साल 2021 में भी फॉलो करें ये हेल्दी रेज्यूलेशन और रहें फिट

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट December 31, 2020 . 11 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोराेना वायरस जैसी महामारी के साथ लोगों का ये साल कैसा रहा, ये बात किसी से छुपी नहीं है। अगर हेल्थ की बात करें, तो इस साल कई तरह के उतार-चढ़ाव लोगों की हेल्थ में भी आए हैं। साल 2020 सेहत के लिहाज से सही नहीं बीता और आने वाला साल कैसा रहेगा, इसका अभी सही से अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है। क्योंकि जब तक वैक्सीन लोगों तक पहुंच नहीं जाती है, तब तक कुछ भी सही कहा नहीं जा सकता है।  इस साल कोरोना के चलते सबकी लाइफस्टाइल काफी प्रभावित हुई है। लेकिन दूसरी तरफ इस वायस के चलते लोग अपने हेल्थ को लेकर काफी जागरूक भी हुए हैं। इस बीमारी के प्रकोप से बचने के लिए हर किसी ने अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव के साथ कुछ अच्छी हेल्दी हेबिट्स भी अपनाई हैं।  हम ये भी कह सकते हैं कि कोरोना वायरस ने हमें कुछ ऐसी हेल्दी हैबिट्स भी सिखायी हैं, जिसे हम भविष्य में भी फॉलो कर के फिट और हेल्दी रह सकते हैं।

और पढ़ें: इम्यून सिस्टम क्विज खेल कर जानें इससे जुड़े मिथ्स और फैक्ट्स

साल 2021 में फिट रहने के लिए फॉलों करें ये हेल्दी हैबिट्स

इस बारे में डायटिशियन अरूणा गोयल का कहना है कि अभी भी कोरोना का कहर खत्म नहीं हुआ है, लोगों को इससे बचने के लिए जरूरी है कि वो अभी भी वैसी ही हेल्दी लाइफस्टाइल को ही फॉलो करें।अगर आपको रहना है फिट, तो इस न्यू ईयर में हेल्दी रेज्यूलेशन के साथ करें अपने साल की शुरूआत। जिस तरह कोरोना जैसे वायरस से खुद को बचाने के लिए आपने पूरे साल खुद को हेल्दी रखने की कोशिश की है। इसी तरह आगे भी इसे जारी रखें। अगर आप अंदर से फिट हैं और सभी हेल्दी हैबिट्स को फाॅलो कर रहे हैं, तो किसी भी बीमारी के चपेट में जल्दी नहीं आएंगे, अपनाएं फिट रहने के लिए ये हेल्दी लाइफस्टाइल हैबिट्स-

1- अपनाएं इम्यूनिटी बूस्टर हैबिट्स ( Immunity booster habits )

पहले तो अधिकतर लोग अपने इम्यून सिस्टम को लेकर इतने सजग नहीं थें। लेकिन अब हो गए हैं और ऐसा भी सिर्फ कोरोना वायरस की वजह से ही हुआ है। पहले लोग सिर्फ डायबिटीज के लिए मीठे से परहेज, हार्ट डिजीज से बचने के लिए ऑयल से कंट्रोल और बीपी की समस्या से बचने नमक से परहेज करते थें। लेकिन अपनी इम्यूनिटी को कैसे अच्छा बनाकर रखना है, इस पर किसी का ध्यान नहीं जाता था। सबसे बड़ी बात, लोगों को ये समझ नहीं थी कि इन सभी बीमारियों से लड़ने के लिए हमारे इम्यून सिस्टम का अच्छा होना बहुत जरूरी है। लोगों ने इस बात का ध्यान अब जाकर देना शुरू किया है। अगर आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी है, तो आप बड़ी से बड़ी बीमारी से आसानी से लड़ सकते हैं, फिर चाहें वो कोरोना ही क्यों न हो।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

