रुजुता दिवेकरः ब्रेन हेल्थ के लिए जरुरी है लोअर स्ट्रैंथ एक्सरसाइज

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 8, 2020
Share now

डायटिशियन रुजुता दिवेकर सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आए दिन अपने फॉलोअर्स के लिए अलग-अलग हेल्दी टिप्स और एक्सरसाइज शेयर करती रहती हैं। वर्ल्ड मेंटल हेल्थ डे यानि 10 अक्टूबर को रुजुता दिवेकर ने इंस्टाग्राम और फेसबुक पर ब्रेन हेल्थ के लिए कुछ एक्सरसाइज शेयर की है।

तीन मिनट के इस विडियो में रुजुता लोगों के चाल यानि की चलने के तरीके (Gait) में आने वाले बदलाव के बारे में बात कर रही हैं। कैसे लोगों की चाल समय के साथ बदलती है और कैसे वह बदली हुई चाल किसी बीमारी की तरफ इशारा करती है यह सब उन्होंने विडियो में समझाया है।

ये भी पढ़ेंः कॉफी का पहला कप करता है दिमाग में 5 बदलाव

रुजुता ने बताया है कि एक उम्र के बाद जैसे कि 50-60 साल की उम्र के दौरान या आसपास लोगों के चलने का तरीका बदल जाता है जिसे गेट (Gait) कहा जाता है। अगर आपके आसपास या घर में कोई है जिसकी चाल में बदलाव आया है तो उसका कारण लोअर बॉडी में स्ट्रेंथ की कमी है। ऐसे लोगों की जल्दी ही एक्सरसाइज या जिम की मदद से अपने लोअर बॉडी स्ट्रेंथ पर काम करना चाहिए।

बदलते समय के साथ खान-पान और दूसरे कारणों की वजह से बढ़ती उम्र में लोगों की चाल में बदलाव आ जाता है। इस बदलाव का मुख्य कारण है लोअर बॉडी पार्ट में स्ट्रेंथ की कमी। इस बदलती चाल (Gait) के साथ जुड़ा है दिमाग की किसी बीमारी जैसे की भूलने की बीमारी, सोचने की क्षमता कम हो जाना या अल्जाइमर। जिससे ब्रेन हेल्थ सीधे-सीधे प्रभावित होता है। 

रुजुता बताती हैं कि चाल के बदलाव का मुख्य कारण है बाएं और दाहिने पैर में असमान ताकत। दोनो पैर मे समान ताकत नहीं होने की वजह से एक पैर दूसरे पैर का बोझ उठाने के लिए कॉम्पनशेट करता है जिसकी वजह से चाल में बदलाव आता है और व्यक्ति एक तरफ झुक कर चलने लगता है। 

ये भी पढ़ेंः जानें ऑटोइम्यून बीमारी क्या है और इससे होने वाली 7 खतरनाक लाइलाज बीमारियां

इनमें से कोई भी लोवर स्ट्रेैंथ एक्सरसाइज आप किसी ट्रेनर की देखरेख में कर सकते हैंः

ऐसे कोई भी लक्षण दिखते ही तुरंत जिम जाना शुरु करें या लोउर बॉडी पार्ट में ताकत के लिए एक्सरसाइज करना शुरु करें। 12 हफ्ते की लोअर बॉडी एक्सरसाइज से यह परेशानी कम और कंट्रोल हो सकती है। जिससे आपकी ब्रेन हेल्थ भी अच्छी रहेगी। 

ब्रेन हेल्थ के लिए खाएं ये फूड्स

शरीर का कोई भी अंग हमारे खानपान पर ही निर्भर करता है, जितना अच्छा खानपान रहेगा हमारा शरीर भी उतना अच्छे से काम करेगा। 

बींस और दाल से सुधरेगी ब्रेन हेल्थ

बींस और दाल में कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन की काफी अच्छी मात्रा होती है। बींस आपको कार्बोहाइड्रेट प्रदान करते हैं, जो ऊर्जा के लिए बहुत जरूरी है। वहीं दाल में मौजूद प्रोटीन शरीर में ऊर्जा बनाए रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इनके सेवन से ब्रेन हेल्थ को दुरुस्त रखने और याद्दाश्त को बढ़ाने में बहुत मदद मिलती है।

ये भी पढ़ेंः शराब ना पीने से भी हो सकता नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर डिजीज

ब्रेन हेल्थ के लिए खाएं दही

दही का सबसे बड़ा फायदा है कि यह ‘ब्रेन सेल’ को लचीला बनाता है। यह मस्तिष्क को किसी चीज का सिगनल लेने और प्रतिक्रिया करने की क्षमता को विकसित करता है। आप नियमित रूप से खाने में दही लें तो आपकी ब्रेन हेल्थ सही रहेगी।

ओट्स का स्वाद बढ़ाएगा ब्रेन हेल्थ

ओट्स में प्रचुर मात्रा में फाइबर मौजूद होता है, जो खाने को धीरे-धीरे पचाने में मदद करता है। जिससे आपको एनर्जी लगातार मिलती रहती है। इसके अलावा, ओट्स विटामिन ई, पोटेश्यिम और बी-विटामिंस से युक्त होता है। यह ब्रेन फूड्स ब्रेन हेल्थ के लिए बहुत जरूरी है।

मछली है लाभदायक

मछली में ‘विटामिन डी’ और ‘ओमेगा 3′ की मात्रा पर्याप्त होती है, जोकि ब्रेन हेल्थ के लिए बहुत जरूरी है। इसके अलावा मछली गुड फैट्स और वसा से भी भरपूर होती है। सारडाइन, साल्‍मन और टूना मछली में ये अधिक पाया जाता है। इनमे पाए जाने वाले मिनरल्स दिमाग को विकसित करने में सहायक हैं।

ये भी पढ़ेंः गाय, भैंस ही नहीं गधे और सुअर जैसे एनिमल मिल्क में भी छुपा है पोषक तत्वों का खजाना

आलूबुखारा खाएं

स्वाद में खट्टा-मीठा आलूबुखारा गर्मियों में मिलने वाला एक मौसमी फल है। आलूबुखारा में बॉडी के लिए जरूरी पोषक तत्व जैसे मिनरल्स और विटामिन की भरपूर मात्रा में पाई जाती हैं। यह डायट्री फाइबर से भरपूर होता है। इसमें एंटी-ऑक्‍सीडेंट भी होता है। आलूबुखारा ब्रेन हेल्थ के लिए खाए जाने वाले फलों में से एक है। 

ब्रेन हेल्थ के लिए स्वादिष्ट हैं बेरी

स्‍ट्रॉबेरी और ब्‍लूबेरी में एंटी-ऑक्‍सिडेंट पाया जाता  है, जो कि दिमाग के संज्ञानात्मक कार्य को बढ़ाता है। इसके अलावा, इनमें मौजूद एंटी-ऑक्‍सिडेंट ब्रेन हेल्थ और दिमाग के कार्य करने की क्षमता को भी तेज करता है।

ये भी पढ़ेंः

दूध का दिमाग से है गहरा नाता

आपके ब्रेन फूड्स में अब बारी है दूध की। दूध को हमेशा से शरीर के संपूर्ण विकास के लिए जाना जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि फैट-फ्री मिल्‍क में कई फायदे छुपे होते हैं। दूध प्रोटीन, विटामिन डी और फॉस्‍फोरस का बहुत बड़ा भंडार होता है। यदि आपको दूध पचने संबंधी परेशानी न हो तो आप दूध जरुर पिएं। दूध में मौजूद कैल्शियम शारीरिक विकास और मानसिक विकास के लिए जरूरी होता है। दूध से बनी चीजों का सेवन करने से ब्रेन हेल्थ के हेल्दी रहने में मदद मिलती है।

ब्रेन हेल्थ बढ़ाएगा अंडे का फंडा

आपके अच्छे ब्रेन हेल्थ के लिए अंडा भी एक अच्छा स्रोत है। अंडे में विटामिन और प्रोटीन की उच्च मात्रा पाई जाती है, जोकि मानसिक विकास के लिए अच्छा होता है। इसमें मौजूद आवश्यक पोषक तत्वों से दिमाग में सेल्स का विकास होताहै। जिससे बच्चे का दिमाग बहुत तेज चलता है। इसके अलावा अंडे के इस्तेमाल से न केवल दिमागी क्षमता में वृद्धि होती है, बल्कि शारीरिक विकास के ​लिए भी अच्छा है।

ये भी पढ़ेंः बॉडी पार्ट जैसे दिखने वाले फूड, उन्हीं अंगों के लिए होते हैं फायदेमंद भी

सूखे फल दिमाग को करेंगे हरा भरा

ड्राई फ्रूट प्रोटीन से युक्‍त आहार है। जिनमें फैटी एसिड और मिनरल पाए जाते हैं। ड्राई फ्रूट में भी आप अखरोट जरूर लें। ये दिमाग को बढ़ाने के साथ याद्दाश्त को भी अच्छा बनाता है। क्योंकि अखरोट में दिखने वाली झुरियों हमारी बॉडी के एक ही पार्ट की तरह दिखती हैं, वह है दिमाग। वहीं अखरोट को ‘ब्रेन फूड’ भी कहा जाता है। अखरोट में काफी मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ेंः 

इस दिमागी बीमारी से बचने में मदद करता है नींद का ये चरण (रेम स्लीप)

सिर्फ दिल और दिमाग की नहीं, दांतों की भी सोचें हुजूर

दिमाग नहीं दिल पर भी होता है डिप्रेशन का असर

इन 5 तरीकों से बढ़ाएं बच्चों का दिमाग

संबंधित लेख:

    सूत्र

    Rujuta Diwekar Tells Just The Right Way To Progress With Your Strength Training Routine https://doctor.ndtv.com/living-healthy/strength-training-top-guidelines-to-progress-from-rujuta-diwekar-1873179 Accessed on 5/12/2019

    The Best Lower Body Strength Exercises https://www.verywellfit.com/best-lowerbody-weight-training-exercises-3498517 Accessed on 5/12/2019

    Rujuta Diwekar Instagram https://www.instagram.com/tv/B3bUTempkJu/?igshid=mg1whown4gy Accessed on 5/12/2019

    Aiming for weight loss? Try strength training, says Rujuta Diwekar https://www.thehealthsite.com/fitness/weight-training/aiming-for-weight-loss-try-strength-training-says-rujuta-diwekar-x0218-554886/ Accessed on 5/12/2019

    Rujuta Diwekar Twitter https://twitter.com/RujutaDiwekar/status/1182246596727078914 Accessed on 5/12/2019

    Brain Foods https://www.webmd.com/parenting/features/brain-foods-for-children#1 Accessed on 5/12/2019

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    प्रेग्नेंसी में फ्लोराइड कम होने से शिशु का आईक्यू होता है कम

    जानें प्रेग्नेंसी में फ्लोराइड का सेवन करने से आपके शिशु को क्या-क्या नुकसान पहुंच सकते हैं। Pregnancy me flouride का बच्चे के आईक्यू पर प्रभाव।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shivam Rohatgi

    Transient ischemic attack: ट्रांसिएंट इस्कीमिक अटैक क्या है?

    जानिए मिनी स्ट्रोक क्या है in hindi, मिनी स्ट्रोक के कारण और लक्षण क्या है, mini stroke को ठीक करने के लिए क्या उपचार है, जानिए यहां।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Kanchan Singh

    कीड़े का काटना या डंक मारना कब हो जाता है खतरनाक? क्या है बचाव का तरीका

    कीड़े का काटना in Hindi, कीड़े का काटना या कीड़े के डंक के लिए घरेलू उपाय, मधुमक्खी के काटने पर क्या करें, के लक्षण, मच्छर के काटने पर क्या करें।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Ankita Mishra

    फर्स्ट डिग्री से थर्ड डिग्री तक जानिए जलने के प्रकार और उनके उपचार

    जलने के प्रकार क्या हैं, जलने के प्रकार in Hindi, फर्स्ट डिग्री बर्न, सेकेंड डिग्री बर्न, थर्ड डिग्री बर्न, फोर्थ डिग्री बर्न, Types of burn.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha