जानें कितने प्रकार के होते हैं वजायनल इंफेक्शन?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Share now

वजायनल इंफेक्शन यानी कि योनि में संक्रमण महिलाओं में सबसे सामान्य समस्या है। लेकिन वजायनल इंफेक्शन कई तरह के होती हैं। जिसका असर सेहत पर अलग-अलग पड़ता है और इसके कारण भी अलग-अलग होते हैं। जैसा कि जानकारी ही सबसे बड़ा इलाज है। इसलिए आपको जानना जरूरी है कि आपको किस तरह का इंफेक्शन हो सकता है। आइए हैलो स्वास्थ्य आपको बताएगा कि वजायनल इंफेक्शन कितने प्रकार के होते हैं और आप किस तरह से इसका इलाज कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : तरह-तरह के कॉन्डम फ्लेवर्स से लगेगा सेक्स लाइफ में तड़का

कितने प्रकार के होते हैं वजायनल इंफेक्शन?

सामान्यतः वजायनल इंफेक्शन निम्न प्रकार के होते हैं :

  1. बैक्टीरियल वजायनॉसिस (Bacterial vaginosis)
  2. यीस्ट इंफेक्शन
  3. सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन (sexually transmitted infections)
  4. वजायनाइटिस (Vaginitis)
  5. यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (Urinary tract infection)

बैक्टीरियल वजायनॉसिस (Bacterial vaginosis)

बैक्टीरियल वजायनॉसिस वजायना में बैक्टीरियम की अधिक वृद्धि के कारण होने वाला वजायनल इंफेक्शन है। सेक्स करने से भी बैक्टीरियल वजायनॉसिस होता है और ये उन्हें भी हो सकता है जो लोग सेक्सुअल एक्टिव नहीं होते हैं। मेनोपॉज और हॉर्मोनल बदलावों के कारण भी बैक्टीरियल वजायनॉसिस हो जाता है। जिसके कारण भी वजायना से बदबू आती है

यह भी पढ़ें : स्ट्रेस कहीं सेक्स लाइफ खराब न करे दे, जानें किस वजह से 89 प्रतिशत भारतीय जूझ रहे हैं तनाव से

किन्हें हो सकता है बैक्टीरियल वजायनॉसिस

बैक्टीरियल वजायनॉसिस अमूमन 15 से 44 साल की महिलाओं के अंदर होता है। इस वजायनल इंफेक्शन के होने का खतरा सबसे ज्यादा निम्न लोगों को होता है : 

  • नए पार्टनर के साथ सेक्स करने से
  • कई लोगों के साथ सेक्स करने से
  • सेक्स के दौरान कंडोम का इस्तेमाल न करने से
  • अगर आप गर्भवती हैं तो भी आपको बैक्टीरियल वजायनॉसिस हो सकती है। चार में से एक महिला गर्भावस्था में बैक्टीरियल वजायनॉसिस से परेशान रहती है। 

बैक्टीरियल वजायनॉसिस के लक्षण क्या है?

बैक्टीरियल वजायनॉसिस के लक्षण बहुत महिलाओं में सामने नहीं आते हैं। लेकिन, जो भी लक्षण सामने आते हैं, वो निम्न हैं :

बैक्टीरियल वजायनॉसिस का इलाज क्या है? 

बैक्टीरियल वजायनॉसिस बैक्टीरिया से होने वाला एक वजायनल इंफेक्शन है। ज्यादातर बैक्टीरियल इंफेक्शन का इलाज एंटीबायोटिक्स से द्वारा किया जाता है। अगर आपको बैक्टीरियल वजायनॉसिस है तो आप डॉक्टर के पास जाएं और अपना इलाज कराएं। अगर आप दवा का कोर्स पूरा नहीं करेंगे तो आपको फिर से बैक्टीरियल वजायनॉसिस होने का खतरा रहेगा। 

यह भी पढ़ें : अब सिर्फ 1 रुपए में मिलेगा सैनिटरी पैड, सरकार ने लॉन्च की ‘सुविधा’

यीस्ट इंफेक्शन 

यीस्ट इंफेक्शन यीस्ट नामक फंफूद से होने वाली एक समस्या है। जो महिला के योनि और गुप्तांगों को प्रभावित करती है। यीस्ट इंफेक्शन के कारण योनि पर दाने निकल जाते हैं, जो संक्रमण के साथ बढ़ते जाते हैं।

किन्हें हो सकता है यीस्ट इंफेक्शन?

लगभग 75 प्रतिशत महिलाएं यीस्ट इंफेक्शन से पीड़ित होती है। यीस्ट इंफेक्शन वजायना के अलावा स्तनों पर भी हो सकता है (अगर महिला स्तनपान करा रही है तो संभावना बनती है)। यूं तो यीस्ट इंफेक्शन सेक्स करने से नहीं फैलता है, पर कुछ मामलों में पाया गया है कि सेक्स करने से यीस्ट इंफेक्शन पार्टनर को हो जाता है। इसलिए हमेशा सुरक्षित सेक्स करना चाहिए

यीस्ट इंफेक्शन होने का सबसे ज्यादा खतरा निम्न लोगों को होता है :

 यीस्ट इंफेक्शन के लक्षण क्या हैं? 

यीस्ट इंफेक्शन होने के क्या कारण हैं? 

यीस्ट इंफेक्शन एक फंगल इंफेक्शन है जो फफूंद के कारण होता है। यीस्ट नामक फंफूद वजायना में नमी पाते ही फैलने लगता है। जिसके बाद यह पूरी वजायना में फैलने लगता है। 

यीस्ट इंफेक्शन का इलाज क्या है? 

यीस्ट इंफेक्शन होने पर एंटीफंगल दवाओं से इलाज किया जाता है। माइकोनाजोल या टायोकॉनाजोल जैसी दवाओं को डॉक्टर यीस्ट इंफेक्शन में देते हैं। लेकिन, ये दवाएं बिना डॉक्टर के परामर्श के न खाएं। 

यह भी पढ़ें : यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन से बचने के 8 घरेलू उपाय

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन (sexually transmitted infections)

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन (STIs) को सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज (STDs) भी कहा जाता है। ये वजायनल इंफेक्शन वजायनल, ओरल या एनल सेक्स के द्वारा होता है। सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन महिलाओं में बांझपन का कारण भी बनता है। 

किन्हें हो सकता है सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन (STIs)?

2002-03 में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन (STIs) बीमारी से हर साल लगभग 100 लाख महिलाएं परेशान रहती हैं। सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन 15 साल से 24 साल तक ही महिलाओं में होने का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। 

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन के लक्षण क्या हैं?

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन होने के क्या कारण हैं? 

  • असुरक्षित यौन संबंध बनाने से या वजायनल, ओरल या एनल सेक्स करने से आपको यह वजायनल इंफेक्शन हो सकता है। इससे सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन अनसेफ सेक्स से फैलता है। 
  • अगर आप सेक्स नहीं करते हैं तो भी आपको सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन हो सकता है। अगर आप अपने जननांगों को छूते हैं तो आपको सिफैलिस और हर्पिस होने का खतरा रहता है। 
  • एक गर्भवती महिला या स्तनपान कराने वाली महिला से सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन उसके बच्चे को भी हो सकता है।

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन का इलाज क्या है? 

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन के इलाज के लिए ओरल दवा या मलहम दिया जाता है। जो सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन के असर को धीरे-धीरे कम करती है। सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन में कई तरह की समस्याएं होती हैं। इसलिए डॉक्टर लक्षणों के आधार पर दवा और इलाज करते हैं। 

वजायनाइटिस (Vaginitis)

वजायनाइटिस एक वजायनल इंफेक्शन है, जिसमें योनि में जलन और दर्द होता है। वजायनाइटिस होना बहुत सामान्य है। जिस कारण वजायना से बदबू आती है। 

किन्हें हो सकता है वजायनाइटिस?

वजायनाइटिस ज्यादातर महिलाओं को होता है। ये अमूमन 18 साल से 40 साल तक की महिलाओं को होने का खतरा ज्यादा रहता है। 

वजायनाइटिस के लक्षण क्या हैं?

वजायनाइटिस के लक्षण बैक्टीरियल वजायनॉसिस और यीस्ट इंफेक्शन की तरह ही होते हैं। 

वजायनाइटिस होने के क्या कारण हैं? 

वजायनाइटिस होने के लिए नुकसानदायक बैक्टीरिया जिम्मेदार होते हैं।वजायनाइटिस उन्हीं बैक्टीरिया से होते हैं, जो बैक्टीरियल वजायनॉसिस के लिए जिम्मेदार होते हैं।

वजायनाइटिस का इलाज क्या है? 

वजायनाइटिस का इलाज एंटीबायोटिक्स के द्वारा किया जाता है। इसके अलावा सेक्स करते समय कॉन्डम का प्रयोग जरूर करें। जिससे आपको वजायनाइटिस होने का खतरा कम हो जाएगा। 

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन 

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (UTI) महिलाओं में होने वाली सबसे सामान्य बीमारी है। वर्ल्ड हेल्थ ओर्गनइजेशन (WHO) के रिपोर्ट के अनुसार तकरीबन 50 प्रतिशत महिलाओं को कभी ना कभी यूरिन इंफेक्शन की परेशानी हुई है। यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन का मुख्य कारण सफाई (हाइजीन) नहीं रखना माना जाता है। जिसमें योनि व मूत्रमार्ग में जलन और दर्द भी हो सकता है। UTI किसी भी उम्र की महिला को कभी भी हो सकता है। 

किन्हें हो सकता है यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन?

यूटीआई होना बहुत सामान्य है। ये 25 में से 10 महिलाओं को होता ही है। इसके अलावा 25 में से 3 पुरुष भी यूटीआई की समस्या से परेशान रहते हैं। पुरुष यूटीआई से कम प्रभावित होते हैं क्योंकि उनका मूत्रमार्ग महिलाओं की तुलना में लंबा होता है। जिससे बैक्टीरिया को महिलाओं के यूरिनरी ट्रैक्ट को प्रभावित करने में आसानी होती है। 

यूटीआई होने का सबसे ज्यादा खतरा निम्न लोगों को होता है :

यूटीआई के लक्षण क्या हैं?

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन के लक्षण निम्न हैं : 

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन होने का कारण क्या हैं? 

यूटीआई के संक्रमण के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया का नाम इश्चीरिया कोलाई (Escherichia coli) है। ये बैक्टीरिया हमारे आंतों में रहता है। फिर यह हमारे मलाशय (rectum) से गुदा (Anus) तक पहुंचता है। फिर वजायना से होते हुए मूत्रमार्ग तक बैक्टीरिया पहुंच जाता है। फिर हमारे मूत्राशय (Urinary Bladder) को प्रभावित कर देता है। जिससे ये संक्रमण हो जाता है।

इसके अलावा यूटीआई होने के निम्न कारण होते हैं : 

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन का इलाज क्या है? 

  • यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन का इलाज एंटीबायोटिक्स की मदद से किया जाता है। जिसे डॉक्टर के परामर्श पर ही लेना चाहिए। ये एंटीबायोटिक्स को डॉक्टर दिन में दो बार लगभग पांच से सात दिनों तक खाने के लिए कहते हैं। 
  • इसके अलावा संक्रमण को कम करने के लिए लो डोज की एंटीबायोटिक्स ले सकती हैं। जैसे- नाइट्रोफ्यूरैनटॉइन, ट्राइमेथॉप्रिम-सल्फामेथॉक्साजोल और सिफैलेक्सिन को आप यूटीआई दोबारा होने पर ले सकते हैं।  जिससे यूटीआई के दोबारा होने के जोखिम कम हो जाएंगे। 
  • आपको ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी पीना चाहिए। जिससे ज्यादा मात्रा में यूरीन होगी और यूटीआई के बैक्टीरिया फ्लश हो जाएंगे। 
  • यूटीआई के लिए आप चाहें तो करौंदे (cranberry) का जूस भी पी सकते हैं। करौंदा यूटीआई के संक्रमण को कम करता है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें। 

और पढ़ें : 

क्यों होता है सेक्स के बाद योनि में इंफेक्शन?

लेडीज! जानिए सेक्स के बाद यूरिन पास करना क्यों जरूरी है

ये हैं वजायना में होने वाली गंभीर बीमारियां, लाखों महिलाएं हैं ग्रसित

पब्लिक टॉयलेट यूज करने पर होने वाली वजायनल खुजली से कैसे बचें?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Parsley piert: पार्सले पिअर्त क्या है?

जानिए पार्सले पिअर्त की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, पार्सले पिअर्त उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Parsley piert डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Mona Narang
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Broom Corn: ब्रूम कॉर्न क्या है?

जानिए ब्रूम कॉर्न की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, ब्रूम कॉर्न उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Broom corn डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Mona Narang
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Epididymitis: एपिडिडीमाइटिस क्या है?

जानिए एपिडिडीमाइटिस क्या है in hindi, एपिडिडीमाइटिस के कारण और लक्षण क्या है, Epididymitis को ठीक करने के लिए क्या उपचार है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Kanchan Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Urinary Tract Infection: यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) क्या है?

जानिए यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन क्या है in hindi, यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Urinary tract infection को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anu Sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

निफ्टास टैबलेट

Niftas Tablet : निफ्टास टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
Published on जुलाई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
सिटल सिरप

cital syrup: सिटल सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 9, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Vesicoureteral Reflux- वेसिकोरेट्रल रिफ्लक्स

Vesicoureteral Reflux: वेसिकोरेट्रल रिफ्लक्स क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Kanchan Singh
Published on अप्रैल 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
पेशाब का रंग-urine colour

पेशाब का रंग देखकर पहचान सकते हैं इन बीमारियों को

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on अप्रैल 6, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें