मुंह की समस्याओं का कारण कहीं डायबिटीज तो नहीं?

Medically reviewed by | By

Update Date फ़रवरी 18, 2020
Share now

डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है जो पूरे शरीर को प्रभावित कर सकती है। डायबिटीज ओरल हेल्थ यानि मुंह की समस्या का भी कारण बन सकती है। डायबिटीज से मुंह की समस्या आम परेशानी है। सामान्य लोगों के मुकाबले डायबिटीज वाले लोगों को मुंह की समस्याएं होने का खतरा ज्यादा होता है। डायबिटीज से मुंह की समस्या के बारे में आज हम आपको इस आर्टिकल के जरिए बताएंगे।

यह भी पढ़ेंः रिसर्च: आर्टिफिशियल पैंक्रियाज से मिलेगी डायबिटीज से राहत

डायबिटीक लोगों की ओरल हेल्थ

डायबिटीज और ओरल हेल्थ समस्याओं के बीच लिंक हाई ब्लड शुगर है। अगर ब्लड शुगर को ठीक तरीके से नियंत्रित नहीं किया जाता है, तो मुंह की समस्याएं होने की आशंका बढ़ जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अनियंत्रित डायबिटीज वाइट ब्लड सेल को कमजोर करता है, जो मुंह में होने वाले बैकटिरियल इंफेक्शन के खिलाफ लड़ता है। डायबिटीज से मुंह की समस्या के तार इसलिए जुड़े हुए हैं क्योंकि हाई ब्लड शुगर आगे चलकर मुंह के अंदर के होने वाले फंक्शन को कमजोर कर देता है।

जैसा कि अध्ययनों से पता चला है कि ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करने से मधुमेह से दूसरों अंगों पर होने वाले खतरों को कम किया जा सकता है – जैसे आंख, हृदय और नर्व डैमेज।  इसके अलावा मधुमेह को कंट्रोल करने से मुंह की समस्याओं से भी बचा जा सकता है। डायबिटीज से मुंह की समस्या के अलावा दूसरी परेशानियां भी हो सकती हैं। लेकिन डायबिटीज को कंट्रोल करके आप दूसरी समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।

ये भी पढ़ें- डायबिटीज की दवा कर सकती है स्मोकिंग छोड़ने में मदद

डायबिटीज से मुंह की समस्याः

मधुमेह से ग्रसित लोगों को इन बीमारियों का जोखिम बढ़ जाता है :

ड्राई माउथ:

अनियंत्रित शुगर, लार (थूक) के प्रवाह को कम कर सकता है, जिसकी वजह से ड्राई माउथ हो सकता है। ड्राई माउथ आगे चलकर खराश, अल्सर, इंफेक्शन और दांत की समस्याओं का कारण बन सकता है। डायबिटीज से मुंह की समस्या में ड्राई माउथ बहुत कॉमन हैं और सबसे बड़ी बात लोग इस परेशानी पर ध्यान नहीं देते। इसकी प्रॉब्लम बढ़ने पर लोग अपने डेंटिस्ट से सुझाव लेते हैं। लेकिन ड्राई माउथ को इग्नोर करने की वजह से लोगों को दूसरी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ड्राई माउथ की वजह से व्यक्ति को खराश की परेशानी होती है। इसके अलावा अल्सर भी ड्राई माउथ की वजह से होता है।

मसूड़े की सूजन (Gingivitis) और पीरियोडोंटाइटिस (Periodontitis):

व्हाईट ब्लड सेल को कमजोर करने के अलावा मधुमेह की एक और परेशानी यह है कि यह ब्लड वैसेल को मोटा करती है। मसूड़ों में सूजन की वजह से पोषक तत्व शरीर में नहीं जाते और ना ही दांतों की सफाई हो पाती है। जब मुंह के अंदर इस तरह की परेशानी होती है, तो शरीर इंफेक्शन से लड़ने की क्षमता खो देता है। चूंकि पीरियोडोंटाइटिस एक बैक्टिरियल इंफेक्शन है, इसलिए अनियंत्रित मधुमेह वाले लोग बार-बार गंभीर मसूड़ों की बीमारी का अनुभव कर सकते हैं। डायबिटीज से मुंह की समस्या होने पर समय से अपने डॉक्टर से सलाह लें। समय से डॉक्टर को दिखाने से मुंह की समस्या को आगे बढ़ने से रोका जा सकता है। डायबिटीज से मुंह की समस्या में मसूड़े की सूजन सबसे सामान्य परेशानी है जिसे लोग घरेलू उपाय से ठीक कर देते हैं।

ये भी पढ़ें- क्या होती है लीन डायबिटीज? हेल्दी वेट होने पर भी होता है इसका खतरा

डायबिटीज से मुंह की समस्या का बने रहना

मुंह की सर्जरी या दूसरे दांत के इलाज के बाद अनियंत्रित मधुमेह वाले लोग जल्दी से ठीक नहीं होते हैं क्योंकि हो सकता है कि इलाज वाली जगह पर ब्लड फ्लो ठीक ना हो। मसूड़ें की सूजन की वजह खून का फ्लो ठीक नहीं रहता जिससे दूसरी परेशानी हो सकती है।

थ्रश

शुगर के मरीज अलग-अलग इंफेक्शन से लड़ने के लिए अक्सर एंटीबायोटिक लेते हैं, जिन्हें खासतैर पर मुंह और जीभ का फंगल इंफेक्शन होने का खतरा होता है। अनियंत्रित डायबिटीज वाले लोगों की लार में फंगस हाई ग्लूकोज लेवल की वजह से पनपता है। डेन्चर पहनने (विशेषकर जब उन्हें लगातार पहना जाता है) से भी फंगल इंफेक्शन हो सकता है।

मुंह या जीभ में जलन

यह परेशानी थ्रश की वजह से होती है। मुंह या जीभ में जलन डायबिटीज से मुंह की समस्या का एक कारण हो सकता है। मुंह या जीभ में जलन में डायबिटीज बड़ा रोल निभाता है। डायबिटीज से मुंह की समस्या में जीभ में जलन हर किसी को महसूस नहीं होती लेकिन इसके लक्षण दिखते ही अपने डॉक्टर से संपर्क करें। इसके डायबिटीज से मुंह की समस्या में होंठ या जीभ के छाले भी काफी लोगों को परेशान करते हैं। इस परेशानी के लिए कई बार आपको डॉक्टर के पास जाने की जरूरत नहीं होती और यह खुद ही ठीक हो जाता है। मुंह या जीभ में जलन होने पर आप अपने डेंटिस्ट से बात कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें- डायबिटीज से छुटकारा पाने के लिए यह है गोल्डन पीरियड

डायबिटीज से मुंह की समस्या होने पर सफाई रखने के टिप्स

  • अपने दांतों और मसूड़ों की अपने डॉक्टर द्वारा साल में कम से कम दो बार साफ और जांच करवाएं। कितनी बार आपको चेकअप की जरुरत  होगी, यह निर्धारित करने के लिए अपने दांत के डॉक्टर से बात करें।
  • दिन में कम से कम एक बार डेंटल फ्लॉस से दांतों में प्लेक होने से रोकें।
  • खाने के बाद ब्रश करें। नरम-ब्रिसल वाले टूथब्रश का उपयोग करें।
  • अगर आप डेंचर पहनते हैं, तो उन्हें हटा कर हर रोज साफ करें।
  • अगर आप धूम्रपान करते हैं, तो छोड़ने के तरीकों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

मधुमेह के साथ, जो लोग धूम्रपान करते हैं, उन्हें बीमारी होने का खतरा अधिक होता है। धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धुम्रपान करने वालों को थ्रश और पेरियोडॉन्टल बीमारी होने की 20 गुना अधिक चांसेज होते हैं। धूम्रपान करने से मसूड़ों में ब्लड का फ्लो रुकता है, जो इस टिसु के आस-पास घाव भरने को प्रभावित कर सकता है। डायबिटीज से मुंह की समस्या को कम करने के लिए समय-समय पर जांच कराना जरूरी है। 

और पढ़ें-

क्या डायबिटीज से हो सकती है दिल की बीमारी ?

रिसर्च: हाई फाइबर फूड हार्ट डिसीज और डायबिटीज को करता है दूर

बढ़ती उम्र और बढ़ता हुआ डायबिटीज का खतरा

डायबिटीज में फल को लेकर अगर हैं कंफ्यूज तो पढ़ें ये आर्टिकल

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    जानें कब और क्यों बदलता है दांतों का रंग, ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सतर्क

    दांतों का रंग हमारे सेहत के बारे में बताता है। दांतों को स्वस्थ रखने के लिए मुंह की देखभाल जरूरी है ताकि बीमारी से बचा जा सके।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh

    Teething: टीथिंग क्या है?

    जानिए टीथिंग क्या है in hindi, टीथिंग के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, teething को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Sunil Kumar

    Abscess Tooth: एब्सेस टूथ क्या है?

    जानिए एब्सेस टूथ क्या है in hindi, एब्सेस टूथ के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Abscess Tooth को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Bhawana Sharma

    Carlina: कार्लिना क्या है?

    कार्लिना का उपयोग क्यों किया जाता है? कर्लिना का उपयोग करते वक्त क्या-क्या सावधानियां रखनी चाहिए? कार्लिना साइड इफेक्ट्स क्या हैं? carlina uses

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Anu Sharma