home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डैंड्रफ से लेकर मुंहासे तक के लिए फायदेमंद है लैवेंडर ऑयल

डैंड्रफ से लेकर मुंहासे तक के लिए फायदेमंद है लैवेंडर ऑयल

लैवेंडर ऑयल को सामान्यतः भाप आसवन द्वारा लैवेंडर के पौधों से निकाला जाता है। परंपरागत रूप से इसे एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। एरोमाथेरेपी में भी इसका प्रयोग होता है, क्‍योंकि यह दिमाग को सुकून पहुंचाता है। इसमें एंटीसेप्टिक व दर्दनिवारक गुण होते हैं। जिसकी वजह से इसका इस्तेमाल मामूली जलने, कीड़े के काटने या डंक लगने आदि के इलाज में भी इस्तेमाल किया जाता है। जानते हैं लैवेंडर ऑयल के लाभ:

1. आंखों के लिए लैवेंडर ऑयल

लैवेंडर के तेल से आंखों की थकान दूर होती है। इसके उपयोग के लिए एक कटोरे में आधा लीटर पानी लें और उसमें कुछ बूंदे लैवेंडर ऑयल की डालें। इससे अच्छी तरह से मिलाने के बाद कॉटन बॉल को इस मिश्रण में डालें। अब इस कॉटन को आंखों पर 5 मिनट के लिए रखें। इससे आंखों की थकान दूर होती है। यह डार्क सर्कल से बचाव भी कर सकता है।

और पढ़ें : अरंडी के तेल के साथ इन 6 चीजों से पाएं घनी पलकें, अपनाएं ये घरेलू उपाय

2. लैवेंडर ऑयल से मुहांसे से मिलेगा छुटकारा

ज्यादातर लड़कियां मुहांसे की समस्या से परेशान रहती हैं लेकिन,अगर आप मुहांसे की समस्या से जल्द से जल्द छुटकारा पाना चाहती हैं तो लैवेंडर ऑइल का इस्तेमाल करें। इससे स्किन पर होने वाली जलन से भी छुटकारा मिल सकता है। नहाते समय पानी में कुछ बूंदें लैवेंडर ऑयल (lavender oil) की डालें। किसी स्क्रब में भी इस तेल का इस्तेमाल कर सकती हैं।

और पढ़ें : स्किन पॉलिशिंग के बारे में क्या नहीं जानते आप? इससे ऐसे त्वचा निखारें

3.लैवेंडर ऑयल से जलने के निशान होंगे खत्म

अगर चाय बनाते हुए, रोटियां सेंकते हुए या किसी अन्य वजह से जलने का निशान पड़ गया है तो उस निशान पर लैवेंडर ऑयल का इस्तेमाल कर सकते हैं। लैवेंडर ऑयल की कुछ बूंदे जले हुए निशान पर लगानी हैं। यह ऑइल जले हुए निशान पर बेहतर ढंग से काम करता है।

4.लैवेंडर ऑयल से सिरदर्द और माइग्रेन

लैवेंडर ऑयल में एक ऐसी खुशबू (अरोमा) होती है जो कि इसे एक उत्कृष्ट टॉनिक बनाती है। यह सिरदर्द, चिंता, अवसाद, तंत्रिका तनाव और भावनात्मक तनाव को ठीक करने में सहायक होता है।

और पढ़ें : दुनियाभर में फिर तेजी से फैल रही ये बीमारी, WHO को सता रही इस बात की चिंता

5. अनिद्रा को दूर करेगा लैवेंडर ऑयल

लैवेंडर का तेल नींद न आने की समस्या को दूर करता है। यह तेल नींद की गुणवत्ता और अवधि में सुधार करता है। अनिंद्रा कई रोगों का कारण बनती है, यह लैवेंडर ऑयल इसके लिए एक कारगर उपाय है।

6.घाव व खरोंच

शक्तिशाली एंटीसेप्टिक गुणों के चलते लैवेंडर का तेल सेल के विकास को बढ़ा सकता है और घाव के ऊतक के गठन में सहायता करता है। इसलिए इसे घावों, जले हुए और सन बर्न (sun burn) को तेजी से ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। लैवेंडर का तेल कोलेजन को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे घावों को जल्दी भरने में मदद मिलती है।

और पढ़ें : बीच के किनारे जाने से पहले क्यों जरुरी है ट्रेवल किट में सनस्क्रीन क्रीम

7. पाचन

लैवेंडर ऑयल आंत की गतिशीलता को बढ़ा देता है। इसके अलावा यह आमाशय रस के उत्पादन को भी बढ़ाता है, और इस तरह से अपच, पेट में दर्द, पेट फूलना, उल्टी और दस्त आदि का इलाज करता है।

8. डैंड्रफ होगा दूर लैवेंडर ऑयल

अगर आपके बालों में डैंड्रफ रहता है और इसकी वजह से आपके बाल झड़ रहे हैं तो आपको जल्द से जल्द लैवेंडर ऑइल का इस्तेमाल करना शुरू कर देना चाहिए। इससे आपके बालों से डैंड्रफ खत्म हो जाएगा और साथ ही इससे आपके बाल काफी चमकदार नजर आएंगे। लैवेंडर ऑइल की कुछ बूंदें बादाम या फिर नारियल के तेल के साथ मिला लें और इसे बालों में लगाएं।

और पढ़ें : दो मुंहे बाल और डैंड्रफ को कम कर सकता है ऑलिव ऑयल

9.लैवेंडर ऑयल जी मिचलाना कम करे

खाने से एलर्जी, गैस या किसी दवाई के दुष्प्रभाव के रूप में उल्टी या जी मिचलाना आम बात है। ऐसे में लैवेंडर ऑयल की अरोमाथेरेपी लेने से आराम मिल सकता है। शोध में पाया गया है कि यह रोज (गुलाब) एसेंशियल ऑयल की तुलना में बेहतर परिणाम देता है। इसके लिए आप लैवेंडर ऑयल की कुछ बूंदें डिफ्यूजर में डालकर कमरे में रख सकते हैं।

10.लैवेंडर ऑयल नेचुरल परफ्यूम की तरह करे काम

लैवेंडर की प्यारी से खुशबू का इस्तेमाल परफ्यूम के रूप में भी किया जा सकता है। साथ ही इसके इस्तेमाल से मूड भी ठीक रहता है और आप फ्रेश भी महसूस करते हैं। आप चाहें तो लैवेंडर ऑयल की कुछ बूंदे अपने नहाने के पानी में भी डाल सकते हैं। चाहें तो लैवेंडर ऑयल की कुछ बूंदें अपनी कलाई और गले के आसपास लगा सकते हैं।

11.लैवेंडर ऑयल टोनर की तरह करे इस्तेमाल

लैवेंडर ऑयल में सूदिंग इफेक्ट्स होते हैं, जो स्किन को आराम पहुंचाने में मदद करते हैं। साथ ही इसमें एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो त्वचा को साफ रखने में मदद कर सकते हैं। इसके इन गुणों की वजह से इसका उपयोग टोनर के रूप में किया जा सकता है।

और पढ़ें : सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर है जरूरी, शुष्क मौसम छीन लेता है त्वचा की नमी

लैवेंडर तेल का उपयोग किस तरह किया जा सकता है?

नीचे बताए गए तरीकों से लैवेंडर ऑयल का प्रयोग किया जा सकता है-

  • अरोमाथेरेपी (aromatherapy) : अरोमाथेरेपी के लिए लैवेंडर ऑयल की तीन से चार बूंदें डिफ्यूजर में डाल कर कमरे में रख सकते हैं।
  • मसाज (massage): आप चाहें तो नारियल, ऑलिव ऑयल (olive oil) या किसी अन्य बॉडी मसाज के लिए उपयोग होने वाले तेल में लैवेंडर ऑयल की तीन से चार बूंदें डालकर उससे अपनी बॉडी या स्कैल्प की मसाज कर सकते हैं।
  • फेस मास्क (face mask) : पिंपल या डर्मेटाइटिस की समस्या से निजात पाने के लिए फेस मास्क या फेस पैक में लैवेंडर ऑयल की दो से तीन बूंदें मिलाई जा सकती हैं। लेकिन, इसके उपयोग से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

और पढ़ें : मुंहासों के लिए कैसे बनाएं दालचीनी और शहद का मास्क?

लैवेंडर ऑयल के नुकसान

लैवेंडर ऑयल के फायदे जानने के बाद लैवेंडर तेल के नुकसान के बारे में भी जानना जरूरी है। इस तेल के इस्तेमाल से कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं जैसे-

  • लैवेंडर ऑयल शरीर में एस्ट्रोजन (फीमेल हॉर्मोन) को बढ़ाकर एंड्रोजन (पुरुष हॉर्मोन) को कम करता है।
  • जिन लोगों को लैवेंडर से एलर्जी है, उन्हें इस तेल का उपयोग करने से बचना चाहिए।
  • लैवेंडर के तेल उपयोग ज्यादा मात्रा में करने से कुछ लोगों को मतली, उल्टी और सिरदर्द (headache) जैसी समस्या हो सकती है।
  • गर्भवती और ब्रेस्टफीडिंग करवाने वाली महिलाओं को लैवेंडर ऑयल का सेवन न करने की सलाह दी जाती है।

आपको बता दें कि यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) ने औषधीय उपयोग के लिए लैवेंडर को मंजूरी नहीं दी है। इसलिए अगर आप इस लैवेंडर ऑयल का उपयोग करना चाहते हैं तो केवल प्रतिष्ठित कंपनियों से ही तेल को खरीदें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Prepubertal gynecomastia linked to lavender and tea tree oils. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/17267908/ Accessed on 23 Jan 2020

Antimicrobial efficacy of five essential oils against oral pathogens: An in vitro study. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4054083/  Accessed on 23 Jan 2020

Influence of Fragrances on Human Psychophysiological Activity: With Special Reference to Human Electroencephalographic Response. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5198031/ Accessed on 23 Jan 2020

Nausea and vomiting – adults. https://medlineplus.gov/ency/article/003117.htm Accessed on 23 Jan 2020

A randomized placebo-controlled study of aromatherapy for the treatment of postoperative nausea and vomiting. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/30670276 Accessed on 23 Jan 2020

Wound healing potential of lavender oil by acceleration of granulation and wound contraction through induction of TGF-β in a rat model. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4880962/ Accessed on 23 Jan 2020

What are the health benefits and risk of lavender?. https://www.medicalnewstoday.com/articles/265922.php Accessed on 23 Jan 2020

The Essential Oil of Lavender to Help You Relax. https://www.aurorahealthcare.org/patients-visitors/blog/4-ways-to-use-the-essential-oil-of-lavender-to-help-you-relax Accessed on 23 Jan 2020

The Healing Oil: A Complete Guide To Lavender Oil. https://www.lifehack.org/583627/the-healing-oil-complete-guide-lavender-oil Accessed on 23 Jan 2020

 

लेखक की तस्वीर
Sushmita Rajpurohit द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/09/2020 को
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x