2. इन हाइजीन हैबिट्स रखें पूरा ध्यान

साफ-सफाई  के नए तरीके और असल तरह से सफाई क्या है ? ये भी हमें इस साल कोरोनावायरस ने सिखाया। दुनियाभर में फैल चुके इस खतरनाक वायरस का प्रकोप अभी खत्म नहीं हुआ है। इसलिए हाइजीन का ध्यान रखना बहुत आवश्यक है। कोराेना वायरस हो या कोई अन्य बीमारी, सभी से बचने के लिए साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना बहुत जरूरी है। जिस आने वाल साल 2021 और उसके बाद भी इसे फॉलो करें। हाइजीन में केवल घर की साफ-सफाई ही जरूरी नहीं है, बल्कि कई बातों का ध्यान रखना भी आवश्यक है, जैसे कि जूते-चप्पल को बाहर ही उतारें। इससे घर में  धूल-मिट्टी के साथ न जानें कितने कीटाणु भी साथ में आते हैं, इसलिए डॉक्टर भी इन्हें घर के अंदर न पहनकर आने की सलाह देते हैं। आप चाहें, तो सिर्फ घर के अंदर पहनने के लिए जूते-चप्पल अलग कर सकते हैं, इन्हें बाहर पहन कर ना जाएं।  अपने घर आने वाले लोगों को भी जूते बाहर निकाल कर आने को कहें।  इसके अलावा जमीन के फर्श की सफाई के लिए पानी में केमिकल मिलाकर साफ करें। हेल्दी हैबिट्स में जब भी बाहर से कोई समान घर के अंदर लाएं, तो बिल्कुल साफ कर के लाएं। साफ-सफाई के लिए और भी कई बातों का ध्यान रखना है, जैसे कि अगर कोई गेस्ट आए, तो उसे पर्सनल वॉशरूम की जगह केवल गेस्ट वॉशरूम के इस्तेमाल की सलाह दें। क्योंकि इससे इंफेक्शन होने का खतरा कम हो जाता है। यदि वो आपका वॉशरूम इस्तेमाल कर भी रहे हैं, ताे उसके बाद उसे तुरंत क्लीन करें।

QUIZ-  कोरोना वायरस और हाइजीन के बारे में कितना जानते हैं आप? खेलें ये क्विज

ट्रैवेलिंग हाइजीन ( Travelling hygiene)का रखें ध्यान

आने वाले साल में भी हर तरह के इंफेक्शन से बचने के लिए इन ट्रैवलिंग रूल्स को भी फॉलो करना चाहिए, जैसे कि-

  • हमेशा सेफ्टी किट का इस्तेमाल करें।
  • बाहर का फूड न खाएं।
  • अपनी पानी की बॉटल कैरी करें।
  • पब्लिक वॉशरूम का इस्तेमाल न करें
  • ट्रैवेलिंग के दौरान हैंड सैनेटाइज़र, पेपर सोप, टिश्यू पेपर्स हमेशा कैरी करें।

और पढ़ें:प्रेग्नेंसी के दौरान ट्रैवलिंग सेफ है या नहीं?

powered by Typeform
 

सोशल हाइजीन (Social hygiene) का रखें ध्यान

कोविड-19 के बाद ट्रैवल

सोशल हाइजीन का हमेशा ध्यान रखना आवश्यक है, ताकि आप भविष्य में भी हर प्रकार के इंफेक्शन से बचे रहें-

  • घर हो या ऑफिस अपने चारों ओर सफाई का विशेष ध्यान रखें और आसपान रखें हुए समान को सैनेटाइज करते रहें।
  • किसी से हाथ न मिलाएं और थोड़ी दूरी बनाए रखें।
  • पब्लिक प्लेस में हैंड ग्लव्स का इसतेमाल करें।
  • किसी भी समान को छूने के बाद हाथों को धोएं और सेनेटाइज दोनों ही करें।


3- हेल्दी डायट ( Healthy Diet) है जरूरी

Keto diet

इस महामारी के दौरान लोगों ने स्वस्थ खानपान के महत्व को जाना है। बहुत सारे लोगों का बाहर का फूड खाना बंद हो गया है। लोगों की अच्छी हेल्थ के लिए अच्छी डायट होना बहुत जरूरी है। हेल्दी हैबिट्स में अगर आपकी डायट अच्छी है और आप सभी जरूरी पोषक तत्वों को ले रहे हैं, तो कोरोना हो या कोई और बीमारी जल्दी आपके पास भी नहीं आएगी। इस बारे में डायटीशियन अरूणा गोयल का कहना है कि यदि किसी की इम्यूनिटी अच्छी है, तो बीमारियों का खतरा  बहुत कम होता है। अच्छी रोग प्रतिरोधक क्षमता होने के लिए आपके शरीर में इन जरूरी पोषक तत्वों का पहुंचना जरूरी है। जिसके लिए आप इन फूड्स का सेवन भी कर सकते हैं। इम्यूनिटी के लिए ये तीन मुख्य पोषक भी जरूरी हैं-  जस्ता, विटामिन डी और विटामिन सी।

1. जिंक

अपनी डायट में जिंक की भी भरपूर मात्रा लेने से आपकी इम्यूनिटी अच्छी रहेगी। आपको जिंक युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जैसे कि टोफू, पनीर, पालक, बींस, फलियां, छोले और दाल आदि में। जस्ता और अच्छी प्रतिरक्षा होने के बीच एक मजबूत संबंध है। आप इन फूड्स का सेवन विभिन्न रूप में कर सकते हैं। आपकी प्रतिरक्षा प्रतिरक्षा के लगभग हर एक स्तर के लिए जिंक की आवश्यकता होती है।, काजू, मूंगफली और बादाम जैसे नट्स का सेवन भी आपके लिए फायदेमंद है।

2. विटामिन डी

अच्छी रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए जरूरी है कि आप  अपनी डायट में विटामिन डी की भी भरपूर मात्रा शामिल करें। वैसे तो विटामिन डी के लिए धूप को सबसे अच्छा माना जात है, पर आप इसके लिए विटामिन डी की सप्लिमेंट भी ले सकते हैं।  रोज कम से कम आपको 10 से 15 मिनट तक के लिए धूप में सिकाई करनी चाहिए। हेल्दी हैबिट्स में विटामिन डी के साथ आपको विटामिन ए का भी ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि  विटामिन डी केवल विटामिन ए की उपस्थिति में इम्यूनिटी के लिए काम करता है। इसलिए विटामिन-ए प्राप्त करने के लिए  केला, आम, गाजर, खुबानी और सभी पीले सब्जियों का सेवन करना फायदेमंद होता है।

QUIZ- Quiz : विटामिन के बारे में आप क्या जानते हैं?

3. विटामिन सी

आजकल तो यह बात सभी जानते हैं कि अच्छी इम्यूनिटी के लिए विटामिन सी कितना महत्वपूर्ण है। तो आपको इसे रोजाना अपनी डायट में शामिल करना चाहिए, जैसे कि नीबू के रस का सेवन, किसी भी रूप में। इसके अलावा किवी और मौसमी जैसे खट्टों फलों में भी इसका अच्छा स्त्रोत होता है।

और पढ़ें:आपकी डायट प्लान से जुड़े अहम सवाल, बताएं अपनी डायट के बारे में

जरूरी हेल्दी फूड

ओटमील 

ओटमील को अपने ब्रेकफास्ट में शामिल करें। ये बहुत हैल्दी होता है और  साधारण ओटमील को आप फलों के साथ और भी हेल्दी बनाकर खा सकते हैं। ओट्स में  कई पोेषण तत्व होते हैं। अच्छी मात्रा में ओमेगा 3, फैटी एसिड, फोलेट, और पोटेशियम पाया जाता है, जो की दिल के लिए काफी अच्छा माना जाता है।

केला 

केला भी अच्छी इम्यूनिटी के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। इसमें उच्च मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है, उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है, जिन्हें हाइपरटेंशन की शिकायत रहती है। केला न सिर्फ इंसटेंट एनर्जी देता है बल्कि पेट को हेल्दी रखने में भी कारगर माना जाता है। केले को आप दूध के अलावा और भी कई तरह से ले सकते हैं।

 बादाम

बादाम कई स्वास्थ्यवर्धक गुणों से भरपूर होते हैं। रोज सुबह खाली पेट बादाम खाने की सलाह डॉक्टर भी देते हैं और इसके कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। बादाम को अगर भिगोकर खाते हैं, तो ज्यादा फायदा होता है। इसमें विटामिन, मैंगनीज, प्रोटीन, फाइबर और ओमेगा 3 फैटी एसिड मिल जाते हैं।

दही 

दही में भी कई हेल्दी गुण होते हैं। डॉक्टर भी नाश्ते में किसी न किसी रूप में दही के सेवन की सलाह देते हैं।। दही हमारी गट हेल्थ के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। दही खाने से कई फायदे होते हैं, इसमें प्रोबायोटिक्स पाए जाते हैं, जो आपके पेट को साफ रखते है और आपका पाचन भी अच्छा रहता है।

QUIZ- Quiz : कीटो डायट से जुड़े अहम सवाल के जवाब जानने के लिए खेलें क्विज

 अंडा 

हेल्दी हैबिट्स और डायट में रोजाना अंडे का सेवन आपको कई बीमारियों से बचाने में मददगार है। डॉक्टर भी सबुह के नाश्ते में बॉयल अंडे की सलाह देते हैं। अंडे में बहुत अच्छी मात्रा में प्रोटीन और पोषक तत्व पाए जाते हैं, जैसे कि विटामिन डी और ओमेगा-3 की अधिक मात्रा। अंडे में कई ऐसे गुण होते हैं, जिससे आपकी इम्यूनिटी अच्छी बनी रहती है।

चिया सीड्स 

चियासीड्स में भी प्रोटीन की उच्च मात्रा पाई जाती है। ये वेट लॉस के साथ इम्यूनिटी के लिए काफी अच्छी है। इसमें प्रोटीन की मात्रा की भी उच्च मात्रा पायी जाती है। चिया सीड्स को खाने में डालने से पहले 5 से 10 मिनट तक पानी में भी भीगो लेना चाहिए। इसका नियमित सेवन आपको कई तरह की बीमारियों से भी बचा सकता है। कोशिश करें कि इसे रोज सुबह खाली पेट लें।

4- जरूरी हेल्थ चेकअप ( Health checkup)

कोराेना के टाइम ये बात को सभी को समझ में आ चुकी है कि रेग्यूलर मेडिकल चेकअप कितना जरूरी है। इस साल की तरह आप आगे भी अपना फुल बॉडी चेकअप कराते रहें। इसमें आपके पूरे शरीर की जांच हो जाती है और आपको यह पता चल जाता है कि आपका शरीर फिट है या नहीं। आपको किसी प्रकार की बीमारी तो नहीं है या होने की कोई संभावना तो नहीं है। अगर कोई बीमारी का खतरा है या उसके शुरुआती लक्षण हैं, तो इसकी जानकारी मिल जाएगी आपको। इससे आपको जेनेटिक बीमारियों की जानकारी मिल सकती है। जिससे आप समय रहते उसका इलाज करवा सकते हैं। हेल्दी हैबिट्स में जरूरी चेकअप को समय पर करवाना भी शामिल करें।

और पढ़ें: क्या वीगन डायट फर्टिलिटी बढ़ाती है?

फुल बॉडी चेकअप के लिए क्या करें?

  1. जब भी आप टेस्ट करवाने के जाएं, तो उस दौरान अगर आपकी कोई दवाइयां चल रही हैं, तो उसका पर्चा भी साथ लेकर जाएं। अगर आपके पास डॉक्टर द्वारा सलाह किए गए टेस्ट के पर्चा है, तो सबसे अच्छी बात है।
  2.  हाल ही के दिनों में अगर कोई शारीरिक जांच हुई है, तो उसके रिपोर्ट्स जरूर लेकर जाएं।
  3. मेडिकल या सर्जिकल कोई ऐसी हिस्ट्री रह चुकी है, तो वह भी बताएं।
  4. अगर आपको वर्तमान समय में किसी प्रकार की शरीरिक दिक्कत चल रही है, तो उसके बारे में भी जरूर बताएं। इसे लैब वाले समझ सकेंगे कि आपको और कौन से टेस्ट की जरूरत है।

और पढ़ें : कैलोरी और एनर्जी में क्या है संबंध? जानें कैसे इसका पड़ता है आपके शरीर पर असर

जरूरी फुल बॉडी चेकअप

हेल्थ चेकअप के लिए  ब्लड टेस्ट

ब्लड टेस्ट  सभी टेस्ट में सबसे महत्वपूर्ण टेस्ट है। डॅाक्टर भी किसी बीमार की जांच के लिए सबसे पहले ब्लड टेस्ट ही करवाने की सलाह देते हैं। ब्लड टेस्ट में भी कई टेस्ट शामिल होते हैं, जैसे कि  हीमोग्लोबिन टेस्ट, प्लेटलेट्स काउंट टेस्ट, ब्लड शुगर लेवल, कोलेस्ट्रॉल का लेवल की जानकारी मिल जाती है।

 हार्ट डिजीज के लिए चेकअप

आजकल लोगों में हार्ट डिजीज का खतरा काफी बढ़ गया है। चाहें वो किसी भी उम्र मे हो। सच कहें तो आजकल लोगोंं की लाइफस्टाइल इतनी ज्यादा बिगड़ चुकी है कि डायबिटीज, हापरटेंशन और हार्ट डिजीज की समसया बड़ों से लेकर बच्चों तक में दिख रही है। इस बीमारी का एक कारण बढ़ता वजन है। हालांकि, बढ़ते वजन को आम परेशानी मानकर इग्नोर नहीं किया जा सकता है। इसलिए फुल बॉडी चेकअप करवाने से इन सभी बीमारियों की जानकारी मिल जाती है।

कैंसर टेस्ट के लिए

फुल बॉडी में महिलाओं को ब्रेस्ट और ओवरी की जांच की सलाह समय-समय पर करवाने के लिए दी जाती है। इससे ब्रेस्ट कैंसर या ओवरी कैंसर की जानकारी मिल जाती है। तो वहीं पुरुषों में प्रोस्टेस्ट की जांच जरूरी होती है।  कैंसर की जानकारी अगर फस्ट स्टेज में मिल जाए तो इस बीमारी से लड़ना आसान होता है।

QUIZ- Quiz: किन व्यक्तियोंं को होती है कोरोना वायरस जांच की जरूरत, जानने के लिए खेलें कोरोना का टेस्ट क्विज

 लिवर फंक्शन टेस्ट जरूर करवाएं

रेग्यूलर चेकअप में अक्सर लोग लिवर फंक्शन की जांच नहीं करवाते हैं। इसकी चांज भी बहुत जरूरी है। इसलिए कंपलिट बॉडी चेकअप में लिवर फंक्शन टेस्ट भी किया जाता है। इससे शरीर में प्रोटीन, ग्लोबुलिन और एल्बुमिन की जानकारी मिल जाती है।

 हेल्थ चेकअप में जरूरी है किडनी फंक्शन टेस्ट

किडनी फंक्शन टेस्ट  की मदद से ब्लड यूरिया, क्रिएटिनिन, यूरिक एसिड व अन्य खनिजों के स्तर का पता लगाया जा सकता है। इसमें निम्न टेस्ट किए जाते हैं, जैसे कि ब्लड में क्रिएटिनिन का स्तर, ग्लोमेरुल फिल्ट्रेशन रेट और ब्लड यूरिया नाइट्रोजन। यह जांच बहुत जरूरी है डायबिटीज और किडनी वालों के लिए।

  ब्लड शुगर टेस्ट को न भूलें

आजकल डायबिटीज की समस्या भी किसी उम्र में हो सकती है। इसलिए ब्लड शुगर या ग्लूकोज टेस्ट में खून में शुगर (ग्लूकोज) की मात्रा को मापा जाता है। शुगर लेवल का भी दो तरह का टेस्ट होता है। एक तो फास्टिंग यानि की बिना कुछ खाएं और दूसरा खाने के 2 घंटे बाद।

यूरिन टेस्ट भी है जरूरी

यूरिन टेस्ट में भी शरीर में होने वाली कई तरह की बीमारियों का पता लग जाता है। पूरे शरीर के जांच के दौरान यूरिन टेस्ट किया जाता है। इससे शरीर में ग्लूकोज और प्रोटीन लेवल की जानकारी मिलती है।

 कान की जांच जरूर करवाएं

जब से ये कोराेना वायरस आया तब से डॉक्टर सभी बॉडी चेकअप में कान के जांच की भी सलाह देते हैं। इससे व्यक्ति के सुनने की क्षमता की जानकारी मिलती है।

5- पॉजिटिव थिंकिंग होना है जरूरी

पॉजिटिव सोच कितनी जरूरी है, ये बात भी अधिकतर लोग समझ गए होंगे। आपकी पॉजिटिव सोच भी आपके मेंटल हेल्थ को अच्छा रखती है। अगर आपकी मेंटल हेल्थअच्छी है, तो आप इसका असर आपकी अच्छी इम्यूनिटी पर भी होगा। हेल्दी हैबिट्स में अच्छी मेंटल हेल्थ के लिए आप मेडिटेशन करें। कोराेना महाकाल में आपके मन में नकारात्मक विचार आए होंगे। लेकिन आपकी सकारात्मक सोच बहुत जरूरी है। अगर आप सोच पाॅजिटिव है तो आप कई स्ट्रेस, तनाव और डिप्रेशन जैसे कई बीमारियों से बच सकते हैं। इसके अलावा आपकी पॉजिटिव सोच आपकी लाइफ में कई तरह के सही निणर्यों में भी आपकी मद्द करेगी।

6.  फिटनेस के लिए करें डेली एक्सरसाइजेस

अच्छी इम्यूनिटी के लिए बाॅडी का फिट होना बहुत जरूरी है। जिसके लिए आप अपने डेली सैड्यूल में एक्सरासइज को भी आने वाले साल में भी करते रहें। इसमें आप कुछ योग और व्यायाम शामिल करें। ये हमारे स्वास्थ्य के लिए कितना ज्यादा जरूरी है ये सभी जानते हैं। लेकिन फॉलो करने में सबको समय लग जाता है। कोरोनावायरस ने लोगों को इतना समय दिया है कि ज्यादातर लोगों ने योगासन और एक्सरसाइज करने की आदत बना ली है, जिसे आपको आगे भी फॉलो करना है।

हेल्दी पॉवर जॉगिंग 

पावर जॉगिंग स्वस्थ रहने का एक अच्छा तरीका है और आप इसे कम समय यानि की 20 मिनट में भी कर सकते हैं। यह एक ट्रेडमिल पर या किसी बड़े पार्क और स्पेस में तेज वॉक ही तरह किया जा सकता है। यानि कि आप नॉमर्ल वॉकिंग में 1 किलोमीटर 20 मिनट में करते हैं, तो इसमें तेज वॉक की सहायता से 20 मीनट में 1.5 से 2 किलोमीटर के बीच की दूर तय करनी होती है। आप जब जॉगिंग करते हैं, तब बीस मिनट में आप लक्ष्य पूरा कि। हालांकि, गति में कोई कमी नहीं होनी चाहिए।  पॉवर जॉगिंग के अलावा आप  पावर साइकिलिंग भी बीस मिनट के  लिए कर सकती हैं। जब भी आप पाॅवर साइकिलंग वर्कआउट करें। जब भी आप पैडल मारें, अपनी गति को बढ़ाने की कोशिश करें और टाइमर शुरू रखें। कोशिश करें कि पांच से दस मिनट में 100 राउंड पैडल करना होना चाहिए।

हाई नीज एक्सरसाइज

हाई नीज एक्सरसाइज भी आप डेली प्लान में शामिल कर सकते हैं।  इस एक्सरसाइज के बीच-बीच में 10 से 15 सेकेंड का ब्रेक ले सकते हैं। इस एक्सरसाइज को करने से आपके पैर मजबूत होंगे। हाईनीज के अपने कई फायदे हैं, इससे तेजी से वजन घटता है। सिर्फ पांच मिनट तक हाईनीज एक्सरसाइज करने से आप 55 से 60 कैलोरी बर्न कर लेते हैं। आपकी मांसपेशियों भी मजबूत बनती है। इससे मेटाबॉलिज्म भी मजबूत बनता है, हाई नीज की मदद से आप चयापचय से जुड़ी समस्याओं को दूर करके मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है

सूर्य नमस्कार योग करें

हेल्दी हैबिट्स में अच्छी इम्यूनिटी के लिए सूर्य नमस्कार बहुत जरूरी है। इससे शरीर के कई फायदे हैं। सूर्य नमस्कार योग एक हार्ट एक्सराइज मानी जाती है।  सूर्य नमस्कार के सभी चरण पूरे शरीर को स्वस्थ बनाने में बहुत उपयोगी हैं। इसमें होने वाले 12 आसन को सूर्य नमस्कार मुद्रा भी कहा जाता है। यह आपके पूरे शरीर की गांठों को खोलने के साथ आपकी इम्यूनिटी को भी अच्छा बनाता है। इसके अलावा सूर्य नमस्कार के और भी कई फायदे हैं। ये योग  मन शांत करता है और एकाग्रता को बढ़ाता है। प्रत्येक सूर्य नमस्कार के चरण में 12 आसनों के क्रम होते हैं। यानी कि 12 योग आसनाें के कम्र से 12 योग आसन पूर्ण होते हैं। सूर्य नमस्कार के एक चरण के दूसरे क्रम में योग आसनों का वही क्रम दोहराना होता है।

सूर्य नमस्कार suryanamaskar

  1. प्रणाम आसन
  2. हस्तउत्तानासन
  3. हस्तपाद आसन
  4. अश्व संचालन आसन
  5. पर्वत आसन
  6. अष्टांग नमस्कार
  7. भुजंग आसन
  8. पर्वत आसन
  9. अश्वसंचालन आसन
  10. हस्तपाद आसन
  11. हस्तउत्थान आसन
  12. प्रणाम आसन

QUIZ- Quiz: फिटनेस को लेकर कितना जागरूक हैं आप? खेलें फिटनेस को लेकर क्विज

7- सेनिटाइजर का सही इस्तेमाल

सेनेटाइजर इस्तेमाल की आदत आप आने वाले साल में भी अपना सकते हैं। ये कई तरह के बैक्टेरिया को मारने के लिए प्रभावकारी है। पहले लोग ऐसे सेनिटाइजर्स  का इस्तेमाल करते थें, जो कि एल्कोहॉल फ्री होते हैं। लेकिन कई अलग-अलग स्टडीज में कोरोना वायरस पर अल्कोहॉल बेस्ड सेनिटाइजर ही पूरी तरह प्रभावी साबित हुए हैं। इस कारण डॉक्टर्स भी इन सेनिटाइजर को उपयोग करने की सलाह दे रहे हैं। साथ ही सावधानी बरतने की हिदायत भी दे रहे हैं। सेनिटाइजर का इस्तेमाल करते समय इस बात का ध्यान रखें कि यह आपके कपड़ों पर न गिरे। ऐसा होने पर आप आप तुरंत कपड़े बदल लें। इसके अलावा  किचन में या  ऐसी जगह इसे न रखें, जहां इलेक्ट्रिक स्विच, गैस या ज्वलनशील पदार्थ रखें हो। सेनिटाइजर को उनकी पहुंच से दूर रखें। छोटे बच्चे इसके दुष्प्रभावों के बारे में नहीं जानते हैं। वे इसे मुंह में डाल सकते हैं या आंख में गिरा सकते हैं और खुद को हानि पहुंचा सकते हैं।

8- पानी का सही मात्रा में सेवन

शरीर से गंदगी साफ करने लिए सयम-समय पर बाॅडी डिटॉक्स बहुत जरूरी है। इसके लिए पानी का सेवन सबसे अच्छा विकल्प है। डॉक्टर भी कहते हैं कि सभी को प्रतिदिन 2 से 3 लीटर पानी का सेवन करना चाहिए। पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से यूरिन और पसीने के माध्यम से शरीर से कई प्रकार की बीमारी और इंफेक्शन बाहर निकल जाते हैं। बहुत से लोग पहले इस बात काे इतनी गंभीरता से नहीं लेते हैं। लेकिन अब लोगों के शुरू किया है, उचित मात्रा में पानी का सेवन।

9- हेल्दी स्लीपिंग हैबिट अपनाएं

हेल्दी हैबिट्स में अच्छी हेल्थ और इम्यूनिटी के लिए भरपूर नींद लेना बहुत जरूरी है। इस साल लॉकडाउन के बाद से लोगों के कई आदतों में सुधार भी आया है,जैसे कि उनकी समय पर सोने और जागने की आदत में। तो आप इसे आने वाले साल में भी आगे लेकर जाएं । अच्छी नींद लेने कई गंभीर बीमारियों का भी खतरा कम होता है।  इसके अलावा आपको तनाव और डिप्रेशन जैसी समस्या भी नहीं होती है।

10- वेट मेंटेन पर ध्यान दें

इस लॉकडाउन के दौरान लोगों ने अपने जीवनशैली में कई तरह के बदलाव भी किए हैं। उन्होंने ने अपने वेट मेंटेन पर भी ध्यान दिया है। जिसके लिए वो घर पर कई तरह के योग और एक्सरसाइज के साथ डिफरेंट तरह के हेल्दी डायट भी लोगों ने फॉलो करना शुरू किया  है। जिसे आप आगे भी फॉलो करें।

इस तरह कुछ अच्छी आदतें अपनाकर आप कोरोना काल के बाद भी खुद को हेल्दी रख सकते हैं।

powered by Typeform
 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कहीं मल्टी टास्किंग काम के साथ,आप सूपरविमेन सिंड्राेम की शिकार तो नहीं

मल्टी टास्किंग काम के साथ कहीं आप सूपरविमेन सिंड्रोम की शिकार तो नहीं, जानें इसके लक्ष्ण, कारण और बचाव के टिप्स। महिलाओं में तनाव का इलाज (superwomen syndrome)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित ari
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal

ताई ची और क्यु गोंग एक्सरसाइज अब तक नहीं की, तो अब तैयार हो जाएं

ताई ची एक्सरसाइज और क्यु गोंग एक्सरसाइज बैलेंस बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। एक्सरसाइज के दौरान सावधानी रखना बहुत जरूरी है। tai chi and qi gong

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

एक्सरसाइज के पहले क्या खाना हमारे सेहत के लिए होता है फायदेमंद, जानने के लिए पढ़ें

एक्सरसाइज के पहले क्या खाएं यह काफी जरूरी होता है, इसके लिए हमें डायट में कार्ब, प्रोटीन व फैट को शामिल करना चाहिए, अधिक जानने के लिए पढ़ें आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
आहार और पोषण, स्पेशल डायट January 19, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

हेल्थ एंड फिटनेस गाइड, जिसे फॉलो कर आप जी सकते हैं हेल्दी लाइफ

हेल्थ एंड फिटनेस : शरीर को फिट रखने के लिए एक नहीं बल्कि कई उपाय हैं। अगर आपको नहीं पता कि आखिर फिट रहने के लिए क्या करना चाहिए तो आपको ये आर्टिकल जरूर पढ़ना चाहिए। health fitness

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

Recommended for you

एग्जाम फोबिया (Exam Phobia) 

एग्जाम फोबिया से बचने के ये हैं 7 गुरुमंत्र

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 3, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
मेरिट्रीम सप्लीमेंट क्या है (Meratrim Supplement)

मेरिट्रीम सप्लीमेंट क्या है, क्या यह वजन कम करने में मददगार है?

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ February 26, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
मेनोपॉज और लिबिडो - Menopause and libido

मेनोपॉज और लिबिडो में क्या है संबंध और कैसे पाएं इस स्थिति में राहत? 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ February 26, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
एक्सरसाइज सेफ्टी टिप्स

अगर रहना चाहते हैं फिट, तो आपके काम आएंगे यह एक्सरसाइज सेफ्टी टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ February 26, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें