home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जानिए बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर कैसा होना चाहिए?

जानिए बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर कैसा होना चाहिए?

उम्र बढ़ने की घटना दुनिया भर में होती हैं। जन्म दर पिछले वर्षों में लगातार कम हो रही है। इस प्रकार, बच्चों की तुलना में बुजुर्ग आबादी तेजी से बढ़ रही है। कई वरिष्ठ स्वतंत्र रहना पसंद करते हैं, उन्हें आराम से रहने में मदद होने के लिए पुरे विचार से डिज़ाइन किए गए घर की आवश्यकता होती है। इसलिए बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर करवाने की सोच रहें हैं, तो यहां कुछ महत्वपूर्ण टिप्स दिए गए हैं जो आपको ध्यान में रखना चाहिए जब आप बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर डिजाइन करवा रहें हैं तो।

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर डिजाइन करने से पहले निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें। जैसे:-

बुजुर्गों के लिए घर का फ्लोरिंग बनवाते समय ध्यान दें

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर करवाते वक्त सबसे पहले कारपेट या फ्लोरिंग पर ध्यान देना चाहिए। इसमें गिरने की स्थिति में चोट न लगे इसलिए कुशनिंग की सुविधा होनी चाहिए। अगर सीनियर सिटीजन व्हीलचेयर की मदद से चलते हैं, तो घर का फर्स समतल होना चाहिए। फर्श के टाइलस का रंग भी सोच समझकर लगवाना चाहिए है। कुछ फर्स के रंग ऐसे होते हैं, जिनपर पानी के छींटे या बूंद नहीं दिखते हैं, और फर्श पर थोड़ा सा पानी भी एक दुर्घटना का कारण बन सकती है। इसलिए फ्लोरिंग के दौरान सही रंग का चयन करें।

यह भी पढ़ें: बुजुर्गों के लिए टेक्नोलॉजी गैजेट्स में शामिल करें इन्हें, लाइफ होगी आसान

सीनियर सिटीजन अगर व्हीलचेयर का उपयोग करते हैं

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर ऐसा हो की, अगर व्हीलचेयर का उपयोग हो रहा है, तो आपके पास हर कमरे में व्यापक दरवाजे और स्पष्ट मार्ग होने चाहिए। व्हीलचेयर का मोड़ साइज लगभग 5 फीट होती है, इसलिए सभी मार्ग कम से कम चौड़े होने चाहिए, दरवाजे कम से कम 4 फीट चौड़े हों। यदि आपके कमरे छोटे हैं, तो डबल दरवाजे एकल दरवाजे से बेहतर काम करते हैं।

घर के दरवाजे पर ध्यान दें

अगर आपके घर के प्रवेश द्वार पर सीढ़ियां हैं, तो सुनिश्चित करें कि वे टूटे हुए या असमान नहीं हैं। सीढ़ियों के हानि को ठीक करने का प्रयास करें, जैसे कि दरारें। अपने सामने के दरवाजे के आसपास रोशनी की जांच करें। सुनिश्चित करें कि सभी प्रवेश मार्गों पर दिये जल रहें हैं, ताकि आप देख सकें कि आप कहां चल रहे हैं। अगर आपके पास स्पीडअप सेंसरी लाइट हो तो यह सबसे अच्छा है, इसलिए आपको अपने आप को रोशनी चालू करने की चिंता नहीं करनी चाहिए।

रसोई की इंटीरियर पर दे ध्यान

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर ऐसा हो की पहुंच के भीतर अपनी सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली वस्तुओं को स्थानांतरित करें। रसोई की वस्तुओं को आप हर दिन इस्तेमाल करते हैं – जैसे कि प्लेट, चम्मच। यह आपको स्टेपस्टूल और कुर्सियों का उपयोग करने से बचने में मदद करेगा। ऊंचाई की अलमारियों पर वस्तुओं तक पहुंचने के लिए आप अपना संतुलन खो सकते हैं। विशेष जरूरतों के लिए एक सिर की योजना बनाएं। जिससे सारी वस्तुएं मिलने पर आसानी हो।

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर डिजाइन में सीढ़ियां को ठीक से डिजाइन करवाएं

सीढ़ियों को स्पष्ट रास्ता दें और सुनिश्चित करें कि जूते और किताबें जैसी चीज़ों को दूर रखा जाए और उन्हें सीढ़ियों पर नहीं छोड़ा जाए। अपनी सीढ़ियों को बेहतर ढंग से देखने में मदद करने के लिए विषम रंग की स्ट्रिप्स जोड़ें। प्रत्येक चरण के किनारों पर रंगीन टेप जोड़ने से मोनोक्रोमैटिक चरणों को अलग करने में मदद मिलेगी। टेप को प्रत्येक चरण के शीर्ष पर और ऊपर रखना सुनिश्चित करें।

यह भी पढ़ें: वर्किंग मदर्स फॉलो करें ये टिप्स, घर और ऑफिस का काम हो सकता है आसान

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर ठीक करवा रहें हैं, तो हॉल कैसा रखें

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर ऐसा हो की, अपने घर के रोशनी की जांच करें, लेकिन बल्बों को स्वयं न बदलें। घर के सभी क्षेत्रों में अच्छा प्रकाश हो यह व्यवस्था करें। लेकिन बाहर के बल्पों को बदलने के लिए कुर्सी या स्टेपलडर का उपयोग न करें। जरूरत पड़ने पर अपने परिवार के सदस्यों, दोस्तों, या पड़ोसियों से मदद लें और बल्ब बदलें। या तो लइडी बल्प लगाएं, वे लंबे समय तक रहते हैं और लंबे समय में आपको पैसा बचा सकते हैं। इसलिए बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर डिजाइन करवा रहें हैं, तो रोशनी का रखें ख्याल प्रायः उम्र बढ़ने के साथ-साथ आंखों की रोशनी कम होने लगती है। इसलिए घर में रोशनी की पूरी व्यवस्था होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: बढ़ती उम्र में अल्जाइमर कितना आम है, जानें इसके बारे में

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर ठीक करवा रहें हैं, तो बेडरूम के डिजाइन पर भी ध्यान दें

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर ऐसा हो की, सुनिश्चित करें कि बिस्तर के पास प्रकाश पहुंचना जरूरी है। यदि आपको रात में उठना है, तो आप आपके जगह से से लाइट चालू करनी आणि चाहिए। अपने बिस्तर से लेकर बाथरूम तक का रास्ता साफ रखें। मार्ग के साथ नाइट लाइट्स रखें, ताकि आप देख सकें कि आप कहां चल रहे हैं। कुछ नाइट-लाइट में सेंसर होते हैं जो अंधेरे में काम करते हैं।

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर डिजाइन करवाने के दौरान बाथरूम का रखें ख्याल

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर ऐसा हो की, शॉवर या टब में नॉन-स्लिप रबर मैट जोड़ें। चटाई या रबर सेल्फ स्टिक स्ट्रिप्स का कर्षण आपको गीली सतहों पर कदम रखते समय फिसलने से बचाने में मदद करेगा। याद रखें, तौलिया रैक बार को नहीं पकड़ते हैं, लेकिन पकड़ने पर तौलिया रैक टूट सकता है। बाथरूम और टॉइलेट के सलाखों को पेशेवर द्वारा लगाना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे सही लगे हैं और दीवारों पर ठीक से लंगर डाले हुए हैं। घर ऐसा होना चाहिए जिसमें वो आसानी से एक्सरसाइज व योग भी कर लें।

बुजुर्गों के लिए घर का इंटीरियर के साथ-साथ निम्नलिखित टिप्स भी फॉलो करें। जैसे:-

  1. घर में कालीन न बिछाएं। क्योंकि व्हीलचेयर या उनके चलने पर पैर कालीन में उलझ सकते हैं
  2. गीले बाथरूम में बुजुर्गों को नहीं जाने दें। इससे फिसलने की संभावना ज्यादा रहती है

इस तरह आप बुजुर्गों कि सेहत और स्वास्थ्य ध्यान में रखते हुए घर कि सजावट और इंटीरियर कर सकते हैं जिससे उन्हें घर में चलने में कम से कम तकलीफ हो और उन्हें कोई शारीरक हानि न पहुंचे।

अगर आप बुजुर्गों की सेहत से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

बुजुर्गों को क्यों है क्रिएटिव माइंड की जरूरत? जानें रचनात्मकता को कैसे सुधारें

बच्चे हो या बुजुर्ग करें मुंह की देखभाल, नहीं हो सकती हैं कई गंभीर बीमारियां

बुजुर्गों के लिए योगासन, जो उन्हें रखेंगे फिट एंड फाइन

जिंदगी भर बना रहेगा रोमांस, कपल्स अपनाएं बस ये 7 रोमांटिक बेडरूम टिप्स

कैसे प्लान करें अपने लिए एक हेल्दी और हैप्पी रिटायरमेंट?

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Smart Homes for Elderly Healthcare—Recent Advances and Research Challenges
/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5712846/Accessed on 06/05/2020

Aging in Place: Growing Older at Home/https://www.nia.nih.gov/health/aging-place-growing-older-home/Accessed on 06/05/2020

The Best Products to Help the Elderly at Home/https://www.healthline.com/health/best-products-to-help-elderly-at-home#1/Accessed on 06/05/2020

Keeping Seniors Safe in Their Own Homes/https://www.webmd.com/healthy-aging/features/keeping-seniors-safe-in-their-own-homes/Accessed on 06/05/2020

 

 

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shilpa Khopade द्वारा लिखित
अपडेटेड 02/10/2019
x