साबुन में मौजूद ये केमिकल्स त्वचा के प्राकृतिक तेल को नुकसान पहुंचाते हैं। कई बार साबुन में मौजूद केमिकल्स वजायना के पीएच लेवल बिगाड़ सकते हैं। इसलिए ऐसे प्रोडक्ट्स का प्रयोग करें जो माइल्ड हों और जिनमें केमिकल्स की मात्रा बहुत कम हो।
  • साबुन के अलावा भी अगर आप किसी तरह के प्रोडक्ट्स का यूज वजायना पर कर रही हैं तो विशेष एहतिहात बरतें।

हमें उम्मीद है कि प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन के घरेलू नुस्खे पर आधारित यह आर्टिकल आपके लिए ज्ञानवर्धक साबित होगा। प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन होने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें। कई बार यह इंफेक्शन घरेलू उपचारों से ठीक नहीं होता। प्रेग्नेंसी में किसी प्रकार का मेडिकेशन लेने से पहले चाहे वह हर्बल हो या एलोपेथिक डॉक्टर से जरूर पूछे। यीस्ट प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन संबंधी अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, उपचार और निदान प्रदान नहीं करता।

और पढ़ें:

फंगल इंफेक्शन से राहत पाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय

 क्यों होता है सेक्स के बाद योनि में इंफेक्शन?

क्यों होता है सेक्स के बाद योनि में इंफेक्शन?

लेडीज! जानिए सेक्स के बाद यूरिन पास करना क्यों जरूरी है

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Nicotex: निकोटेक्स क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    जानिए निकोटेक्स (Nicotex) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, निकोटेक्स डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

    स्मोकर्स के लिए 6 जरूरी मेडिकल टेस्ट, जो एलर्ट करते हैं बड़ी हेल्थ प्रॉब्लम के बारे में

    यदि आप भी सिगरेट पीते हैं तो आपको पता होना चाहिए कि स्मोकर्स के लिए मेडिकल टेस्ट कराना क्यों जरूरी है और कौन-कौन से टेस्ट है जो हर स्मोकर्स को कराने चाहिए।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
    धूम्रपान छोड़ना, स्वस्थ जीवन मई 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    प्रेग्नेंसी में मूली का सेवन क्या सुरक्षित है? जानें इसके फायदे और नुकसान

    प्रेग्नेंसी में मूली का सेवन करना कितना सेफ है, प्रेग्नेंसी में मूली का सेवन करने के फायदे इन हिंदी, eat radish in pregnancy and radish benefit in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

    क्या-क्या हो सकते हैं प्रेग्नेंसी में रोने के कारण?

    जानिए प्रेग्नेंसी में रोने के कारण क्या हो सकते हैं? गर्भावस्था में किसी भी बात आ जाता है रोना? शिशु को जन्म देने वाली मां का स्वभाव हो जाता है बच्चों जैसा? pregnancy me jyada rone se kya hota hai.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    असली लेबर पेन क्विज, labour pain

    असली लेबर पेन में दिख सकते हैं ये लक्षण, जानकारी है तो खेलें क्विज

    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रकाशित हुआ नवम्बर 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    स्मोकिंग सर्वे - smoking survey

    क्या आप छोड़ना चाहते हैं स्मोकिंग की लत?

    के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
    प्रकाशित हुआ अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    गर्भावस्था में अमरूद खाना

    गर्भावस्था में अमरूद खाना सही है या नहीं, इसके फायदे और नुकसान को जानें

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    प्रकाशित हुआ अगस्त 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    6 मंथ प्रेग्नन्सी डाइट चार्ट, pregnancy diet chart 6 month

    6 मंथ प्रेग्नेंसी डाइट चार्ट : इस दौरान क्या खाएं और क्या नहीं?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu sharma
    प्रकाशित हुआ जुलाई 20, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें