home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

अगर डैंड्रफ या रूसी के कारण ब्लैक ड्रेस पहनना छोड़ दिया है तो ये घरेलू उपाय आजमाएं

अगर डैंड्रफ या रूसी के कारण ब्लैक ड्रेस पहनना छोड़ दिया है तो ये घरेलू उपाय आजमाएं

डैंड्रफ और रूसी की समस्या से आजकल हर कोई जूझ रहा है, हो भी क्यों न। अब तो पूरे भारत में डैंड्रफ और रूसी की समस्या सताने लगी है। मौजूदा समय में विकास, बढ़ती इंडस्ट्री और पेड़ों की कटाई के कारण हवा में उड़ते धूल-कणों का खामियाजा हम सभी लोगों को उठाना पड़ रहा है। इसके कारण डैंड्रफ या रूसी के साथ स्किन सहित कई प्रकार की बीमारी से जूझना पड़ रहा है। बहरहाल, तरक्की के साथ हमें अपनी हिफाजत की भी सोचनी होगी। डैंड्रफ एक प्रकार की स्किन से जुड़ी समस्या है, इसके कारण स्कैल्प प्रभावित होता है। वहीं लोगों को सिर में खुजली के साथ सिर में ग्रिसी पैचेस (greasy patches) जैसे उभार दिखते हैं। वहीं आपने महसूस भी किया होगा कि जो लोग डैंड्रफ की बीमारी से ग्रसित होते हैं उनके सिर पर ब्राउन पदार्थ झड़ता है, जो उनके शर्ट या सूट पर दिखने के साथ कई बार बालों से चिपका हुआ दिखाई देता है। जरूरी है कि वैसे लोग ड्रैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय को आजमाकर समस्या से निजात पा सकते हैं। तो आइए इस आर्टिकल में हम उन समस्याओं का कैसे घर पर निदान करें इसके बारे में विस्तार से चर्चा करते हैं।

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय (Home remedies for Summer) जानने से पहले जानें कारण

वैसे तो मार्केट में मिलने वाली कई दवाएं और शैंपू यह दावा करती हैं कि वो डैंड्रफ का शत प्रतिशत इलाज करती है। वहीं मौजूदा समय में कई हर्बल और नेचुरल प्रोडक्ट भी बाजार में उपलब्ध है जिनसेडैंड्रफ का इलाज किया जा सकता है। लेकिन डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय में हम कई अन्य चीजों का इस्तेमाल करके भी इस समस्या से निजात पा सकते हैं।

[mc4wp_form id=”183492″]

टी ट्री ऑयल (Tea Tree oil) है कारगर

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय में हम टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह ऑयल मेलालियूसा अल्टरनीफोलिया (Melaleuca alternifolia) प्लांट से मिलता है। पुराने समय में इस प्लांट के तेल का इस्तेमाल कई प्रकार की बीमारी को ठीक करने के लिए किया जाता था। जैसे एक्ने, एथलीट फुट और डर्मेटाइटिस जैसी बीमारियों का इलाज इससे किया जाता था।

बता दें कि टी ट्री ऑयल में ए क खास तत्व पाया जाता है टेरपिन 4 (terpinen-4) कहते हैं। इसमें काफी मात्रा में एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टी होती हैं। इसमें मौजूद इस तत्व के कारण डैंड्रफ कम होता है। वहीं स्काल्प के बैक्टीरिया खत्म होते हैं।

2018 में हुए एक शोध के अनुसार भारतीय महिलाओं पर शोध किया गया, वहीं पाया गया कि इसके इस्तेमाल के बाद उनमें डैंड्रफ की समस्या से निजात मिली। 2017 के एक शोध के अनुसार यह पता किया गया कि टी ट्री ऑयल में मौजूद तत्व एस एपिडरमिस बैक्टीरिया (S. epidermidis bacteria) को खत्म करने में मदद करता है।

बता दें कि टी ट्री ऑयल को सीधे स्काल्प पर लगाने से जलन और रैशेज की समस्या हो सकती है। ऐसे में लोगों को सुझाव दिया जाता है कि वो टी ट्री ऑयल को शैंपो में डालकर इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसे में उन्हें इस प्रकार की समस्या नहीं होगी। वहीं बाजार में कई ऐसे शैंपो भी उपलब्ध हैं जिसमें टी ट्री ऑयल पाया जाता है।

और पढ़ें : इन हेयर केयर ऑयल के फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे आप

नारियल तेल (Coconut oil) का इस्तेमला कर पाएं समस्या से निजात

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय के लिए नारियल का तेल सबसे अच्छा होता है। शुरुआती दौर में डैंड्रफ से निजात दिलाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता था। नारियल का तेल सिर को नमी प्रदान करता है वहीं ड्रायनेस को दूर करता है। इस कारण डैंड्रफ की परेशानी दूर होती है। स्किन हाइड्रेशन को लेकर करीब 34 लोगों पर शोध किया गया, जिसमें पाया कि सामान्य मिनरल ऑयल की तुलना में नारियल का तेल बेहतर होता है यह सिर को नमी प्रदान करता है। अन्य शोध से यह भी पता चला कि नारियल तेल से एक्जिमा का इलाज संभव है। वहीं इससे खुजली और जलन भी कम होता है। यदि कोई आठ सप्ताह तक नारियल के तेल को लगाता है तो मिनरल ऑयल की तुलना में एक्जिमा जैसे लक्षणों में 68 फीसदी कमी आती है वहीं मिनरल ऑयल से 38 फीसदी ही लोगों को लाभ पहुंचता है। नारियल के तेल में कई एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टी होती है।

लेमनग्रास ऑयल (Lemongrass oil)भी है फायदेमंद

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय में लेमनग्रास ऑयल काफी फायदेमंद माना जाता है। सालों पहले इसका इस्तेमाल औषधियों गुणों के लिए किया जाता था, वहीं इससे डायजेस्टिव इशू के साथ लोअर ब्लड प्रेशर और तनाव को कम करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता था। लेमनग्रास ऑयल में एंटीमाइक्रोबायल के साथ एंटी इम्फ्लेमेटरी प्रापर्टी पाई जाती है, इसे डैंड्रफ कम किया जा सकता है। 2015 में छपे शोध के अनुसार हेयर टॉनिक में लेमनग्रास के तत्व पाए जाते हैं। इसका इस्तेमाल कर करीब दो सप्ताह में हम देख सकते हैं कि 81 फीसदी तक डैंड्रफ कम होता है। टी ट्री ऑयल की तरह की लेमनग्रास ऑयल यदि सीधे सिर पर लगाया जाए तो इरीटेशन के साथ एलर्जिक रिएक्शन की संभावनाएं होती है। ऐसे में यदि आप इसका इस्तेमाल करना चाहते हैं तो इसे तेल के साथ मिलाकर या फिर शैंपू में इसकी कुछ बूंदों को मिलाकर इस्तेमाल किया जाए तो काफी फायदा पहुंचता है।

एलोवेरा का इस्तेमाल (Alovera) कर पाएं समाधान

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय में आप एलोवेरा का इस्तेमाल कर समस्या से निजात पा सकते हैं। एलोवेरा को स्किन ऑइंटमेंट, कॉस्मेटिक्स और लोशन में लगाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। इसे स्किन पर लगाने से हमें स्किन संबंधी परेशानी जैसे बर्न, सोरायसिस, कोल्स सोर जैसी समस्याओं से निजात मिलता है। वहीं यह डैंड्रफ के लिए भी लाभकारी है। हालिया शोध के अनुसार एलोवेरा में एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल प्रॉपर्टी होने के कारण यह हमें डैंड्रफ सहित अन्य परेशानियों से निजात दिलाता है।

वहीं टेस्ट ट्यूब पर आधारित स्टडी के अनुसार पाया है कि एलोवेरा से कई प्रकार की फंगस का इलाज संभव है। वहीं यह फंगल इंफेक्शन को कंट्रोल करने में मदद करता है। इससे बालों का झड़ने के साथ स्काल्प संबंधी परेशानियां नहीं होती है।

त्वचा और बालों की देखभाल कैसे करें यह जानने के लिए वीडियो देख एक्सपर्ट की लें राय

ओमेगा 3 फैटी एसिड भी है कारगर

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय के लिए हम चाहें तो ओमेगा 3 फैटी एसिड का सेवन कर फायदा उठा सकते हैं। यह लोअर ब्लड प्रेशर को सामान्य करने में, दिल और दिमाग को सुचारू रूप से काम करने में भी मदद करता है। शरीर में फैटी एसिड की कमी के कारण हमें कुछ समस्याएं हो सकती है, जैसे डैंड्रफ, ब्रिटल नेल ( brittle nails) और ड्राय स्किन की परेशानी हो सकती है।

ओमेगा 3 से मिलने वाली स्किन संबंधी लाभ, जैसे

वैसे खाद्य पदार्थ जिनमें काफी मात्रा में ओमेगा 3 पाया जाता है, यदि आप उसका सेवन करें तो इन समस्याओं से निजात पा सकते हैं। इसके लिए सैल्मन मछली, मेकरियल मछली के साथ वालनट्स आदि का सेवन कर सकते हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार व्यस्कों को दिन में करीब 1.1 से 1.6 ग्राम ओमेगा 3 फैटी एसिड का सेवन प्रति दिन करना चाहिए।

और पढ़ें : इन टिप्स से हेयर स्ट्रेटनर से बालों को स्ट्रेट करना होगा आसान

स्ट्रेस लेवल को कंट्रोल (How to contro your Stress Level) कर घटाएं डैंड्रफ

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय के लिए हमें स्ट्रेस लेवल को भी मेनटेन करने की जरूरत होती है। स्ट्रेस डैंड्रफ का मुख्य कारण नहीं है, लेकिन माना जाता है कि स्ट्रेस ड्रायनेस, खुजली जैसी समस्याओं को बढ़ा सकता है जो डैंड्रफ का कारण बनता हैं। लंबे समय तक यदि कोई व्यक्ति तनाव में रहे तो उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी आती है। वहीं वैसे लोग जिनमें इम्मुनिटी पावर कम होती है वो बीमारियों से लड़ नहीं पाते हैं और फंगल इंफेक्शन के पनपने के कारण डैंड्रफ से ग्रसित होते हैं। सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस (seborrheic dermatitis) की बीमारी से जूझ रहे करीब 82 लोगों पर शोध किया गया, उसमें पाया कि तनावपूर्ण जिंदगी के कारण उन्हें डैंड्रफ जैसी समस्या हुई है। ऐसे में अपने तनाव को नियंत्रण में रखने के लिए जरूरी है कि स्ट्रेस रिडक्शन टेक्निक का इस्तेमाल किया जाए। इसके लिए आप चाहें तो ध्यान करने के साथ योगा, डीप ब्रिदिंग एक्सरसाइज और एरोमाथेरेपी के द्वारा इलाज करा सकते हैं।

क्विज खेल जानें कि आप बालों का कितना ख्याल रखते हैं : Quiz: ये क्विज बताएंगे बालों का कितना ख्याल है आपको?

बेकिंग सोडा का इस्तेमाल

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय के लिए आप चाहें तो बेकिंग सोडा का इस्तेमाल कर सकते हैं। सोडियम बाइ कार्बोनेट को कई लोग बेकिंग सोडा के नाम से जानते हैं। यह डैंड्रफ को कम करने में मदद करता है। बेकिंग सोडा में ऐसे तत्व होते हैं जो हमारे स्काल्प से अत्यधिक स्किन सेल्स और ऑयल को निकालने में मदद करते हैं। बेकिंग सोडा में एंटीफंगल प्रॉपर्टी भी होती है, जो हमें डैंड्रफ का मुख्य कारण फंगल से लड़ने में मदद करता है। बेकिंग सोडा में हाई पीएच लेवल होता है, यह लोगों के स्काल्प को डैमेज तक कर सकता है। इसलिए जरूरी है कि लगातार इसका इस्तेमाल न किया जाए। वहीं अत्यधिक बेकिंग सोडा का इस्तेमाल करने से संभव है कि सिर में इरीटेशन जैसी समस्याएं हो, ऐसे में इसका इस्तेमाल काफी सावधानी से किया जाना चाहिए।

और पढ़ें : हेयर कलर आईडिया : ट्रेंड में हैं ये 7 कलर्स, ऐसे पाएं एकदम नया लुक

एप्पल साइडर विनेगर (Apple cider vinegar) का नियमित तौर पर करें इस्तेमाल

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय के लिए एप्पल साइर विनेगर का इस्तेमाल कर समस्या से निजात पा सकते हैं। वहीं एप्पल साइडर विनेगर के कई हेल्थ बेनीफिट्स हैं। यह इंसुलिन सेंसिटिविटी को सामान्य रखने के साथ वजन घटाने में भी काफी मददगार है। यही कारण है कि डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। एप्पल साइडर विनेगर पीएच लेवल को बैलेंस करने के साथ फंगस को पनपने से रोकता है और डैंड्रफ को हटाता है।

एसप्रिन भी दिला सकता है डैंड्रफ से मुक्ति

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय के लिए आप चाहें तो एसप्रिन का इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि एसप्रिन में सबसे अहम तत्व सैलिसिलिक एसिड (Salicylic acid) पाया जाता है। वहीं इसमें एंटी इम्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टी होती है। वहीं सैलिसिलिक एसिड कई शैंपो में पाया जाता है। यह स्केली स्किन को हटाने में मदद करता है। एक शोध के अनुसार 19 कुछ लोगों को पिरोक्टोन ओलायमाइन ( piroctone olamine) सहित सैलिसिलिक एसिड (salicylic acid) और जिंक पिरिथिओन (zinc pyrithione) इस्तेमाल करने के लिए दिया, पाया कि करीब चार सप्ताह तक इस्तेमाल के बाद लोगों का डैंड्रफ कम हुआ है। वहीं जिस शैंपो में सैलिसिलिक एसिड था उसने डैंड्रफ कम करने के साथ स्केलिंग की समस्या का भी समाधान किया। लेकिन इसका इस्तेमाल बिना डॉक्टरी सलाह के कतई न करें। उनसे सलाह लेने या फिर किसी हेल्थ एक्सपर्ट की सलाह लेने के बाद ही इसका इस्तेमाल करना उचित होता है।

और पढ़ें : हेयर केयर के घरेलू नुस्खे: बालों की समस्या दूर करने के लिए अपनाएं ये 7 होम रेमेडीज

जिंक का करें इस्तेमाल (Zinc Usues)

जिंक का इस्तेमाल डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय के लिए कर सकते हैं। जिंक एक प्रकार का मिनरल है, जो शरीर के इम्यून सिस्टम को स्पोर्ट कर सेल्स ग्रोथ करने में मदद करता है। लोग चाहे तो वो एनिमल प्रोटीन, नट्स और होल ग्रेन्स से जिंक ले सकते हैं। एनआईएच के अनुसार जिंक की कमी होने की वजह से बालों का झड़ना, डायरिया और नपुंसकता सहित स्किन लेसियंस जैसी समस्याएं आती हैं। 2016 के शोध से पता चला कि शरीर में जिंक की कमी होने के कारण सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस और डैंड्रफ की कमी होती है। कई शैंपू में जिंक पिरिथिओन पाया जाता है वहीं, यह फंगल ग्रोथ को कम करने के साथ स्काल्प पर जमे अत्यधिक स्किन सेल्स को भी कम करता है।

ज्यादा से ज्यादा प्रोबायटिक्स का सेवन कर समस्या से पाएं निजात

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय के लिए ज्यादा से ज्यादा प्रोबायटिक का सेवन कर हम समस्या से निजात पा सकते हैं। प्रोबायटिक हमारे शरीर के लिए अच्छे बैक्टीरिया होते हैं। वहीं प्रोबायटिक के कई हेल्थ बेनीफिट्स होते हैं। यह हमें एलर्जी के साथ लोअर कोलेस्ट्रोल लेवल में सुधार करने के साथ वजन बढ़ाने में मदद करता है। प्रोबायटिक हमारे इम्मयुन फंक्शन को ठीक करने में भी मदद करता है। यह फंगल इंफेक्शन से लड़कर डैंड्रफ जैसी समस्याओं को कम करता है। एक शोध से पता किया गया कि करीब 56 दिनों तक प्रोबायटिक लेने से करीब 60 लोगों में डैंड्रफ की समस्या से मुक्ति मिली। माना जाता है कि प्रोबायटिक्स का सेवन कर हम अन्य प्रकार की बीमारी जैसे एक्जिमा, डर्मेटाइटिस जैसी बीमारियों से निजात मिलता है। खासतौर पर छोटे बच्चों में इस प्रकार की समस्या नहीं देखने को मिलती है। मौजूदा समय में प्रोबायटिक कई डोज में उपलब्ध है। जिसका सेवन कर हम समस्या से निजात पा सकते हैं।

और पढ़ें : Fun Facts: कर्ली बालों वाली लड़कियों को हर किसी से मिलता है इस तरह का ज्ञान

खानपान में बदलाव कर

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय के लिए हम खानपान पर ध्यान देकर समस्या से निजात पा सकते हैं। खानपान हमारे शरीर पर काफी महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। खानपान डैंड्रफ का मुख्य कारण नहीं है लेकिन इससे जुड़े अन्य कारणों को और भी बदतर करता है। इस विषय पर कम शोध हुए हैं। वहीं एक शोध के अनुसार इम्फ्लेमेटरी स्किन डिसऑर्डर और सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस की बीमारी में खानपान काफी अहम रोल अदा करता है।

फल व सब्जियों में जरूरी विटामिन्स, मिनरल्स, एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो जलन को कम करने में मदद करते हैं। हाल में ही करीब 4379 लोगों पर शोध किया गया। इसमें पाया कि वैसे लोग जो ज्यादा फल खाते थे उनमें दूसरों की अपेक्षा कम सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस की बीमारी देखी गई। शोध से यह भी पता चला कि महिलाओं में पारंपरिक वेस्टर्न डाइट का सेवन करने से सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस की बीमारी होने की संभावनाएं अधिक रहती है।

2018 में हुए शोध के अनुसार पता चला कि बायोटिन की डेफिशिएंशी के कारण सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस के साथ कई प्रकार के स्किन डिसऑर्डर संबंधी परेशानी हो सकती है। बायोटिन को विटामिन बी 7 भी कहा जाता है, यह हमारे हेल्दी हेयर, नाखून और स्किन को जवां रखने में मदद करता है। बायोटिन रिच फूड में आप चाहें तो इन खाद्य पदार्थों को शामिल कर डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय आजमा सकते हैं। इनमें-

  • न्यूट्रिशनल यीस्ट
  • सालमन
  • नट्स
  • एग यॉक
  • लिवर

डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय (Home remedies for Summer) हैं कितने कारगर

ऊपर बताए गए तमाम इंतजाम को अपनाकर आप डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय आजमा सकते हैं। क्योंकि डैंड्रफ एक प्रकार का स्किन कंडीशन है इसके कारण सिर में खुजली, फ्लेकी स्किन व परतदार त्वचा के साथ स्कैल्प में कई प्रकार की परेशानी आती है। यह लोगों की पर्सनल और जीवन को प्रभावित करता है। कुछ शोध से यह पता चला है कि नेचुरल तरीकों को आजमाकर या यूं कहें डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय को आजमाकर हम समस्या से निजात पा सकते हैं। लेकिन यह तर्क भी सही है कि सभी घरेलू नुस्खें हर किसी के लिए नहीं है। तो ऐसे में जो भी व्यक्ति स्किन कंडीशन के साथ एक्जिमा और सोरायसिस जैसी बीमारी से जूझ रहा है उन्हें डॉक्टर से बात कर नए घरेलू उपाय को आजमाना चाहिए वहीं डैंड्रफ या रूसी के घरेलू उपाय को आजमाकर जिन्हें आराम मिलता है और रिजल्ट दिखाई देते हैं तो उन्हें यह ट्राई करते रहना चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Seborrheic Dermatitis and Dandruff/ https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4852869/ / Accessed on 7th August 2020

 

Anti-dandruff Hair Tonic Containing Lemongrass (Cymbopogon flexuosus) Oil/ https://www.karger.com/Article/Abstract/432407 / Accessed on 7th August 2020

 

 

A novel cosmetic antifungal/ https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/28121079/ / Accessed on 7th August 2020

 

 

Dementia, diarrhea, desquamating shellac-like dermatitis revealing late-onset cobalamin C deficiency/ https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5771731/ / Accessed on 7th August 2020

 

The Review on Properties of Aloe Vera in Healing of Cutaneous Wounds/ https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4452276/ / Accessed on 7th August 2020

 

The Effect of Aloe Vera Clinical Trials on Prevention and Healing of Skin Wound: A Systematic Review/ https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6330525/ / Accessed on 7th August 2020

 

Omega-3 Fatty Acid and Nutrient Deficits in Adverse Neurodevelopment and Childhood Behaviors/ https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4175558/ / Accessed on 7th August 2020

 

 

Stress Sensitivity in Patients with Atopic Dermatitis/ https://www.jstage.jst.go.jp/article/jnms/81/3/81_148/_article/-char/ja/ / Accessed on 7th August 2020

 

Omega-3 Fatty Acids/ https://ods.od.nih.gov/pdf/factsheets/Omega3FattyAcids-Consumer.pdf / Accessed on 7th August 2020

 

 

Commercial Essential Oils as Potential Antimicrobials to Treat Skin Diseases/ https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5435909/ / Accessed on 7th August 2020

 

The effect of topical virgin coconut oil/ https://onlinelibrary.wiley.com/doi/full/10.1111/ijd.12339 / Accessed on 7th August 2020

 

 

Comparison of Healthy and Dandruff Scalp Microbiome Reveals the Role of Commensals in Scalp Health/ https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6180232/ / Accessed on 7th August 2020

 

 

In vitro anti-inflammatory and skin protective properties of Virgin coconut oil/ https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S2225411017300871 / / Accessed on 7th August 2020

 

 

 

Zinc/ https://ods.od.nih.gov/factsheets/Zinc-HealthProfessional/ /Accessed on 7th August 2020

लेखक की तस्वीर badge
Satish singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 09/03/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड