home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

न्यूरोब्लास्टोमा : कितने गंभीर हो सकते हैं इस कैंसर के लक्षण?

न्यूरोब्लास्टोमा : कितने गंभीर हो सकते हैं इस कैंसर के लक्षण?

कैंसर की शुरुआत तब होती है जब शरीर में सेल्स अनियंत्रित तरीके से बढ़ना शुरू हो जाते हैं। शरीर के किसी भी भाग के सेल्स कैंसर का कारण बन सकते हैं और शरीर के अन्य हिस्सों में फैल सकते हैं। ऐसा ही एक कैंसर है, जिसे न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) कहा जाता है। अधिकतर लोगों ने इस कैंसर के बारे में नहीं सुना होगा, लेकिन यह नवजात शिशुओं में पाया जाने वाला सबसे सामान्य तरह का कैंसर है। आइए, जानते हैं इस कैंसर के बारे में विस्तार से।

न्यूरोब्लास्टोमा क्या है ? (Neuroblastoma)

न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) वो कैंसर है जो शरीर के कई क्षेत्रों में पाए जाने वाली इमेच्योर नर्व सेल्स (Immature Nerve Cells) से विकसित होता है। यह कैंसर अधिकतर एड्रिनल ग्लैंड (Adrenal Gland) में और उसके आसपास उत्पन्न होता है, जो नर्व सेल्स के समान होते हैं। हालांकि, न्यूरोब्लास्टोमा पेट, छाती और स्पायनल के पास के किसी भी भाग में विकसित हो सकता है, जहां नर्व सेल्स के समूह मौजूद होता है। यह कैंसर सामान्य तौर पर पांच साल या उससे भी कम उम्र के बच्चों प्रभावित करता है। यह इससे अधिक उम्र के बच्चों में बहुत कम पाया जाता है। न्यूरोब्लास्टोमा के कुछ प्रकार अपने आप ही ठीक हो जाते हैं, जबकि कई अन्य प्रकारों को मल्टीपल उपचारों की आवश्यकता हो सकती है। प्रभावित बच्चे में न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) का उपचार कई फैक्टर्स पर निर्भर करता है। जानिए, क्या हैं इसके लक्षण?

और पढ़ें : स्टेज 3 सर्वाइकल कैंसर: कैंसर के लक्षणों और इलाज को समझें यहां!

न्यूरोब्लास्टोमा के लक्षण (Symptoms of Neuroblastoma)

न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) के प्रभाव अलग हो सकते हैं और यह बात पर निर्भर करता है कि यह रोग सबसे पहले कहा शुरू हुआ था, कैंसर कितना ग्रो हो चुका है और यह शरीर के अन्य भागों तक कितना फैल चुका है। यह कैंसर अधिकतर पेट में शुरू होता है और इसके लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

  • पेट में दर्द (Abdominal Pain)
  • स्किन के नीचे मास जो छूने पर नाजुक न हो (Mass under the Skin)
  • बॉवेल हैबिट्स में बदलाव जैसे डायरिया या कब्ज (Changes in Bowel Habits)

छाती में इस समस्या के लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

और पढ़ें : एक्यूट लिम्फोसाइटिक ल्यूकेमिया के लिए टार्गेटेड थेरिपी: इन ड्रग्स से रोका जाता है कैंसर को फैलने से

इस समस्या के अन्य लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं

अगर आपको अपने बच्चे में इनमें से कोई भी लक्षण नजर आते हैं, तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें। इसके साथ ही अपने बच्चे के व्यवहार और आदतों पर भी नजर रखें। अब जानते हैं इस समस्या से जुड़े कारणों के बारे में।

और पढ़ें : ब्रेस्ट कैंसर में कायनेज इन्हिबिटर्स के प्रयोग के बारे में क्या आप जानते हैं?

न्यूरोब्लास्टोमा के कारण कौन से हैं? (Causes of Neuroblastoma)

न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) तब होता है जब इमेच्योर नर्व टिश्यूज (Immature Nerve Tissues ) अनियंत्रित रूप से ग्रो होती है। इस स्थिति में यह सेल्स एब्नार्मल हो जाते हैं और इनका ग्रो व डिवाइड होना जारी रहता है, जिससे ट्यूमर बनता है। जेनेटिक म्युटेशन (Genetic Mutation) सेल्स के बढ़ने और अनियंत्रित रूप से विभाजित होने का कारण हो सकता है। लेकिन, डॉक्टर इस बात को लेकर निश्चित नहीं हैं कि आनुवंशिक उत्परिवर्तन का क्या कारण है। जिन बच्चों में न्यूरोब्लास्टोमा की फैमिली हिस्ट्री होती है, उनमें इस तरह का कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है। लेकिन, अधिकतर यह कैंसर इनहेरिटेड नहीं होता है। जो बच्चे कंजेनाइटल एनॉमली (Congenital Anomaly) के साथ जन्म लेते हैं। उनमें भी न्यूरोब्लास्टोमा के विकसित होने की संभावना अधिक होती है। अब जानते हैं इस कैंसर की स्टेजेस के बारे में।

अमेरिकन कैंसर सोसाइटी (American Cancer Society) के अनुसार न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) की स्थिति में डॉक्टर आपको ट्रीटमेंट के जुडी पूरी जानकारी देंगे इसके साथ ही वो इस कैंसर के कारण बाद में आपके बच्चे को क्या प्रभाव पड़ सकता है यह भी बताएंगे। इसके साथ ही वो आपको अपने बच्चे में इसके लक्षणों को मॉनिटर करने के लिए भी कह सकते हैं। जिन बच्चों को यह रोग होने का जोखिम होता है, उनमें से अधिकतर को इसका कोई भी लक्षण नजर नहीं आता है।

और पढ़ें : स्क्वामस सेल कार्सिनोमा: लंग कैंसर के इस टाइप के बारे में जानते हैं आप? स्मोकिंग है इसका पहला कारण

न्यूरोब्लास्टोमा की स्टेजेस कौन सी हैं? (Stages of Neuroblastoma)

न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) के निदान में इसकी स्टेजेज महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है ताकि उपचार की तकनीकों के बारे में निर्णय लिया जा सके। यह स्टेजेस इस प्रकार हैं :

  • स्टेज 1 (Stage 1) : स्टेज 1 का अर्थ है कि ट्यूमर ने शरीर की मिडलाइन को क्रॉस नहीं किया है। ट्यूमर को पूरी तरह से हटा दिया गया है और यह शरीर के अन्य क्षेत्रों में नहीं फैला है। यह स्टेज यह भी बताती है कि शरीर में ट्यूमर की तरफ मौजूद लिम्फ नोड में कैंसर सेल मौजूद नहीं है।
  • स्टेज 2A (Stage 2A) :स्टेज 2A में शामिल ट्यूमर शरीर की मिडलाइन को क्रॉस नहीं किया होता है। हालांकि, सभी विज़िबल ट्यूमर को रिमूव कर दिया जाता है लेकिन इस स्टेज में ट्यूमर रिमूवल पूरा नहीं हो पाता है। ट्यूमर की यह स्टेज शरीर के अन्य भागों तक नहीं फैली होती और ट्यूमर की तरफ की लिम्फ नोड्स में ट्यूमर सेल्स मौजूद नहीं होते।
  • स्टेज 2B Stage 2B : इस स्टेज में ट्यूमर को कुछ मामलों में पूरी तरह से रिमूव किया भी जा सकता है या जबकि कुछ मामलों में ऐसा नहीं हो पाता। लेकिन, यह शरीर के दूसरे भागों में नहीं फैला होता, जिस तरफ ट्यूमर होता है।
  • स्टेज 3 Stage 3 : स्टेज 3 में वो ट्यूमर शामिल होता है जो शरीर की मिडलायन को क्रॉस नहीं करता है और जिसे पूरी तरह से नष्ट नहीं किया जा सकता। लिम्फ नॉड्स में ट्यूमर सेल हो भी सकते हैं और नहीं भी हो सकते हैं।। लेकिन, इस स्टेज में शरीर के दूसरे भाग में ट्यूमर के साथ लिम्फ नॉड्स होते हैं।
  • स्टेज 4 Stage 4 : स्टेज 4 में वो ट्यूमर शामिल है जो दूर के लिम्फ नोड्स (Lymph Nodes), बोन मैरो (Bone Marrow), लिवर (Liver) , त्वचा (Skin) या अन्य अंगों में मेटास्टेसाइज (Metastasize) हो गया होता है।
  • Stage 4S : इस स्टेज में एक ट्यूमर ऐसा शामिल होता है जो लिवर, त्वचा या अस्थि मज्जा को मेटास्टेसाइज कर चुका होता है, लेकिन हड्डियों को नहीं। यह अवस्था आम तौर पर 1 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में पाई जाती है। यह तो थी इस कैंसर की स्टेजेज। अब जान लेते हैं इसके निदान के बारे में।

और पढ़ें : सिलेक्टिव ईस्ट्रोजन रिसेप्टर मॉड्यूलेटर्स (SERMs): जानिए कैसे करते हैं ब्रेस्ट कैंसर को रोकने में मदद?

न्यूरोब्लास्टोमा का निदान (Diagnosis of Neuroblastoma)

न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) के निदान के लिए डॉक्टर बच्चे की शारीरिक और न्यूरोलॉजिकल जांच कर सकते हैं। न्यूरोलॉजिकल जांच से बच्चों के नर्व फंक्शन, रिफ्लेक्स और कोऑर्डिनेशन की जांच होती है। इसके साथ ही डॉक्टर रोगी को कई अन्य टेस्ट कराने की सलाह भी दे सकते हैं। हालांकि इसके लक्षण अन्य किन्हीं कंडीशंस के लक्षणों जैसे भी हो सकते हैं। ऐसे में डॉक्टर अन्य टेस्ट करा सकते हैं, जैसे:

  • ब्लड और यूरिन टेस्ट्स (Blood and Urine tests) : ये टेस्ट मरीज के खून में हार्मोन के स्तर को मापते हैं, जो न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) द्वारा बनाए जा सकते हैं।
  • इमेजिंग टेस्ट्स (Imaging tests) : इन टेस्ट्स से यह पता चलता है कि कैंसर कितना फैल चुका है।
  • अल्ट्रासाउंड (Ultrasound) : अल्ट्रासाउंड से पेट में ट्यूमर का पता चलता है।
  • एक्स -रेज़ (X-Rays) : इससे छाती और हड्डियों में कैंसर के निदान के लिए किया जाता है ।
  • अन्य तरह के स्कैन (Other Types of Scans) : डॉक्टर आपको सीटी स्कैन (CT-Scan), मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (Magnetic resonance imaging) आदि कराने के लिए भी कह सकते हैं।
  • बायोप्सी (Biopsy) : बायोप्सी में रोगी के ट्यूमर या बोन मैरो का सैंपल लिया जाता है और कैंसर के निदान के लिए इसकी जांच की जाती है। इसके साथ ही ब्लड सेल्स काउंट्स, लिवर व किडनी फंक्शन और शरीर में साल्ट के बैलेंस को जांचने के लिए अन्य लैब टेस्ट भी कराए जा सकते हैं। जानिए कैसे संभव है इसका उपचार?

Quiz : कैंसर के बारे में कितना जानते हैं आप? क्विज से जानें

न्यूरोब्लास्टोमा का उपचार (Treatment of Neuroblastoma)

न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) वो कैंसर है जिसका उपचार संभव है। लेकिन, इसके उपचार में यह चीज जानना सबसे जरूरी फैक्टर है कि यह कितना फैला है। जितनी जल्दी इस कैंसर का इलाज हो, उतने ही ज्यादा संभावना होती है रोगी के ठीक होने की। न्यूरोब्लास्टोमा का उपचार रोगी कि उम्र और यह कैंसर कितना फैला है इस पर निर्भर करता है। इसके उपचार के तरीके इस प्रकार हैं:

सर्जरी (Surgery)

अगर ट्यूमर शरीर के अन्य भागों में न फैला हो, तो सर्जरी का प्रयोग करके ट्यूमर को रिमूव किया जा सकता है। अगर यह ट्यूमर स्पाइनल कॉर्ड को प्रभावित कर रहा हो तो सर्जरी की जगह कीमोथेरेपी का प्रयोग किया जा सकता है। जब न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) का निदान होने तक यह कैंसर फैल चुका हो, तो सर्जरी के बजाय कीमोथेरेपी और अन्य दवाओं का भी उपयोग किया जा सकता है।

कीमोथेरेपी (Chemotherapy)

कीमोथेरेपी वो पावरफुल दवाइयां हैं, जिनका प्रयोग कैंसर सेल्स को नष्ट करने या उन्हें ग्रो होने से रोकने और अधिक कैंसर सेल्स को बनने से रोकना है। इन दवाइयों को ब्लड स्ट्रीम में इंजेक्ट किया जाता है, लेकिन कई बार इन्हें ओरल भी दिया जा सकता है। कॉम्बिनेशन थेरेपी (Combination Therapy) में एक समय में एक से अधिक प्रकार के दवाइयों का उपयोग किया जाता है है। रेडिएशन थेरेपी का प्रयोग भी कीमोथेरेपी के साथ कम्बाइन कर के किया जा सकता है।

और पढ़ें : मोह्स सर्जरी: स्किन कैंसर को रिमूव करने के लिए कितनी असरदार है यह सर्जरी?

रेडिएशन थेरेपी (Radiation Therapy)

रेडिएशन थेरेपी में हाय एनर्जी एक्स रे (High-Energy X-Rays) या अन्य तरह की रेडिएशन का प्रयोग किया जाता है। ताकि कैंसर सेल्स को नष्ट किया जा सके या उन्हें ग्रो होने से रोका जा सके।
एक्सटर्नल रेडिएशन में एक्स-रे डोज देने के लिए शरीर के बाहर मशीनों का उपयोग किया जाता है। इंटरनल रेडिएशन में नीडल्स, सीड्स, वायर्स आदि का प्रयोग किया जाता है, ताकि रेडिएशन को कैंसर में या कैंसर के नजदीक डिलीवर किया जा सके। हाय रिस्क पेशेंट्स (High-Risk Patients )को इससे अधिक इंटेंस ट्रीटमेंट दिया जा सकता है। न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) के रोगी उस समय बेहद रिस्क में होते हैं, जब ट्यूमर को सर्जिकल रिमूव न किया जा सके और यह फैल जाए। अधिक जोखिम वाले रोगियों में कीमोथेरेपी और इम्यून थेरेपी को स्टेम सेल्स ट्रांसप्लांट के साथ मिला कर हाय डोज में इसका प्रयोग किया जाता है।

स्टेम सेल ट्रांसप्लांट (Stem Cell Transplant)

इस तरीके में बोन मैरो को हेल्दी सेल्स के साथ रिप्लेस कर दिया जाता है। यह रिप्लेसमेंट सेल्स रोगी के शरीर या डोनर कहीं से भी लिए जा सकते हैं। इस प्रक्रिया को बोन मैरो ट्रांसप्लांट भी कहा जाता है।

और पढ़ें : वयस्कों और बच्चों में किस तरह से अलग होती हैं लिम्फोमा की स्टेजेस, जानिए!

यह तो थी न्यूरोब्लास्टोमा (Neuroblastoma) के बारे में पूरी जानकारी। इस रोग से बचाव संभव नहीं है लेकिन आपको या आपके पार्टनर को यह कैंसर है तो आपके बच्चों को भी यह समस्या हो सकती है। ऐसे में डॉक्टर की सलाह लें और जेनेटिक टेस्टिंग कराएं। अगर आपको अपने बच्चे में इस कैंसर के कोई भी लक्षण नजर आते हैं तो भी तुरंत मेडिकल हेल्प लेना जरूरी है क्योंकि जल्दी निदान और उपचार से इसके प्रभाव को कम किया जा सकता है। इससे बच्चे को जल्दी रिकवर होने भी मदद मिलती है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड