किन कारणों से हो सकती है खुजली की समस्या? जानिए क्या हैं इसे दूर करने के घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 28, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

त्वचा में खुजली होना एक सामान्य समस्या है। किंतु, इसके कारण और लक्षण हर व्यक्ति के लिए अलग हो सकते हैं। खुजली के कारण त्वचा में जलन होती है और कभी-कभी ऐसा भी लग सकता है कि आपकी त्वचा के ऊपर कुछ चल रहा है। कई बार खुजली की समस्या एक अंग से अन्य अंगों तक फैल सकती है। इस परेशानी के उपचार के लिए सबसे पहले इसके सही कारणों का पता होना आवश्यक होता है। कुछ स्थितियों में खुजली का इलाज घरेलू उपायों से भी किया जा सकता है। जानिए त्वचा में खुजली के घरेलू उपाय कौन से हैं। 

त्वचा में खुजली होने के कारण

त्वचा में खुजली के घरेलू उपाय से पहले इसके कारणों के बारे में जानना बेहद आवश्यक है। त्वचा की इस समस्या के, जानिए क्या कारण हो सकते हैं-

और पढ़ें: क्या गर्भावस्था में हथेलियों का लाल होना और उनमें खुजली सामान्य है?

रूखी त्वचा 

अगर किसी की त्वचा बहुत अधिक रूखी है तो रूखी त्वचा के कारण गंभीर खुजली हो सकती है।

कीड़ा काटना 

जब मच्छर या अन्य कोई कीड़ा काटता है तो इससे भी त्वचा में खुजली हो सकती है। मच्छर के काटने के कारण होने वाली खुजली कुछ समय तक रहती है, लेकिन कीड़े जैसे जुएं, खटमल, घुन आदि जब काटते हैं तो इसके कारण होने वाली खुजली लंबे समय तक रह सकती है।

मेडिकल स्थितियां 

त्वचा की कुछ परेशानियां या रोग तीव्र खुजली पैदा कर सकती है। इन परेशानियों की सूची लंबी है। इनमें से कुछ विशेष, इस प्रकार हैं:

  • एटॉपिक डर्मेटाइटिस
  • चिकेनपॉक्स
  • त्वचा पर छोटे छाले
  • लोम (Folliculitis)
  • हीव्स (हाइव्स)
  • सोरायसिस
  • न्यूरो डर्मेटाइटिस
  • रिंगवर्म

त्वचा का कैंसर 

बहुत से लोगों के लिए त्वचा के कैंसर का एकमात्र संकेत उनकी त्वचा पर एक नया स्पॉट हो सकता है, जो लगातार अपनी स्थिति बदलता रहता है। कभी-कभी, उस स्थान पर भी खुजली होती है और खुजली होने के बाद ही कई बार इस स्थान को नोटिस किया जाता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

बीमारियों का संकेत

लंबे समय तक खुजली कई बीमारियों का संकेत हो सकती है, जिनमें कुछ इस प्रकार हैं:

  • रक्त संबंधी रोग
  • मधुमेह
  • गुर्दे की बीमारी
  • लिवर की बीमारी
  • HIV
  • ओवरएक्टिव थायरॉइड ग्लैंड
  • रक्त को प्रभावित करने वाली बीमारी: खुजली उन लोगों में आम है, जिन्हें रक्त को प्रभावित करने वाली बीमारी है। यह किडनी की गंभीर बीमारी का भी संकेत है। जिन लोगों को डायलिसिस की जरूरत होती है या जो डायलिसिस पर हों,  उन लोगों में भी अधिक खुजली की समस्या हो सकती है। यह विशेष रूप से पीठ, हाथ और पैरों पर अधिक हो सकती है।
  • लिवर संबंधी समस्या: खुजली उन लोगों में भी आम है जिन्हें लिवर की बीमारी है, जैसे कि हेपेटाइटिस सी, सिरोसिस, या ऑब्स्ट्रक्टेड बाइल डक्ट। अगर यह खुजली लिवर के रोग का संकेत हो, तो यह अक्सर हथेलियों और तलवों पर शुरू होती है और फिर शरीर के अन्य हिस्सों में फैल जाती है।

एलर्जिक स्किन रिएक्शन

त्वचा में कई चीजों से एलर्जी हो सकती है। इसका सबसे मुख्य कारण है निकल धातु (Nickel) का होना, जो उन चीजों में पाई जाती है जिन्हें हम रोज छूते हैं। जैसे फोन, चश्मे, जिपर, गहने आदि। इसके अलावा केमिकल युक्त चीजों जैसे नेल पेंट, शैम्पू, सीमेंट आदि से भी यह समस्या हो सकती है। कुछ पौधे जैसे पाइजन आइवी भी त्वचा में खुजली का कारण बन सकते हैं।

उम्र का बढ़ना 

उम्र के बढ़ने जैसे  65 साल या इससे अधिक होने पर त्वचा में बदलाव शुरू हो जाते हैं। जब हम 65 वर्ष के होते हैं, तब हमारी त्वचा पतली हो जाती है और उसमें नमी कम होती है। ऐसे में सूखी त्वचा के कारण खुजली हो सकती है।

और पढ़ें: आंखों में खुजली या जलन (Eye Irritation) कम करने के घरेलू उपाय

दवाईयां

कोई दवाई जैसे एस्पिरिन आदि भी खुजली का कारण बन सकती है। इसके साथ ही कैंसर के उपचार के साइड इफेक्ट के कारण भी ऐसा हो सकता है।

अन्य कारण 

जब एक नर्व ठीक से काम नहीं करती है तो यह खुजली वाली परेशानी का कारण बन सकती है। यदि बीमारी या चोट के कारण नर्व को नुकसान होता है, तो इससे त्वचा में खुजली हो सकती है। यह खुजली आपके शरीर पर एक ही जगह पर होती है और इसमें दाने जैसा कुछ नजर नहीं आता है। जिन बीमारियों के कारण त्वचा में खुजली होती है वो हैं:

  • स्ट्रोक
  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस
  • दाद- दाद से हुए रैशेस के ठीक होने के बाद आप इनमें दर्द , सुन्नता, खुजली और झुनझुनी महीनों या साल भर तक महसूस कर सकते हैं।

त्वचा में खुजली के घरेलू उपाय

अपनी त्वचा को करें मॉइस्चराइज 

त्वचा में खुजली के घरेलू उपाय में सबसे पहले है, मॉइस्चराइजर का प्रयोगत्वचा में खुजली होने का एक कारण त्वचा का रूखापन होता है। ऐसे में जरूरी है, अपनी त्वचा को सही से मॉइस्चराइज करना। अपनी त्वचा को दिन में कम से कम दो बार मॉइस्चराइज करें। नहाने के बाद त्वचा को मॉइस्चराइज करना आवश्यक है। ऐसा करते हुए अपनी टांगों, बाजू, पीठ आदि पर भी ध्यान दें। अगर आपकी त्वचा बहुत अधिक रूखी है तो तेल या लुब्रिकेटिंग क्रीम का इस्तेमाल करें।

गर्म पानी से न नहाएं 

कई लोगों को गर्म पानी से नहाना अच्छा लगता है। लेकिन, गर्म पानी के कारण शरीर की नमी नष्ट हो जाती है, जिससे त्वचा में खुजली हो सकती है। गर्म पानी से नहाने के कारण ब्लड फ्लो भी बढ़ता है, जो खुजली को बढ़ाने का एक और कारण हो सकता है। गर्म पानी से त्वचा नमी न खोएं, इसके लिए हल्के गुनगुने पानी का प्रयोग करें। इसके साथ ही अधिक देर तक नहाने से भी बचें। त्वचा में खुजली के घरेलू उपाय में इस उपाय का प्रयोग अवश्य करें।

अपने नाखूनों को छोटा रखें 

खुजली की समस्या होने पर त्वचा के छिल जाने या कट जाने की समस्या को पूरी तरह से नजरअंदाज नहीं कर सकते। लेकिन अपने नाखूनों को छोटा रख कर और उनकी शेप को सही बना कर रखने से अधिक खुजली के कारण त्वचा को होने वाले नुकसानों से बच सकते हैं।

और पढ़ें: गर्भावस्था में खुजली है आम परेशानी, इन घरेलू उपचारों से मिल सकता है आराम

त्वचा को ठंडा रखें 

त्वचा पर ऐसी चीजों का प्रयोग करें जिससे आपको ठंडक मिले। इससे खुजली की समस्या से छुटकारा मिल सकता है जैसे बर्फ का प्रयोग करें। बाजार में ऐसे लोशन उपलब्ध हैं, जिनमें मेंथोल होता है। यह भी त्वचा की खुजली को कम करने में मदद कर सकते हैं। त्वचा में खुजली के घरेलू उपायों में यह उपाय आपको राहत पहुँचा सकता है।

सौम्य या माइल्ड साबुन का प्रयोग करें 

त्वचा को खुजली की समस्या से बचाने के लिए अपने साबुन, क्रीम, परफ्यूम को चुनते हुए सावधान रहें। त्वचा के लिए ऐसे उत्पादों को चुनें, जो सौम्य हो। यही नहीं, नहाने या साबुन के प्रयोग के बाद ध्यान रखें कि यह पूरी तरह से आपकी त्वचा से निकल जाए।

ह्यूमिडिफायर का प्रयोग करें

घर के अंदर की गर्म और रूखी हवा संवेदनशील त्वचा को और भी खराब कर सकती है। इसके साथ ही खुजली की समस्या भी बढ़ सकती है। ऐसे में, ह्यूमिडिफायर घर के अंदर की हवा में नमी प्रदान कर सकता है। आपके ह्यूमिडिफायर में बैक्टीरिया और फुनगी (फफूंदी) न पैदा हों इसके लिए इसे हमेशा साफ रखें। त्वचा में खुजली के घरेलू उपाय में यह उपाय बहुत ही आसान है।

साफ और खुले कपड़े पहनें 

हमेशा साफ और खुले कपड़ें पहनें। कॉटन के कपड़ों को प्राथमिकता दें। ऐसे कपड़ों से परहेज करें जो खुरदरे, तंग या ऊन से बने हों। इसके अलावा, गर्मियों में ऐसे कपड़ें पहनें जो पसीना सोख ले। तंग कपड़े पहनने से पसीना त्वचा पर जमा हो सकता है, जिससे खुजली की समस्या बढ़ सकती है। 

तनाव से बचे 

त्वचा में खुजली के घरेलू उपाय में आगे है तनाव और चिंता से बचना और उनके लिए सही तरीके अपनाना। तनाव और अन्य भावनात्मक विकार टॉपिक डर्मेटाइटिस की सूजन को बदतर बना सकते हैं। ऐसे में खुजली की समस्या भी बढ़ सकती है। तनाव दूर करने के लिए व्यायाम और योग करें। ध्यान लगाएं और हमेशा सकारात्मक रहें।  इससे आपके दिमाग को शांत रहने में मदद मिलेगी। 

पौष्टिक आहार

कई बार विटामिन A, B और E की कमी होने से भी रूखी त्वचा हो सकती है। रूखी त्वचा के कारण खुजली होना सामान्य है। ऐसे में अपने आहार में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल करें जिनसे आपको सभी पौष्टिक तत्व और नुट्रिएंट्स प्राप्त हों। मेवे आपकी त्वचा को नमी प्रदान करने में सहायक हो सकते हैं। इसके साथ ही जितना अधिक हो सके पानी और अन्य तरल पदार्थों का सेवन करें। अपने शरीर को हाइड्रेट रखने से आपको अपनी त्वचा को हाइड्रेट रखने में भी मदद मिलेगी।

अन्य उपाय 

त्वचा में खुजली के घरेलू उपाय की लिस्ट अभी खत्म नहीं हुई है, जानिए कुछ अन्य उपायों के बारे में:

ब्लीच बाथ

 ब्लीच बाथ त्वचा में बैक्टीरिया और इससे जुड़े इंफेक्शन को कम कर सकता है। गुनगुने पानी में थोड़ा-सा ब्लीच डालें और अपने प्रभावित स्थानों को इसमें दस मिनटों तक डुबों कर रखें। बाद में अच्छे से खुद को साफ कर लें और सूखा लें। ऐसे ही ब्लीच बाथ  हफ्ते में एक या दो बार लें। आपको त्वचा की खुजली से राहत मिलेगी।

एप्पल साइडर विनेगर

एप्पल साइडर विनेगर में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। जो खुजली होने की स्थिति में त्वचा को शांत करने और उसे आराम पहुंचाने में मददगार हैं। इसके लिए आपको आर्गेनिक एप्पल साइडर विनेगर का प्रयोग करना चाहिए। थोड़ा सा विनेगर ले कर इसमें उतना ही पानी मिक्स कर लें। इसे प्रभावित स्थान पर लगाएं। ऐसा करने से आपको जलन और परेशानी से मुक्ति मिलेगी। एप्पल साइडर विनेगर में खुजली कम करने वाले एजेंट होते हैं, जिनसे खुजली कम होती है। यदि आपके घाव खुले हैं, त्वचा फट गई है या खून बह रहा है तो सिरके के प्रयोग से बचें।

और पढ़ें: बच्चों में ‘मोलोस्कम कन्टेजियोसम’ बन सकता है खुजली वाले दानों की वजह

एलोवेरा

शोध के मुताबिक एलोवेरा या इससे बनी क्रीम खुजली के कारण होने वाली समस्याओं जैसे जलन और लालिमा आदि से राहत पहुंचाने में मदद करती हैं। एलोवेरा जेल प्रभावित त्वचा क्षेत्रों पर लगाया जा सकता है। जो स्केलिंग, खुजली, लालिमा और सूजन को कम करने में मदद करते हैं। बेहतर परिणाम के लिए रोजाना तीन बार एलोवेरा जेल क्रीम का उपयोग करें।

मेंथोल का प्रयोग करें 

मेथोल एक एसेंशियल आयल है जो मिंट फैमिली के पौधों में पाया जाता है। इसमें कूलिंग इफेक्ट होता है, जो दर्द और खुजली को दूर करने में मदद करता है। इस तेल को दो हफ्तों तक दिन में दो बार प्रभावित स्थानों पर लगाएं। ऐसा करने से आपको लाभ होगा। एसेंशियल आयल को प्रयोग से पहले डाइल्यूट करना न भूलें।

नीम 

नीम की पत्तियों को पानी में उबाल कर इस सलूशन को छान कर ठंडा होने दें। अब प्रभावित स्थान पर इसे रुई की मदद से लगाएं। आपकी खुजली कम हो जाएगी। वैकल्पिक रूप से, आप नीम पत्ती का अर्क, साबुन, क्रीम या अन्य नीम उत्पादों का उपयोग कर सकते हैं।

त्वचा और बालों की समस्याओं के लिए किचन रेमेडीज के बारे में जानिए इस वीडियो के माध्यम से:

किन स्थितियों में डॉक्टर की सलाह लें 

यह तो थे त्वचा में खुजली के घरेलू उपाय खुजली के कई मामलों में आप सफाई, मॉइस्चराइजिंग और घरेलू उपायों से इनका उपचार कर सकते हैं। लेकिन, अगर आपको निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए:

  • अगर आपको खुजली की समस्या दो हफ़्तों से अधिक समय से है और आपको उसमे जलन हो रही हो।
  • त्वचा में रैशेस, फोड़े, सूजन और खुजली होना। इस स्थान पर खुजली करने से खुजली और भी बढ़ रही हो।
  • खुजली के साथ सूजन हो और साथ ही घाव होने पर उसमें पस निकल रही हो।
  • अगर खुजली पूरे शरीर को प्रभावित कर रही हो।

यह लक्षण नजर आने पर त्वचा में खुजली के घरेलू उपाय पर निर्भर न रहें, बल्कि तुरंत डॉक्टर से मिलेयह लक्षण किसी स्वास्थ्य समस्या या रोग का संकेत हो सकते हैं, ऐसे में इलाज कराने पर ध्यान देना चाहिए। डॉक्टर प्रभावित व्यक्ति की खुजली को दूर करने के लिए क्रीम और दवाइयों की सलाह दे सकते हैं। त्वचा विशेषज्ञ की सलाह के अनुसार त्वचा को मॉइस्चराइज करने से पहले कुछ दवाइयों का प्रयोग भी आप कर सकते हैं।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवाई का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी प्रकार का चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Bacitracin+Neomycin+Polymyxin B: बेकिट्रासिन+नियोमायसिन+पोलीमैक्सिन बी क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जानिए सेररटीओपेप्टिड्स की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, सेररटीओपेप्टिड्स उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Bacitracin+Neomycin+Polymyxin B डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Sunil Kumar
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Betamethasone Valerate+Neomycin Cream : बेटामेथासोन वेलरेट+नियोमायसिन क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जानिए बेटामेथासोन वेलरेट+नियोमायसिन क्रीम की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, बेटामेथासोन वेलरेट+नियोमायसिन क्रीम उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Betamethasone Valerate+Neomycin Cream डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Sunil Kumar
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Levocetirizine + Phenylephrine: लिवोसिट्रीजिन + फेनिलेफ्रीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जानिए लिवोसिट्रीजिन + फेनिलेफ्रीन की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Levocetirizine + Phenylephrine डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Chlorpheniramine+Phenylephrine: क्लोरफेनीरामिन+फीनाइलेफ्रीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जानिए क्लोरफेनीरामिन+फीनाइलेफ्रीन की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, क्लोरफेनीरामिन+फीनाइलेफ्रीन उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Chlorpheniramine+Phenylephrine डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल दिसम्बर 11, 2019 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

खुजली का आयुर्वेदिक इलाज - ayurvedic treatment of itching

खुजली का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? खुजली होने पर क्या करें, क्या न करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 4, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
इच गार्ड/Itch Guard

Itch Guard: इच गार्ड क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ जून 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दाद का आयुर्वेदिक इलाज - ayurvedic treatment of ringworm

दाद का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानिए दवा और प्रभाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 2, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
क्रैबस-Crabs

Crabs : क्रैबस क्या है ?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अप्रैल 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें