backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी (Osteoporosis) रोकने के लिए करें ये उपाय

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr Sharayu Maknikar


Shilpa Khopade द्वारा लिखित · अपडेटेड 11/09/2020

ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी (Osteoporosis) रोकने के लिए करें ये उपाय

ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी के लक्षण दर्द और परेशानी पैदा कर सकते हैं। इस बीमारी को डॉक्टर को जल्दी दिखाए, यदि आपको गंभीर दर्द का अनुभव हो रहा है, विशेष रूप से पीठ, गर्दन, कूल्हे या कलाई पर। आपको एक फ्रैक्चर वाली हड्डी के कारन दर्द हो सकता है, जिसे मूल्यांकन और उपचार की आवश्यकता होती है।

ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी क्या है?

यह एक हड्डियों का एक रोग है जिसे हिन्दी में भंगुर भी कहते हैं। इसमें रोगी की हड्डियां अंदर से खोखली और कमजोर हो जाती हैं। हमारी हड्डियां कैल्शियम फॉस्फेट और कोलाजेन नाम के प्रोटीन से मिलकर बनी होती हैं। ये तत्व आपस में मधुमक्खी के छत्ते की तरह जुड़े होते हैं। स्वस्थ व्यक्ति के शरीर की हड्डियों के अंदर बहुत कम खाली जगह होती है, जिसके कारण हड्डियां मजबूत होती हैं और आसानी से बाहरी दबावों और झटकों को सह लेती हैं। लेकिन,ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी होने पर रोगी की हड्डियों के बीच का यही स्थान बढ़ जाता है और इसी कारण हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। आमतौर पर ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है मगर इसका सबसे ज्यादा खतरा उम्रदराज लोगों को होता है। यह ज्यादातर पसली की हड्डी, कूल्हे की हड्डी, कलाई की हड्डी और रीढ़ की हड्डी को प्रभावित करता है। खासतौर पर पीठ के निचले हिस्से और गर्दन में हल्का सा भी दबाव पड़ने पर दर्द तेज हो जाता है। क्योंकि ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी का शुरुआती दौर में अक्सर पता नहीं लग पाता, इसलिए इसके जोखिम से बचने के लिए पचास साल की आयु के बाद डॉक्टर नियमित अंतराल पर एक्स-रे कराने की सलाह देते हैं, ताकि इस बीमारी को बढ़ने से रोका जा सके। अ

और पढ़ें : प्रोटीन सप्लिमेंट्स लेना सही या गलत? आप भी हैं कंफ्यूज्ड तो पढ़ें ये आर्टिकल

ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी का कारण क्या है?

  • कमजोर शरीर और कद छोटा होना इसका महत्वपूर्ण कारण है।
  • जरूरत से ज्यादा धूम्रपान करना और शराब का सेवन।
  • कैल्शियम युक्त पदार्थ न लेना।
  • लाइफस्टाइल में एक्सरसाइज और योगा इत्यादि को शामिल न करना।
  • मासिक धर्म नियमित न होना या जल्दी मोनोपोज हो जाना।
  • खाने में विडामिन-डी की मात्रा कम होना।
  • संतुलित आहार न लेना।
  • आर्थराइटिस, टीबी जैसी कोई बीमारी पहले होना।
  • प्रोटीन की कमी होना।
  • बहुत ज्यादा सॉफ्ट ड्रिंक पीने, ज्यादा नमक से भी इस बीमारी की संभावना बढ़ा सकती है।

और पढ़ें : क्या है टीबी स्किन टेस्ट (TB Skin Test)?

ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी के लक्षण

वैसे तो शुरुआत में दर्द के अलावा ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी के कुछ खास लक्षण नहीं दिखाई देते हैं, लेकिन जब अक्सर कोई मामूली सी चोट लग जाने पर भी फ्रैक्चर होने लगे, तो यह ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी का बड़ा संकेत होता है। इस बीमारी में शरीर के जोडों में जैसे रीढ़, कलाई और हाथ की हड्डी में जल्दी से फ्रैक्चर हो जाता है। इसके अलावा बहुत जल्दी थक जाना, शरीर में बार-बार दर्द होना, खासकर सुबह के वक्त कमर में दर्द होना भी इसके लक्षण होते हैं। इसकी शुरुआत में तो हड्डियों और मांसपेशियों में हल्का दर्द होता है, लेकिन फिर धीरे-धीरे ये दर्द बढ़ता जाता है।

और पढ़ें : बच्चों की हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए अपनाएं ये टिप्स

ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) के जोखिम कारक क्या हैं?

पुरुषों और महिलाओं दोनों को ऑस्टियोपोरोसिस हो सकता है, लेकिन महिलाओं में यह स्थिति अधिक सामान्य है क्योंकि यह अक्सर उम्र बढ़ने के साथ होने वाले हार्मोनल बदलावों के कारण होता है। जब आपका शरीर आपके हड्डी के टिश्यू को तेजी से तोड़ता है, तो यह अधिक दर्द पैदा कर सकता है, यह ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी का कारण होता है।

और पढ़ें: क्यों होता है रीढ़ की हड्डी में दर्द, सोते समय किन बातों का रखें ख्याल

ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी के निदान में क्या होता है?

आपका डॉक्टर आपके हड्डी के घनत्व को मापकर ऑस्टियोपोरोसिस का पता लगा सकते हैं। एक एक्स-रे या डीएक्सए मशीन से आपके कूल्हे और रीढ़ को स्कैन करके यह निर्धारित कर सकती है कि आपकी हड्डियां आपके लिंग और उम्र के अन्य लोगों की तुलना में कितनी घनी हैं। डीएक्सए स्कैन प्राथमिक निदान पद्धति है, और यह 10 से 15 मिनट तक कहीं भी ले जाती है। अन्य इमेजिंग अध्ययन जो डॉक्टर निदान या पुष्टि करने के लिए उपयोग करते हैं, उनमें शामिल हैं:

  • अल्ट्रासाउंड, आमतौर पर एक व्यक्ति की एड़ी
  • निचली रीढ़ का सीटी स्कैन
  • रेडियोग्राफ, जो पारंपरिक एक्स-रे हैं।

डॉक्टर आपको बताएंगे, जिससे आपको पता चल जाएगा कि आपकी हड्डी का घनत्व सामान्य है या सामान्य से नीचे है। कभी-कभी एक डॉक्टर ऑस्टियोपीनिया, या कम हड्डी द्रव्यमान के लिए एक निदान किया जाता हैं। जिससे यह साबित होता है कि आपकी हड्डियां उतनी घनी नहीं हैं जितनी होनी चाहिए।

और पढ़ें : Gaucher Diesease : गौशर रोग क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और निवारण

ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) की कॉम्प्लीकेशन्स क्या हैं?

ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी हड्डी के फ्रैक्चर की जोखिम को बढ़ा सकता है, विशेष रूप से कलाई, रीढ़ या कूल्हे के लिए। स्पाइनल फ्रैक्चर के प्रभाव से व्यक्ति छोटा हो सकता है क्योंकि फ्रैक्चर स्पाइनल कॉलम को कम कर देता है। कुछ मामलों में, हड्डी के फ्रैक्चर को सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। ऑस्टियोपोरोसिस से हड्डियों में दर्द भी हो सकता है जो किसी व्यक्ति की दैनिक गतिविधियों को करने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है।

और पढ़ें: बच्चों की स्ट्रॉन्ग हड्डियों के लिए अपनाएं ये 7 टिप्स

ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी का इलाज

ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी के उपचार में हड्डी में तरल पदार्थ का निर्माण करने में मदद करने वाली दवाएं शामिल हैं। हड्डियों के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए दवाओं में अक्सर हार्मोनल प्रभाव, शरीर में एस्ट्रोजन की तरह उत्तेजक होता है।

क्या ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) को रोक सकते हैं?

हड्डियों के नुकसान को रोकने और हड्डियों के घनत्व को बनाए रखने के लिए मेडिसिन लेना महत्वपूर्ण है। हड्डी को दुरुस्त करने में आप शामिल कर सकते हैं:

नियमित रूप से वजन बढ़ाने वाले व्यायाम हड्डियों के निर्माण में मदद करते हैं। उदाहरणों में नृत्य, टहलना या टेनिस जैसे रैकेट के खेल शामिल हैं। कम प्रभाव वाले व्यायाम जैसे चलना महत्वपूर्ण है।

दैनिक आधार पर, एक वयस्क को प्रति दिन लगभग 1,000 मिलीग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है, जब तक कि आप 65 वर्ष के नहीं हो जाते। उसके बाद, कैल्शियम को अक्सर 1,200 से 1,500 मिलीग्राम के बीच बढ़ाना पड़ता है। कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:

  • कम वसा वाले डेयरी उत्पाद
  • डिब्बाबंद सार्डिन और सैल्मन (हड्डियों के साथ)
  • ब्रोकोली
  • फलियां
  • हरा कोलार्ड
  • गोभी
  • बोक चोय
  • गरिष्ठ भोजन, जैसे कि रोटी, अनाज और बादाम का दूध
  • पर्याप्त विटामिन डी प्राप्त करना

दैनिक आधार पर विटामिन डी प्राप्त करें। विटामिन डी शरीर को कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करने के लिए महत्वपूर्ण है। अधिकांश लोगों को प्रत्येक दिन विटामिन डी की 400 इंटरनैशनल इकाइयों (IU) की आवश्यकता होती है। लगभग 15 मिनट के दैनिक सूर्य के प्रकाश से विटामिन डी का उत्पादन उत्तेजित हो सकता है।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

Dr Sharayu Maknikar


Shilpa Khopade द्वारा लिखित · अपडेटेड 11/09/2020

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement