चीज खाते हैं तो हो जाएं सावधान, बढ़ सकता है ब्रेस्ट कैंसर का खतरा

Medically reviewed by | By

Update Date दिसम्बर 25, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

चीज़ का नाम सुनते ही हर किसी के मुंह में पानी आ जाता है। फिर बात चाहे बच्चों की करें या बड़ों की, ज्यादातर सभी लोगों को चीज़ खाना पसंद होता है। सैंडविच से लेकर पिज्जा और सैलेड में चीज़ उसके स्वाद को चार गुना बढ़ा देता है। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि चीज़ के सेवन से महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा होता है। जी हां, कई रिसर्च में ये बात सामने आई है।

ये भी पढ़ें: ब्रेस्टफीडिंग बचा सकता है आपको जानलेवा बीमारी से

चीज़ में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम मौजूद होता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, कैल्शियम युक्त चीज़ों को खाने से ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा बढ़ सकता है। इसी को लेकर नॉन प्रॉफिट फिजिशियन कमिटी फॉर रिस्पॉन्सिबल मेडिसिन के डॉक्टर्स ने यू.एस.फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन से गुहार लगाई है। इन्होंने मांग की है कि बाजार में धड़ल्ले से बिक रहे गाय के दूध से बने चीज़ के पैकेट के ऊपर वॉर्निंग लेबल लगाकर बेचा जाए। इस लेबल में उन्हें चीज़ से होने वाले नुकसानों के बारे में बताएं। उन्हें बताया जाए कि इसमें ऐसे हॉर्मोन मौजूद होते हैं, जिससे स्तन कैंसर होने का खतरा ज्यादा रहता है।

ये भी पढ़ें: 5 Steps: ब्रेस्ट कैंसर की जांच ऐसे करें

शोध में सामने आया आंकड़ा

अक्टूबर महीने को ब्रेस्ट कैंसर जागरुकता महीने के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है। चीज़ से होने वाले दुष्परिणामों को देखते हुए 3 अक्टूबर, 2019 को नॉन प्रॉफिट फिजिशियन कमिटी फॉर रिस्पॉन्सिबल मेडिसिन के डॉक्टर्स ने याचिका दायर की है। इस संस्था के 12,000 सदस्यों ने शोध का हवाला दिया है जिसमें बताया गया है कि उच्च वसा वाले चीज़ से कैंसर होने के जोखिम में 53% तक वृद्धि होती है।

ये भी पढ़ें: जानें क्या है ब्रेस्ट कैंसर, सर्जरी और टिप्स

चीज़ के सेवन से स्वास्थ्य को नुकसान होता है या नहीं, इसे लेकर कई शोध किए गए हैं, जिसमें अलग-अलग बात सामने आई है। एक तरफ कुछ शोध बताते हैं कि चीज़ का सेवन करने से कैंसर का खतरा होता है। वहीं, कुछ शोध में मालूम हुआ है कि चीज़ के सेवन से दिल संबंधित बीमारी और कैंसर का कोई लेना देना नहीं है। वहीं, कुछ न्यूट्रिशिनिस्ट भी बताते हैं कि ज्यादातर सभी लोगों के लिए चीज़ सेफ है और इसके सेवन से उन्हें कुछ फायदे भी हो सकते हैं।

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के आंकड़ों के अनुसार, दुनियाभर में ब्रेस्ट कैंसर तेजी से बढ़ रहा है। अमेरीकी महिलाओं में स्तन कैंसर मौत का दूसरा सबसे आम कारण है। हर साल 40 हजार से अधिक महिलाओं की ब्रेस्ट कैंसर के चलते मौत होती है। इसमें ब्रेस्ट कैंसर के 240, 000 से अधिक नए मामले सामने आए हैं।

ये भी पढ़ें: ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम करता है स्तनपान, जानें कैसे

चीज़ खाने से होते हैं ये भी नुकसान

चीज़ में सेचुरेटेड फैट और सोडियम की प्रचूर मात्रा पाई जाती है। जिस कारण से हाई ब्लड प्रेशर, कार्डियोवैस्कुलर डिजीज और टाइप 2 डायबिटीज आदि समस्याएं होती हैं। 

डायट्री गाइडलाइंस एडवाइसरी कमेटी 2015 की एक रिपोर्ट के मुताबिक अपनी रोजना के आहार में हमें 20 से 30 प्रतिशत ही फैट को शामिल करना चाहिए। जिसमें से सिर्फ 10 प्रतिशत मात्रा में ही सेचुरेटेड फैट लेना चाहिए। अगर कोई 1800 कैलोरी की डायट ले रहा है तो उसमें मात्र 18 ग्राम सेचुरेटेड फैट की मात्रा हर रोज लेनी चाहिए। अगर आपको चेडार चीज़ पसंद है तो उसमें छह ग्राम सेचुरेटेड फैट होता है। ज्यादा मात्रा में सेचुरेटेड फैट लेने से डायबिटीज, मोटापा और हृदय रोग होने का खतरा बढ़ सकता है। 

ये भी पढ़ें: रेड मीट बन सकता है ब्रेस्ट कैंसर का कारण, इन बातों का रखें ख्याल

कंसल्टिंग होमियोपैथ एंड क्लिनीकल न्यूट्रिशनिस्ट डॉ. श्रुति श्रीधर ने बताया कि सेचुरेटेड फैट सेहत के लिए सही नहीं होता है। उसकी एक नियमित मात्रा का सेवन ही शरीर के लिए सही है। जबकि अनसेचुरेटेड फैट को लेने से वह फैट आपके बॉडी में सेचुरेट होता है, इसलिए ये कम नुकसानदायक होता है। 

वहीं, चीज़ में फैट के साथ सोडियम भी होता है, जो चीज़ के स्वाद में इजाफा करता है। लेकिन सोडियम की ज्यादा मात्रा भी ब्लड प्रेशर, मोटापा और हृदय रोग को बढ़ाने के लिए काफी होता है। इसके अलावा चीज़ का सेवन ज्यादा करने से एंडोक्राइन सिस्टम बाधित होता है और कई तरह के कैंसर होने का रिस्क बढ़ जाता है। 

ये भी पढ़ें: ट्रिपल-नेगिटिव ब्रेस्ट कैंसर (Triple-Negative Breast Cancer) क्या है ?

चीज़ खाने के फायदे क्या हैं?

चीज़ दूध से बनता है और डेयरी प्रोडक्ट्स में कैल्शियम और न्यूट्रीशन प्रचूर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए नुकसान से ज्यादा फायदे भी हैं, लेकिन शर्त सिर्फ इतनी सी है कि चीज का सेवन नियमित मात्रा में करना है। चीज़ से निम्न फायदे होते हैं :

ये भी पढ़ें: ‘पॉ द’ऑरेंज’ (Peau D’Orange) कहीं कैंसर तो नहीं !

  • चीज में कैल्शियम की प्रचूर मात्रा पाई जाती है। जो हमारे दांत के लिए एक अच्छी भूमिका निभाती है। साथ ही डेंटल प्लाक में पीएच लेवल को बढ़ाती है, जिससे दांतों में कैविटी नहीं होती है। 
  • चीज को फर्मेंट कर के बनाया जाता है। जिससे उसमें बैक्टीरिया भी पनप जाते हैं। ये बैक्टीरिया हमारे पेट के लिए अच्छे होते हैं। ये गट माइक्रोबायोटा ब्लड कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रित करने में मददगार साबित होते हैं। 
  • कुछ प्रकार के चीज़ में ओमेगा-3 फैटी एसिड की प्रचूर मात्रा पाई जाती है। खास कर उस गाय के दूध से बने चीज़ में ओमेग-3 पाया जाता है, जो एल्पिन घास खाती है।

हैलो स्वास्थ्य आपको कोई मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

नए संशोधन की डॉ. शरयु माकणीकर द्वारा समीक्षा

और पढ़ें :

अंडरवायर ब्रा पहनने से होता है ब्रेस्ट कैंसर का खतरा ?

ब्रेस्ट कैंसर से डरें नहीं, खुद को ऐसे मेंटली और इमोशनली संभाले

त्वचा को चमकाने के लिए अब महंगे फेसपैक की जरूरत नहीं, अपनाएं ये नुस्खे

सुंदर त्वचा और गोरेपन के लिए अपना सकते हैं ये स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट्स

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Fibrocystic Breast: फाइब्रोसिस्टिक ब्रेस्ट क्या है?

    जानिए फाइब्रोसिस्टिक ब्रेस्ट क्या है in hindi, फाइब्रोसिस्टिक ब्रेस्ट के कारण और लक्षण क्या है, fibrocystic breast को ठीक करने के लिए क्या उपचार है।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Kanchan Singh
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 16, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Impingement syndrome: इम्पिन्गेमेंट सिंड्रोम क्या है?

    इम्पिन्गेमेंट सिंड्रोम या तैराकी कंधे के नाम से भी भी जाना जाता है, क्योंकि यह आमतौर पर अधिक्तर तैराकों को ही होता है लेकिन अब यह अन्य एथलीटों में भी आम हो

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Siddharth Srivastav
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 14, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    आखिर क्यों होता है स्तन के नसों में बदलाव?

    जानिए क्यों होता है स्तन के नसों में बदलाव में बदलाव? ब्रेस्ट के नसों में बदलाव आना ये इनका दिखना किसी बीमारी का संकेत तो नहीं?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 9, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    ब्रेस्ट मिल्क बाथ से शिशु को बचा सकते हैं एक्जिमा, सोरायसिस जैसी बीमारियों से, दूसरे भी हैं फायदे

    ब्रेस्टफीडिंग शिशु के लिए फायदेमंद तो है ही वहीं ब्रेस्ट मिल्क बाथ से शिशु को कई प्रकार की बीमारी से बचा सकते हैं। ब्रेस्ट मिल्क बाथ के फायदे जानेंगे इस आर्टिकल में। Breast milk bath क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अप्रैल 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    Vertigo : वर्टिगो क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    Vertigo : वर्टिगो क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    Published on जून 10, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    ओवेरियन कैंसर और ब्रेस्टफीडिंग

    स्तनपान करवाने से महिलाओं में घट जाता है ओवेरियन कैंसर का खतरा

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shivam Rohatgi
    Published on मई 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    जीन टेस्ट-gene test

    जीन टेस्ट क्या है और इस टेस्ट को क्यों करवाना चाहिए?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Nidhi Sinha
    Published on अप्रैल 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    ब्रेस्ट रिकंस्ट्रक्शन

    Breast reconstruction:  ब्रेस्ट रिकंस्ट्रक्शन क्या है?

    Written by shalu
    Published on अप्रैल 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें