backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

क्या आप जानते हैं सेक्स से पहले और सेक्स के दौरान हाइजीन के ये 10 नियम?

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. हेमाक्षी जत्तानी · डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


Ankita mishra द्वारा लिखित · अपडेटेड 16/06/2021

क्या आप जानते हैं सेक्स से पहले और सेक्स के दौरान हाइजीन के ये 10 नियम?

खुद को इंफेक्शन या बैक्टीरिया से बचाए रखना है, तो सेक्स के पहले और बाद में स्वच्छता के कुछ नियमों का पालन जरूर करना चाहिए। सेक्स के दौरान हाइजीन के नियम पुरुषों और महिलाओं दोनों पर एक समान लागू होते हैं। यह भी याद रखें कि सेक्स सुरक्षित और आनंदमय तभी हो सकता है जब सेक्स के दौरान हाइजीन का पूरा ख्याल रखा जाए।

आमतौर पर सेक्स के दौरान हाइजीन के नियमों से जुड़े अधिकतर कपल्स कई तरह की गलतियां करते हैं, जो सेक्स के दौरान हाइजीन के नियमों के उलट होते हैं, जिसके कारण उन्हें कई तरह की बीमारियों का खतरा बना रहता है। सेक्स के दौरान हाइजीन के नियम जानने से पहले यह भी जानना जरूरी है कि एक सुरक्षित सेक्स क्या होता है?

और पढ़ें : आखिर क्यों साथी से साथ सेक्स के बाद अटैचमेंट बढ़ने लगता है?

सुरक्षित सेक्स क्या है?

हेल्थकेयर स्पेशलिस्ट की मानें, तो दरअसल सुरक्षित सेक्स कोई चीज या वस्तु नहीं होता है। उनके मुताबिक सुरक्षित तरीके से यौन संबंध बनाना ही सुरक्षित सेक्स होता है। सेक्स का तरीका जो किसी भी महिला या पुरुष को यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) से बचाए रखे, वही सुरक्षित सेक्स होता है। जैसे, अगर आप सुरक्षित तरीके से किस नहीं करेंगे, तो आपको दाद, खुजली या एलर्जी जैसे स्किन बीमारियां बहुत तेजी से फैल सकती हैं। इसलिए सुरक्षित सेक्स के लिए हमेशा साफ-सफाई का ध्यान रखें और यौन संचारित संक्रमण से बचने के लिए सेक्स के दौरान कंडोम का इस्तेमाल करें। कंडोम का इस्तेमाल योनि सेक्स और एनल सेक्स के साथ-साथ फोरप्ले और ओरल सेक्स के दौरान भी करना जरूरी होता है।

सेक्स के दौरान हाइजीन के कुछ खास नियम

1.हैंड वॉश करना न भूलें

सेक्स के बेसिक नियमों में फोरप्ले और हाथों का इस्तेमाल अधिक किया जाता है लेकिन, अधिकतर कपल सेक्स से पहले और बाद में अपने हाथों को नहीं साफ करते हैं, जो सेक्स के दौरान हाइजीन न रहने की सबसे बड़ी गलती होती है। आमतौर पर बैक्टीरिया और कीटाणु हमारे हाथों से ही फैलते हैं। सेक्स के दौरान, अक्सर खुद के या पार्टनर के जेनिटल एरिया पेनिट्रेट करने के लिए हाथों का इस्तेमाल किया जाता है। अगर इस दौरान गंदे हाथों का इस्तेमाल किया जाए, तो प्राइवेट पार्ट में बैक्टीरिया ट्रांसफर हो सकते हैं।

2.सेक्स के बाद यूरिन पास करना बहुत जरूरी है

सेक्स के बाद हमेशा यूरिन पास करना चाहिए। सेक्स के दौरान कई प्राकर के बैक्टीरिया मूत्रमार्ग में प्रवेश कर सकते है। इसलिए, सेक्स के बाद पेशाब करना चाहिए, ताकि पेशाब के साथ बैक्टीरिया बाहर निकल सकें।

और पढ़ें : इन वजहों से कम हो जाता है स्पर्म काउंट, जानिए बढ़ाने का तरीका

3.योनि से पहले एनल सेक्स न करें

कई कपल्स योनि सेक्स से पहले एनल सेक्स करते हैं, जो स्वास्थ्य के लिहाज और सेक्स के दौरान हाइजीन के नियमों के लिए खतरनाक होता है। इसलिए, पहले योनि सेक्स उसके बाद ही गुदा सेक्स करना चाहिए क्योंकि, मलाशय के बहुत से कीटाणु योनि में प्रवेश कर सकते हैं।

4.सेक्स के बाद योनि को साफ करें मगर प्यार से

यह ध्यान रखें कि योनि स्वभाविक रूप से खुद को साफ करती है। इसके लिए किसी तरह की मेहनत नहीं करनी होती। कई महिलाएं सेक्स के बाद जरूरी हाइजीन के नियम समझते हुए योनि को साबुन या लिक्विड से साफ करती है। हालांकि, यह अच्छी आदत है लेकिन, योनि को हमेशा सिर्फ साफ पानी से ही धोना चाहिए। इसके लिए योनि से खुशबू आने के लिए कभी भी किसी महकते पदार्थ या स्प्रे का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

5.कंडोम का इस्तेमाल करना भी है जरूरी

सेक्स के दौरान कुछ अलग एहसास पाने के लिए कपल्स कंडोम का इस्तेमाल नहीं करते हैं, जोकि स्वास्थ्य के लिए जोखिम भरा हो सकता है लेकिन, किसी भी यौन रोग से बचे रहने के लिए कंडोम का उपयोग करना बहुत जरूरी होता है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स करना सही या गलत?

6.एसटीडी टेस्ट से परहेज कैसा

भले ही नियमित तौर पर सेक्स नहीं करते लेकिन, इसके बाद भी हर किसी को एसटीडी टेस्ट यानी यौन जनित रोगों की जांच करवानी चाहिए। यौन संचारित रोगों का परीक्षण करवाना महिला और पुरुष दोनों के लिए ही बेहद जरूरी है।

7.माउथवॉश का इस्तेमाल न करना

अगर आप फोरप्ले करना चाहते हैं तो माउथवॉश पहले करें। जैसे सेक्स करने से पहले हाथों को धोना जरूरी है, वैसे ही फोरप्ले करने या किस करने से पहले दोनों साथी को माउथवॉश करना चाहिए।

8.पेनिस (लिंग) की सफाई भी है जरूरी

फोरप्ले, ओरल सेक्स या सेक्स करने से पहले पुरुष साथी को हमेशा अपना पेनिस साफ पानी से साफ करना चाहिए। अपने निजी अंगों को साफ करने के लिए सबसे पहले ऊपरी त्वचा को पीछे की तरफ खींचे फिर हल्के गुनगुने पानी से अंदर लिंग के अंदर की स्किन को साफ करें। फिर ऊपर की त्वचा को भी साफ करें। ऐसा करने से फोरस्किन या उसके अंदर की त्वचा में जो भी बैक्टीरिया या मृत कोशिका या शरीर के तरल पदार्थ होते हैं वो साफ हो जाता हैं। अगर ऐसा नहीं करते हैं, तो ये बैक्टीरिया किसी तरह के एलर्जी या यौन संचारित रोगों का भी कारण बन सकते हैं।

और पढ़ें : हर दिन सेक्स करना कैसे फायदेमंद है, जानिए इसके 9 वजह

9.निजी अंगों के बालों को साफ करना

महिलाओं और पुरुषों के लिए यह बहुत जरूरी है कि वो अपने प्यूबिक हेयर को ट्रिम करके रखें या वैक्सिंग कराएं। यह जरूरी नहीं कि प्यूबिक हेयर सिर्फ सेक्स के दौरान ही साफ करें। बल्कि, आपको अपने शरीर को स्वस्थ्य और स्वच्छ रखने के लिए भी इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए। खासतौर पर गर्मियों और सर्दियों के दिनों में। गर्मियों के दिनों में जहां अत्यधिक पसीना होने के कारण खुजली और दाने की समस्या हो सकती है, वहीं सर्दियों के दिनों में अगर बाल अधिक बड़े हैं, तो प्यूबिक हेयर में भी डैंड्रफ की समस्या हो सकती है। जो कई तरह के स्किन प्रॉब्लम्स का कारण भी बन सकता है।

10.मासिक धर्म के दिनों का भी रखें ध्यान

मासिक धर्म के दौरान सेक्स करना महिलाओं के लिए फायदेमंद होता है। पीरियड्स में सेक्स करने से उन्हें पेट में होने वाली ऐंठन से काफी राहत मिल सकती है। हालांकि, याद रखें कि पीरियड्स के दौरान योनि से प्राकृतिक रूप से एक गंध आती रहती है। इसलिए सेक्स के दौरान हाइजीन का ध्यान रखते हुए कोशिश करें की मासिक धर्म खत्म होने के दो से तीन दिनों बाद ही साथी के साथ सेक्स करें।

सेक्स के दौरान हाइजीन के इन नियमों को ध्यान में रख कर सेक्स के दौरान हाइजीन का पूरा ख्याल रखा जा सकता है। सेक्स के दौरान हाइजीन के ये सारे नियम महिला और पुरुष दोनों के लिए जरूरी होते हैं। अगर सेक्स का सुरक्षित आनंद लेना है तो, बेहतर होगा कि आप अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. हेमाक्षी जत्तानी

डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


Ankita mishra द्वारा लिखित · अपडेटेड 16/06/2021

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement