बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटीज हैं जरूरी, सीखते हैं प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल

By Medically reviewed by Dr. Pranali Patil

बच्चा जन्म के साथ ही अपनी पांचों इंद्रियों (सेंस) का उपयोग करना शुरू कर देता है। इससे वह अपने आसपास की दुनिया को समझने की कोशिश करता है। बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटीज उनके विकास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी उन्हें सक्रिय रूप से अपनी इंद्रियों(सेंसेज) का उपयोग करने का मौका देती हैं, जिससे वह इन एक्टिविटी की मदद से अपने दिमाग का विकास कर सकें।

अपने सेंसेज के माध्यम से कुछ महसूस करना शिशुओं और छोटे बच्चों में स्वाभाविक रूप से आता है। बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी इसलिए भी जरूरी है क्योंकि समय और उम्र के साथ बच्चों में अपने आस-पास की वस्तुओं को देखने की, जगहों को पहचानने की और लोगों से बातचीत करने की समझ आती है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों के साथ ट्रैवल करते हुए भूल कर भी न करें ये गलतियां

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी क्या है?

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी का मतलब है उन्हें अपनी आस-पास की चीजों और वस्तुओं की समझ होना। बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिवटीज में चीजों को छूना और उनकी बनावट को महसूस करने को सेंसरी एक्टिविटी की तरह लिया जाता है। लेकिन, यह केवल चीजों को छूने और महसूस करने तक ही सीमित नहीं है।

सेंसरी एक्टिविटी में किसी भी ऐसी गतिविधि को शामिल किया जाता है, जो एक बच्चे की छूने, सूंघने, स्वाद, देखने और सुनने की सेंसेज को कंट्रोल करता है। इसके साथ ही ये एक्टिविटीज बच्चों में मूवमेंट और बैलेंस को प्रभावित करता है।

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटीज वास्तव में आपकी कल्पना के आधार पर चुनी जा सकती हैं। इसके लिए कुछ चीजों के उपयोग के साथ कुछ सामान्य ज्ञान का उपयोग किया जाता है और आपके बच्चे की उम्र और क्षमता के आधार पर सेंसरी एक्टिविटीज का चयन किया जाता है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों को सोशल मीडिया और उसके बुरे प्रभावों से कैसे बचाएं

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी के प्रकार

शिशुओं के लिए सेंसरी एक्टिविटी – बुलबुले को उड़ते हुए देखना और उन्हें अपनी त्वचा पर महसूस करना, पेपर को मोड़ने की आवाज को सुनना, कागज के टेक्सचर को महसूस करना और आकृतियों को बदलता देखना।

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी- अलग-अलग आकारों को बनाना या आकारों पर टॉर्च की रोशनी से बनी परछाई को देखना, कलर मिक्सचर को देखना और उंगलियों की पेंटिंग या स्पंज पेंटिंग को बनाना।

प्री-स्कूल जाने वालों बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी – आकृतियां बनाना और रेत के साथ खेलना, म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट के साथ खेलना और आवाज और पिच को सुनना। म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट को बजाना और उसकी आवाज सुनना।

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी में मदद करने का सबसे सरल तरीका प्रकृति के साथ बाहर खेलना है, जो रंगों, मूवमेंट, बनावट, ध्वनियों और गंधों से भरा हुआ है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों को यूं सिखाएं संस्कार, भविष्य में बनेंगे जिम्मेदार

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी के फायदे

देखना, सुनना, छूना, खूशबु और स्वाद जीवन के पांच मूलभूत तत्व हैं, जिन पर बच्चों की परवरिश के दौरान पेरेंट्स ज्यादा ध्यान नहीं देते। बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी मजेदार और दिलचस्प होने के अलावा बच्चों को खोजबीन और चीजों को समझने के लिए प्रोत्साहित करती हैं। इसके अलावा ये गतिविधियां बच्चों को साइंटिफिक मैथड का उपयोग करके एक हाईपोथेसिस बनाने, प्रयोग करने और निष्कर्ष निकालने में भी मदद करती हैं।

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी उन्हें अपनी इंद्रिओं को ठीक से समझने की अनुमति देती हैं। इन एक्टिविटीज से  उनके दिमाग को सेंसरी इंर्फामेशन को समझने में मदद मिलती है। सेंसरी एक्टिविटी बच्चों को सिखाती हैं कि क्या जरूरी है और किस सूचना को फिल्टर किया जा सकता है। सेंसरी एक्टिविटीज के माध्यम से बच्चा उस शोर को फिल्टर करना सीख सकता है, जो जरूरी नहीं है और उस खेल पर ध्यान लगा सकता है, जो वह अपने दोस्तों के साथ खेलना चाहता है।

उदाहरण के लिए एक बच्चे को पास्ता खाना केवल इसलिए नहीं पसंद क्योंकि वह चिपचिपा होता है। इससे पता चलता है कि सेंसरी एक्टिविटीज बच्चों में टेक्सचर को पहचानना सिखाती हैं।

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटीज का उपयोग बच्चे को अपने आसपास की चीजों को छूने, सूंघने और टेक्सचर के साथ खेलने में मदद कर सकता है। सेंसरी एक्टिविटी के जरिए जब बच्चा अलग-अलग टेक्सचर को समझने लगता है, तो यह उनके दिमाग में सकारात्मक सोच के निर्माण में मदद करता है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों के अंदर पनप रही नेगेटिविटी को कैसें करें हैंडल

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटी क्यों है जरूरी

यह भी पढ़ेंः बच्चों को खुश रखने के लिए फॉलो करें ये पेरेंटिंग टिप्स, बनेंगे जिम्मेदार इंसान

बच्चों के विकास के लिए जरूरी है सेंसरी एक्टिविटीज

सेंसरी एक्टिविटीज बच्चों में स्वतंत्र सोच को प्रोत्साहित करती हैं। इसके अलावा यह कल्पनाशक्ति और रचनात्मकता को भी प्रेरित करता है। शोध से पता चलता है कि सेंसरी एक्टिविटीज से बच्चे के विकास और सीखने के कई तरीके हो सकते हैं।

दिमाग में वृद्धि

सेंसरी एक्टिविटीज से बच्चे का दिमाग तेज होता है, जो उनकी मैमोरी को मजबूत करना और मुश्किल कार्यों को पूरा करने की क्षमता को बढ़ाता है।

भाषा का विकास

सेंसरी एक्टिविटीज बच्चों को बात करने के नए तरीके सीखने में मदद करती हैं। यह उनकी भाषा का विकास करती हैं और उन्हें नए लोगों के साथ बात करने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।

यह भी पढ़ेंः बच्चों को सताते हैं डरावने सपने, तो अपनाएं ये टिप्स

प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटीज कै दौरान जब वह अलग-अलग वस्तुओं से खेलते हैं, तो उन्हें प्रॉब्लम सॉल्विंग और डिसीजन मेकिंग स्किल सीखते हैं। इन एक्टिविटीज के दौरान नई परेशानियों का सामना करने में मदद मिलती है। इन एक्टिविटीज से वे न केवल अपनी परेशानी का सामना करना सीखते हैं। बल्कि अपने परेशानी को खुद ही मैनेज करना भी सीखते हैं।

सामाजिक संपर्क

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटीज का माहौल बच्चों को दूसरों के साथ बातचीत करने और प्रभावी ढंग से काम करने के लिए भी प्रोत्साहित करता है, जो एक बच्चे के विकास के लिए जरूरी है। वे अपने विचारों को साझा करना और नए रिश्ते बनाना शुरू करते हैं।  सैंड एंड वॉटर टेबल सामाजिक संपर्क को प्रोत्साहित करने के लिए एक पसंदीदा एक्टिविटी है।

जन्म से बच्चे से ही अपनी इंद्रियों को समझने और नई जानकारी प्रोसेस करते हैं। वे अपने आस-पास की चीजों की बनावट और संसाधनों की खोज के माध्यम से आगे बढ़ते हैं। वे अपने आस-पास की दुनिया की समझ बनाना शुरू करते हैं। सेंसरी एक्टिविटी में बच्चों को शामिल करने का एक जरूरी हिस्सा है।

और पढ़ेंः

ज्यादा कपड़े पहनाने से भी हो सकती है बच्चों में घमौरियों की समस्या

बच्चों के इशारे कैसे समझें, होती है उनकी अपनी अलग भाषा

ब्रेन एक्टिविटीज से बच्चों को बनाएं क्रिएटिव, सीखेंगे जरूरी स्किल्स

बच्चों में शर्मीलापन नहीं है कोई परेशानी, दें उन्हें उनका ‘मी-टाइम’

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख दिसम्बर 4, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया दिसम्बर 5, 2019

शायद आपको यह भी अच्छा लगे