बच्चों के लिए विटामिन्स की जरूरत और सप्लीमेंटस के बारे में जानिए जरूरी बातें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट February 3, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

माता-पिता अपने बच्चों के लिए जिस बात को लेकर सबसे अधिक परेशान रहते हैं, वो है उनका सही से कुछ न खाना। हर माता-पिता इस बात का पूरा ध्यान रखते हैं कि उनके बच्चे ऐसे आहार का सेवन करें,  जिसमें सभी जरूरी विटामिन और मिनरल हों। विटामिन और मिनरल के बारे में सही जानकारी इस बात को सुनिश्चित करती है कि आपका बच्चा सही न्यूट्रिशनल ट्रैक पर हैं। बच्चों के लिए विटामिन्स(Vitamins for kids) और अन्य मिनरल लेना बेहद आवश्यक है। जिन बच्चों को सही मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिल पाते या जो इन्हें अवशोषित करने में सक्षम नहीं होते, उन्हें सप्लीमेंटस की जरूरत हो सकती है। जानिए बच्चों की ग्रोथ और सही विकास के लिए विटामिन और मिनरल(vitamin and mineral) के बारे में। यह भी जानें कि आप अपने सामान्य भोजन से इन्हें कैसे प्राप्त कर सकते हैं और कब बच्चों को विटामिन सप्लीमेंट की जरूरत पड़ सकती है? 

बच्चों को किन न्यूट्रिएंट्स की जरूरत होती है?

आपके बच्चों को ग्रोथ, विकास और अच्छी सेहत के लिए बहुत से विटामिन और मिनरल(vitamin and mineral) की आवश्यकता होती है। बच्चों के लिए विटामिन्स(Vitamins for kids) में विटामिन A, B, C, D, E और K शामिल है। इसके साथ ही उन्हें मिनरल जैसे कैल्शियम, आयरन, आयोडीन और जिंक की भी जरूरत पड़ती है। बच्चे पर्याप्त विटामिन और मिनरल(vitamin and mineral) किन खाद्य पदार्थों से पा सकते हैं, जानिए:

यह भी पढ़ें : जानें, हमारे शरीर और पुरूषों कि त्वचा के लिए विटामिन सी के फायदे?

विटामिन A 

बच्चों के लिए विटामिन्स(Vitamins for kids) में सबसे पहले है विटामिन A, जो हेल्दी स्किन और सामान्य ग्रोथ के लिए जरूरी है। इसके साथ ही यह आंखों की रोशनी और टिश्यू रिपेयर के लिए भी आवश्यक है। विटामिन A पीली,हरी और नारंगी रंग की सब्जियों, डेयरी प्रोडक्टस में यह अच्छी मात्रा में पाया जाता है। अपने बच्चे के आहार में इन्हें शामिल करें।

 बच्चों के लिए विटामिन्स

विटामिन B

विटामिन B बच्चे के शरीर में रेड ब्लड सेल्स को बनाने और मेटाबोलिक एक्टिविटीज में सहायता करता है। बच्चे के आहार में मांस, पोल्ट्री, मछली, सोया, दूध, अंडे, साबुत अनाज आदि को शामिल करके आप विटामिन B प्राप्त कर सकते हैं।

विटामिन C

विटामिन C को संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर का उपकरण माना जाता है। बच्चों के लिए विटामिन्स(Vitamins for kids) में विटामिन C का बहुत महत्व है। यह मांसपेशियों को भी मजबूत करता है। इसके साथ ही टिश्यू व त्वचा के लिए लाभदायक है और इम्युनिटी बढ़ाने में भी सहायक है। विटामिन C की हेल्दी डोज के लिए, खट्टे फल, स्ट्रॉबेरी, टमाटर, आलू, स्प्राउटस, पालक और ब्रोक्ली बच्चों को खाने को दें।

Quiz: विटामिन-सी कितना फायदेमंद, जानिए पूरा ज्ञान

विटामिन D 

विटामिन D शरीर को मजबूत बनाने और दांतों और हड्डियों को बनाए रखने में मदद करता है। यही नहीं, विटामिन D कैल्शियम जैसे खनिजों के अवशोषण में भी सहायता करता है। विटामिन डी फोर्टिफाइड डेयरी उत्पादों और मछली के तेल में पाया जाता है। इसके साथ ही इसे ग्रहण करने का सबसे अच्छा तरीका है सूरज की रोशनी। विटामिन D के लिए इनका सेवन बच्चे को अवश्य करने दें।

विटामिन E 

विटामिन E इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है और स्वस्थ त्वचा व आंखों के विकास में सहायक हैइसके लिए आप अपने बच्चे के आहार में सनफ्लावर और केनोला आयल को शामिल कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें : क्या सचमुच विटामिन डी के सेवन से कम होगा कोरोना वायरस का खतरा?

विटामिन K 

बच्चों के लिए विटामिन्स(Vitamins for kids) में अगला है विटामिन K। बच्चों के गट में स्वस्थ बैक्टीरिया के निर्माण के लिए विटामिन K जरूरी है। रक्त को थक्का बनाने में मदद करने के लिए विटामिन K महत्वपूर्ण है। इसलिए,अपने बच्चे को हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे ब्रोकली और पालक आदि खाने को दें। अंडे और बींस से भी आपको यह मिल सकता है। 

आयरन

आयरन भी बच्चों के लिए बहुत जरूरी है खासतौर पर जब आपके बच्चे को ग्रोथ हो रही हो। आयरन रक्त के उत्पादन और मांसपेशियों के निर्माण में योगदान देता है। मछली, सेम,पालक और सीरियल आदि आयरन का सबसे अच्छा स्त्रोत हैं। 

कैल्शियम

कैल्शियम आपके बच्चे की हड्डियों और दांतों दोनों के लिए बेहद आवश्यक है। छोटी उम्र में बच्चों की हड्डियों का निर्माण होता है। ऐसे में बच्चों के लिए विटामिन्स(Vitamins for kids) के साथ ही इन मिनरल्स का सेवन जरूरी है। बचपन में अपर्याप्त मात्रा में इसका सेवन करने से बच्चे की ग्रोथ और विकास प्रभावित हो सकता है। कैल्शियम कम वसा वाले दूध,दही, और पनीर में पाया जाता है। ब्रोकली जैसी सब्जियों में भी यह कुछ मात्रा में मौजूद होता है। इसलिए बच्चों को इसे सही मात्रा में देना जरूरी है।

बच्चों के लिए विटामिन्स

जिंक

जिंक बच्चों की ग्रोथ, घाव भरने और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है। आपको मांस, चिकन, सीफूड, दूध, बीज, टोफू और साबुत अनाज से जिंक मिलता है। 

यह भी पढ़ें : विटामिन-ई की कमी को न करें नजरअंदाज, डायट में शामिल करें ये चीजें

आयोडीन 

बच्चों के लिए विटामिन्स(Vitamins for kids) के साथ ही उन्हें आयोडीन भी दें। आयोडीन सामान्य ग्रोथ और टिश्यू डवलपमेंट के लिए जरूरी है।  इसके साथ ही यह कई अन्य समस्याओं को दूर करने में भी प्रभावी है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को आयोडीन के उच्च स्तर की आवश्यकता होती है। बच्चों के लिए भी इसकी सही मात्रा लेना आवश्यक है। आपको सीफूड से आयोडीन मिल सकता है। इसके साथ ही आयोडीन युक्त नमक या ब्रेड जिसमें आयोडीन नमक है उसे भी आप अपने बच्चे को दे सकते हैं।  

पारंपरिक खानपान, योग एवं स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी के लिए क्लिक करें-

क्या बच्चों को मल्टीविटामिन या विटामिन सप्लीमेंटस दिए जाने चाहिए?

बच्चों के लिए विटामिन्स(Vitamins for kids) कितने जरूरी हैं यह तो आप जान गए होंगे। लेकिन, आपके लिए यह जानना भी जरूरी है कि बच्चों के लिए विटामिन सप्लीमेंटस(vitamin supplements for kids) या मल्टीविटामिन देने चाहिए या नहीं। ऐसा माना जाता है कि बच्चों के लिए विटामिन सप्लीमेंटस(vitamin supplements for kids) उन अधिकतर स्वस्थ बच्चों को दिए जाने की जरूरत नहीं होती, जो सामान्य रूप से विकास कर रहे हैं। जो भोजन हम खाते हैं वो नुट्रिएंटस का सबसे अच्छा स्रोत हैं। ऐसे में, नियमित रूप से भोजन और स्नैक्स सभी पोषक तत्व प्रदान कर सकते हैं जो सबसे अधिक बच्चों को चाहिए।

हालांकि, अधिकतर बच्चे खाने को लेकर बहुत चूजी और टाल-मटोल करने वाले होते हैं। लेकिन, इसका अर्थ यह बिलकुल नहीं है कि उनमें पोषक तत्वों की कमी होती है। ज्यादातर सामान्य आहार जैसे दूध, संतरे का जूस आदि जरूरी नुट्रिएंटस से भरा होता है जैसे विटामिन B ,विटामिन D ,कैल्शियम और आयरन आदि। जिनसे आपके बच्चे को पर्याप्त विटामिन और मिनरल(vitamin and mineral)  प्राप्त हो सकते हैं।

क्या बच्चों के लिए विटामिन सप्लीमेंटस(vitamin supplements for kids) के साथ कुछ रिस्क जुड़े हो सकते हैं?

मल्टीविटामिन को लेना बच्चे के लिए कुछ हद तक रिस्की हो सकता है। अगर विटामिन या मिनरलस को अधिक मात्रा में लिया जाए तो यह उनके लिए बेहद हानिकारक सिद्ध हो सकता है। जैसे सर्दी और फ्लू को रोकने की उम्मीद में अगर आप बच्चे को विटामिन C की उच्च खुराक देते हैं तो  बच्चे को मतली, दस्त आदि हो सकते हैं। इसके साथ ही कुछ विटामिन सप्लीमेंट उन दवाओं के साथ इंटरैक्ट कर सकते हैं, जिन्हें आपका बच्चा ले रहा है। अगर आप इस बात को लेकर चिंतित हैं कि आपका बच्चा सही मात्रा में विटामिन और मिनरल(vitamin and mineral) ले रहा है या नहीं तो डॉक्टर की सलाह लेना बेहद आवश्यक है। 

बच्चों के लिए विटामिन्स

किन स्थितियों में बच्चों के लिए विटामिन सप्लीमेंटस(vitamin supplements for kids) लेना जरूरी होता है?

बच्चों को वयस्कों के जैसे ही नुट्रिएंट चाहिए होते हैं लेकिन उन्हें इनकी कम मात्रा में आवश्यकता होती है। बच्चों के लिए विटामिन्स(Vitamins for kids) और मिनरल बेहद जरूरी हैं। किन्हीं स्थितियों में बच्चों के लिए विटामिन सप्लीमेंटस(vitamin supplements for kids) की सलाह भी दी जा सकती है , जैसे:

अगर बच्चा किसी खास डाइट को लेता हो 

अगर आपका बच्चा सिर्फ शाकाहारी आहार, वेगन डाइट या रिस्ट्रिक्टेड डाइट लेता है, तो माता-पिता के लिए यह सुनिश्चित करना बेहद आवश्यक है कि उसे पूरे विटामिन और मिनरल(vitamin and mineral) मिलें। जैसे शाकाहारी और वेगन डाइट फॉलो करने वाले बच्चों को पर्याप्त आयरन नहीं मिल पता। ऐसे ही उन्हें विटामिन सप्लीमेंट या मल्टीविटामिन्स दिये जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें : Vitamin H : विटामिन एच क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

बच्चे को कोई क्रोनिक बीमारी या फूड एलर्जी है

फूड एलर्जी और फूड इनटॉलेरेंस के कारण बच्चों को पर्याप्त मात्रा में नुट्रिएंट जैसे कैल्शियम नहीं मिल पाते। क्रोनिक बीमारी वाले बच्चे जैसे क्रोहन रोग आदि से पीड़ित बच्चों को पर्याप्त विटामिन और मिनरल नहीं मिल पाते। इसके लिए माता-पिता को सही से प्लानिंग और रिसर्च करनी चाहिए। डॉक्टर की सलाह के बाद उन्हें भी मल्टीविटामिन्स दिये जा सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

अगर आपके बच्चे की ग्रोथ सही से न हो रही हो 

अगर आपके बच्चे की सही शारीरिक ग्रोथ नहीं हो रही हो तो ऐसी स्थिति में भी बच्चों के लिए विटामिन सप्लीमेंटस(vitamin supplements for kids) लेने की सलाह दी जा सकती है। यही नहीं, अगर आपका बच्चा अधिक मीठी ड्रिंक्स, चिप्स या केक आदि खाता है तो उसे ऐसा लगता है जैसे उसका पेट भर गया है और वो उस आहार का सेवन नहीं करता जो उसकी ग्रोथ के लिए जरूरी है। ऐसा बच्चा पर्याप्त विटामिनस और मिनरल्स से वंचित रह जाता है। ऐसे में भी उसकी सही ग्रोथ के लिए उसे विटामिन सप्लीमेंट दिये जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें : शरीर, त्वचा और बालों के लिए विटामिन-ई (Vitamin E) के फायदे

बच्चों के विटामिन और अन्य सप्लीमेंट कई रंगों और आकारो में बाजार में उपलब्ध हैं। लेकिन, यह बात समझें कि यह कोई मिठाई नहीं हैं।  इसके साथ ही अपने बच्चे को भी यह समझा दें कि विटामिन एक तरह की दवाई है, कोई स्नैक नहीं। इस मल्टीविटामिन के लेवल पर लिखे निर्देशों का पालन करें या डॉक्टर के बताये अनुसार ही इसका सेवन करें। विटामिन और सप्लीमेंट को बच्चों की पहुंच से दूर रखें। अगर आपको सप्लीमेंटस के बारे में कोई भी सवाल है तो अपने डॉक्टर से अवश्य पूछे। 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Nuhenz Tablet : न्यूहेंज टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

न्यूहेंज टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, न्यूहेंज टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Nuhenz Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

विटामिन सप्लिमेंट्स लेना कितना सुरक्षित है? जानें इसके संभावित खतरे

विटामिन सप्लिमेंट्स क्या हैं? कैसे लिए जाते हैं, जानें विटामिन सप्लीमेंट्स के प्रकार in hindi, vitamin suppliments in hindi। कई बार भोजन से कुछ पोषक तत्व नहीं मिल पाते, ऐसे में विटामिन सप्लीमेंट्स लिए जाते हैं, लेकिन अपनी मर्जी से सप्लीमेंट्स लेना क्या सुरक्षित है, जानिए यहां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
दवाइयां और सप्लिमेंट्स A-Z February 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बार-बार बीमार पड़ना हो सकता है लो इम्यूनिटी का संकेत, ऐसे बढ़ाएं इम्यून पावर

क्या आप बार-बार बीमार पड़ते हैं? तो इम्यूनिटी बढ़ाने के उपाय कौन से अपनाए जाएं, इम्यून पावर कैसे बढ़ाये, इसके बारे में यहां जानिए।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Sidharth Chaurasiya
आहार और पोषण, स्पेशल डायट October 27, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

कहीं आप तो नहीं पीते है यह सूप? जान तो लें कि वेज या नॉन वेज है यह?

वेज या नॉन वेज क्या खाते हैं आप? शुद्ध शाकाहारी खाने वाले लोग चीनी, च्यूइंग गम, ऑरेंज जूस को वेज समझकर खाते हैं लेकिन, ये आइटम्स नॉन वेज हैं....जानकर हैरानी होगी लेकिन यह सूप भी....

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
पोषण तथ्य, आहार और पोषण October 1, 2019 . 3 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

मेगालोब्लास्टिक एनीमिया (Megaloblastic Anemia)

Megaloblastic Anemia: मेगालोब्लास्टिक एनीमिया क्या है? जानिए इसके लक्षण और इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ January 25, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
ड्रग्स एंड न्यूट्रिशनल सप्लीमेंट्स, drug and supplements

ड्रग्स और न्यूट्रिशनल सप्लिमेंट्स में होता है अंतर, ये बातें नहीं जानते होंगे आप

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ December 1, 2020 . 10 मिनट में पढ़ें
वेजीटेरियन डाइट

वर्ल्ड वेजीटेरियन डे : ये 10 शाकाहारी खाद्य पदार्थ मीट से कहीं ज्यादा ताकतवर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ September 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
जेविट कैप्सूल

Zevit Capsule : जेविट कैप्सूल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ August 17, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें