जानें कौन सी सेक्स पोजिशन प्रेग्नेंट होने के लिए सही है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

अक्सर देखा गया है कि कपल्स परेशान रहते हैं कि सेक्स करने के बाद भी पेरेंट्स बनने में असमर्थ हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आप जाने अनजाने ऐसी कई गलतियां करते हैं, जिससे आप बेबी कंसिव करने में प्रॉब्लम हो सकती है। इन गलतियों में आपके सेक्स करने का तरीका भी शामिल है। क्योंकि बहुत सारे लोग प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स पोजिशन नहीं अपनाते हैं। इसके अलावा ओव्यूलेशन से लेकर सेक्स करने का सही समय भी मायने रखता है। अगर आप प्रेग्नेंट होने की सोच रही हैं तो यह आर्टिकल आपके लिए बहुत काम का साबित हो सकता है। क्योंकि इसमें प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स पोजिशन से लेकर सेक्स के सही समय तक की जानकारी मिलेगी। इसके साथ ही आपको जल्दी से प्रेग्नेंट होने के लिए कुछ हेल्दी टिप्स भी इस आर्टिकल में पढ़ने के लिए मिलेंगे।

और पढ़ें : मिशनरी सेक्स को बेहतर बनाने के टिप्स

प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स करने का सही समय क्या है?

इस बारे में हैलो स्वास्थ्य ने वाराणसी (उत्तर प्रदेश) स्थित काशी मेडिकेयर की गाइनेकोलॉजिस्ट डॉ. शिप्रा धर से बात की। डॉ. शिप्रा बताती हैं कि “किसी भी महिला को प्रेग्नेंट होना है तो उसे सेक्स को सही तरीके से करना होगा। क्योंकि गर्भधारण के लिए सेक्स की टाइमिंग बहुत मायने रखती है। अगर महिलाएं, सही समय पर सेक्स कर के प्रयास करें तो एक साल के अंदर ही वे गर्भधारण कर सकती हैं। इसके अलावा ओव्यूलेशन का भी ध्यान रखना चाहिए। जो पीरियड शुरू होने के ठीक 11वें दिन से 14वें दिन के बीच में होता है। इस वक्त सेक्स करने पर कोई भी महिला आसानी से प्रेग्नेंट हो सकती है।

किसी भी महिला के हर महीने में एक फर्टाइल विंडो (Fertile window) होती है। यही फर्टाइल विंडो सेक्स करने के सही समय माना जाता है। फर्टाइल विंडो ओव्युलेशन पीरियड को कहा जाता है। ओव्युलेशन पीरियड में या इसके आसपास सेक्स करने से महिला के गर्भवती होने की संभावना ज्यादा होती है। गर्भवती होने के लिए महिला के गर्भाशय में मौजूद अंडाणु को शुक्राणु या स्पर्म द्वारा निषेचित किया जाता है। स्पर्म एक महिला के वजायना से गर्भाशय में पहुंच कर लगभग 5 दिन तक रहता है, ऐसे में जब भी अंडाणु या ओवा फेलोपियन ट्यूब से रिलीज होता है तो फर्टिलाइजेशन हो जाता है। यही पूरी प्रक्रिया ‘फर्टाइल विंडो’ के अंतर्गत आती है। 

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान ट्राई की जा सकती हैं ये सेक्स पुजिशन

ओव्यूलेशन को कैसे पहचानें?

लगभग सभी डॉक्टर यही बताते हैं कि ज्यादातर महिलाओं का मासिक चक्र या मेंस्ट्रुअल साइकिल 28 दिन की होती है, तो उसके ओव्‍युलेशन का समय पीरियड शुरू होने के 11वें से 14वें दिन के बीच हो सकता है। उदारण के लिए, मान लीजिए कि आपका पीरियड किसी महीने की 1 तारीख को आया है तो आपके ऑव्यूलेशन का समय 11 से 14 तारीख के बीच होगा।

वहीं, जिन महिलाओं के पीरियड्स अनियमित रहते हैं, उनमें ओव्‍युलेशन कब हो रहा है इसका सटीक पता लगाना थोड़ा मुश्किल होता है। अगर ओव्‍युलेशन पीरियड का पता नहीं लगाया जा सके, तो ओव्‍युलेशन के लक्षणों से भी इसका पता लगाया जा सकता है। ओव्यूलेशन के लक्षण निम्न हो सकते हैं, लेकिनु सभी महिलाओं में ये अलग-अलग हो सकते हैं :

और पढ़ें : इन सेक्स पुजिशन से कर सकते है प्रेंग्नेंसी को अवॉयड

प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स महीने में कितने बार करना चाहिए?

कुछ अध्ययनों में ये बात सामने आई है कि दो से तीन दिनों के अंतराल पर सेक्स करने से स्पर्म की क्वालिटी की गुणवत्ता बेहतर होती है। वहीं कुछ स्टडीज से यह भी पता चला है कि हर एक या दो दिन में सेक्स करने वाले कपल्स में ज्यादा प्रेग्नेंसी देखी गई है। इसलिए एक्सपर्ट ये सलाह देते हैं कि बेबी कंसीव करने के लिए हफ्ते में कम से कम दो से तीन बार सेक्स करना चाहिए। वहीं, सेक्स को किसी काम की तरह न करें, बल्कि इसे पूरी फीलिंग और इमोशन के साथ करें, क्योंकि मेंटल प्लेजर का भी असर कंसीविंग पर पड़ता है। सिर्फ गर्भधारण के लिए सेक्स ना करें, बल्कि सेक्स को पूरी तरह से एंजॉय करें। 

प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स पोजिशन कौन से हैं? 

प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स पोजिशन निम्न हैं : 

मिशनरी सेक्स पोजिशन

मिशनरी सेक्स पोजिशन में भी कई तरह के सेक्स पोजिशन शामिल हैं, जो निम्न हैं : 

  1. मिशनरी सेक्स पोजिशन में बिस्तर पर महिला नीचे की तरफ रहती है और पुरुष महिला के ऊपर की तरफ रहता है। मिशनरी पोजिशन में इस पोज को ‘मैन ऑन टॉप’ कहा जाता है। यह प्रेग्नेंट होने या कंसीव करने के लिए बेस्ट माना जाता है। क्योंकि इस पोजिशन में पेनिस के द्वारा पेनिट्रेशन वजायना के अंदर तक होता है। जिससे स्पर्म इजैकुलेशन के दौरान सर्विक्स एरिया के पास रिलीज होते हैं। 
  2. मिशनरी सेक्स पोजिशन में स्नो एंगल पोजिशन भी प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स पोजिशन में बेहतर माना गया है। इस सेक्स पुजिशन में महिला अपने पीठ के बल नीचे लेटी रहती है और पुरुष महिला पार्टनर की तरफ पीठ कर के उसके पैरों की तरफ मुंह करता है। इसके बाद महिला के थाई के ऊपर पुरुष बैठ जाता है। इस पोजिशन में पेनिस के द्वारा पेनिट्रेशन ज्यादा हो पाता हैं। पेनिट्रेशन करते समय इस पोजिशन में आप महिला साथी के थाई को सहलाएं, इससे उन्हें एंजॉयमेंट और ऑर्गैज्म की प्राप्ति होगी। 
  3. मिशनरी सेक्स पोजिशन में प्रेटजेल पोजिशन प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स करते समय जरूर अपनाना चाहिए। इस सेक्स पोजिशन में महिला पार्टनर पीठ के बल बिस्तर पर लेट जाती हैं और उनका एक पैर पुरुष के थाई के नीचे और दूसरा पैर पुरुष की कमर को लपेटे हुए होता है। इस पोजिशन में सेक्स करने से पेनिस डीप पिनेट्रेशन कर पाता है। 

और पढ़ें : शावर सेक्स का बनाया है प्लान तो पहले चुनें सेफ सेक्स पुजिशन 

एन्विल सेक्स पोजिशन

प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स में एन्विल सेक्स पोजिशन है। इस सेक्स पोजिशन में महिला के कमर के नीचे तकिया रखना होता हैं, तो यह अच्छा माना जाता है। क्योंकि इससे हिप्स को ऊपर करने में आसानी होती है जो बेबी कंसिविंग में मदद करता है। जब हिप्स ऊंचा होता है तो महिलाओं का सर्विक्स एरिया में पेनिस करीब आ जाता है। ऐसे में स्पर्म आसानी से सर्विक्स में पहुंच जाता है। जल्दी प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स पोजिशन में ये आपके काम आ सकती है। 

डॉगी सेक्स पोजिशन

प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स पोजिशन में डॉग के स्टाइल में रहता है, इसलिए इसे डॉगी सेक्स पोजिशन कहा जाता है। इसमें पुरुष पार्टनर महिला पार्टनर को घुटने के बल बैठा कर कमर से झुका देता है। इसके बाद पीछे की तरफ से इंटरकोर्स करता है। इस दौरान वजायना में पेनिस द्वारा रियर साइड पेनिट्रेशन होता है। इसलिए इसे रियर एंट्री पोजिशन भी कह सकते हैं। इस पोजिशन में स्पर्म इजैकुलेशन के दौरान सर्विक्स एरिया के पास ही रिसीव होता है। इससे प्रेग्नेंट होने का चांसेस बढ़ जाता है।

स्पूनिंग पोजिशन

स्पूनिंग सेक्स पोजिशन महिलाओं की फेवरेट सेक्स पोजिशन होती है। इसमें वे अपने पार्टनर के शरीर से खुद को पूरी तरह जुड़ा हुआ महसूस करती हैं और इमोशनल बॉन्डिंग भी मजबूत होती है। स्पूनिंग पोजिशन में महिला और पुरुष एक-दूसरे के बगल में लेटकर सेक्स करते हैं। इसमें पुरुष जिस करवट लेता रहता है, महिला भी उसी करवच ऐसे लेटती है कि उसकी पीठ पुरुष की तरफ हो। साइड इंटरकोर्स प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स पोजिशन में से एक है। क्योंकि इस सेक्स पोजिशन में स्पर्म सही तरीके से गर्भाशय में जा पाता है। 

रिवर्स काउगर्ल पोजिशन

रिवर्स काउगर्ल पोजिशन प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स पोजिशंस में से एक है। इस सेक्स पोजिशन में पुरुष अपने पीठ के बल बिस्तर लेट जाता है, उसके ऊपर महिला बैठ जाती है। इस दौरान महिला का मुंह पुरुष के पैर की तरफ होता है। इस सेक्स पोजिशन को महिला अपने हिसाब से कंट्रोल कर पाती है। वहीं, पेनिस का पेनिट्रेशन कितने डीप में चाहिए यह भी महिला खुद ही तय करती है। 

और पढ़ें : ये 7 आरामदायक सेक्स पोजीशन (पुजिशन) जिसे महिलाएं करती हैं पसंद

क्या प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के दौरान लूब्रिकेंट का इस्तेमाल सही है?

कई दंपति सेक्स करते समय सेक्स लूब्रिकेंट का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन विशेषज्ञों की मानें तो कुछ तरह के लूब्रिकेंटस स्पर्म पर बुरा असर डाल सकते हैं और इससे बेबी कंसीव करने में प्रॉब्लम का सामना करना पड़ सकता है। बाजार में मिलने वाले वॉटर बेस्ड लूब्रिकेंट से शुक्राणु की गति में लगभग 60 प्रतिशत की कमी आ सकती है। इसलिए, अगर लूब्रिकेंट का उपयोग करना भी है तो स्पर्म-फ्रेंडली लूब्रिकेंटस ठीक रहेंगे। 

इसे प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के दौरान लूब्रिकेंट के इस्तेमाल को लेकर एक अध्ययन किया गया। जिसमें 296 महिलाओं को शामिल किया गया। 29 फीसदी महिलाएं कभी-कबार ही लूब्रिकेंट का इस्तेमाल करती थी, जिसमें से 57 फीसदी महिलाएं लूब्रिकेंट कभी भी नहीं इस्तेमाल करती थी, वहीं 14 प्रतिशत महिलाएं हमेशा लूब्रिकेंट का इस्तेमाल करती थी। जो महिलाएं हमेशा लूब्रिकेंट का इस्तेमाल करती थी, उनमें भी गर्भवती होने की संभावना उतनी ही पाई गई, जितना लूब्रिकेंट का इस्तेमाल ना करने वाली महिलाओं में प्रेग्नेंट होने की संभावना थी। ऐसे में लूब्रिकेंट के कारण स्पर्म की गमनता या मोबिलिटी में बहुत ज्यादा फर्क नहीं पाया गया। 

और पढ़ें : महिलाओं के लिए मास्टरबेशन पोजिशन, शायद आप नहीं जानती होंगीं इनके बारे में

प्रेग्नेंट होने के लिए टिप्स क्या हैं?

प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के अलाव ये टिप्स भी अपनाएं :

गर्भधारण की संभावना को बेहतर बनाने के लिए सिर्फ सेक्स ही काफी नहीं है। कहते का मतलब ये है कि  प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के अलावा एक अच्छी लाइफस्टाइल को भी फॉलो करना जरूरी होता है :

ऑर्गैजम तक पहुंचना जरूरी 

जैसा कि पहले ही बताया गया कि प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स पोजिशन ही नहीं जरूरी है। इसके साथ ही सेक्स की फीलिंग का पूरा होना जरूरी है। प्रेग्नेंट होने के लिए इंटरकोर्स के दौरान ऑर्गैजम होना बहुत जरूरी है। अध्ययनों की मानें तो ऑर्गेजम के दौरान महिलाओं की वजायना और यूट्रस की मसल्स में कॉन्ट्रैक्शन होते हैं जिससे स्पर्म सर्विक्स की तरफ आराम से पुश होता है।

स्मोकिंग ना करें

स्मोकिंग करने बांझपन और गर्भपात की संभावना बढ़ सकती है। वहीं, पुरुषों में स्पर्म की मोबिलिटीभी को कम होने लगती है।

वजन को कंट्रोल करें

अगर महिला के शरीर का वजन बहुत भारी या बहुत हल्का यानी कि महिला का पतलापन भी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है। ऐसी स्थिति में बेबी कंसील करने में प्रॉब्लम होती है।

कैफीन का प्रयोग ना करें

कुछ लोग बड़ी मात्रा में कैफीन का सेवन करते हैं। एक दिन में पांच कप से ज्यादा कॉफी या चाय पीना गर्भधारण करने में मुश्किल पैदा कर सकता है। क्योंकि कैफीन प्रजनन क्षमता को कम कर सकता है।

इस तरह से आपने जाना कि प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स से साथ ही कई सारी चीजें मायने रखती है। इसके लिए आप अगर जल्द प्रेग्नेंट होना चाहती हैं तो अपना फर्टिलिटी विंडो, सेक्स का समय, सेक्स पोजिशन और लाइफस्टाइल का ध्यान रखें। इसके अलावा अगर गर्भधारण में अगर फिर भी प्रॉब्लम हो रही है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

शावर सेक्स टिप्स : ऐसे करें तैयारी, ताकि भारी न पड़े रोमांस

आपको जानकर हैरानी होगी कि शावर सेक्स टिप्स महिलाओं के मुकाबले पुरुषों को अधिक पसंद आता है। आप भी अपने बोरिंग हो रहे सेक्स लाइफ में शावर सेक्स टिप्स की मदद से रोमांच ला सकते हैं। Shower Sex Tips in HIndi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Hema Dhoulakhandi

प्रेग्नेंसी के मिथक कर रहे हैं परेशान तो एक बार जरूर पढ़ लें ये आर्टिकल

प्रेग्नेंसी के मिथक आपको कई बार भ्रमित कर सकते हैं। सही जानकारी का पता लगाएं और दूसरों की बातों में आकर कोई भी गलत कदम न उठाएं। प्रेग्नेंसी के मिथक in hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी जनवरी 15, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

प्रीमैच्याेर लेबर से कैसे बचें? इन लक्षणों से करें इसकी पहचान

प्रीमैच्याेर लेबर से जुड़ी जानकारी in hindi. Premature labour के क्या हैं कारण? प्रीमैच्योर लेबर शुरू होने की पहचान इन लक्षणों से की जा सकती है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 12, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

गर्भधारण से पहले डायबिटीज होने पर क्या करें?

गर्भधारण से पहले डायबिटीज जानिए in hindi, डायबिटीज का पेशेंट होने पर प्रेग्नेंसी के दौरान क्या करें? Diabetes and pregnancy कॉम्पिलकेशन का कारण, कंट्रोल कैसे करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 11, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

सेक्शुअल फैंटेसी/Sexual Fantasies

लाइफ में एक बार जरूर ट्राई करें ये सेक्शुअल फैंटेसी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ अगस्त 7, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
सबमिसिव सेक्स

पावर प्ले में रखते हैं इंटरेस्ट तो ट्राई करें सबमिसिव सेक्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 30, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
डॉगी स्टाइल सेक्स करते वक्त इन बातों का रखें ध्यान, सेक्स लाइफ होगी बेहतर

डॉगी स्टाइल सेक्स करते वक्त इन बातों का रखें ध्यान, सेक्स लाइफ होगी बेहतर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang
प्रकाशित हुआ जून 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
आरामदायक सेक्स पोजीशन-Comfortable sex position

ये 7 आरामदायक सेक्स पोजीशन (पुजिशन) जिसे महिलाएं करती हैं पसंद

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang
प्रकाशित हुआ जून 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें