बच्चों के लिए पिलाटे एक्सरसाइज हो सकती है फायदेमंद, बढ़ाती है एकाग्रता

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

आज के दौर में तेज लाइफस्टाइल और खराब डायट हम सभी के स्वास्थ्य पर हावी हैं और बच्चे भी इन चीजों अछूते नहीं है। बच्चों के लिए पिलाटेस एक बॉडी कंडीशनिंग रुटीन है, जो उनकी मांसपेशियों में स्ट्रेंथ, एंड्योरेंस, फ्लेक्सिबिलिटी और को-ऑर्डिनेशन बनाने में मदद करता है। पिलाटे के पीछे एक जर्मन डॉक्टर जोसेफ एच. पिलाटे का दिमाग है, जिसको आज बॉलीवुड से लेकर आम इंसान भी फॉलो कर रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः बच्चों को व्यस्त रखना है, तो आज ही लाएं कलरिंग बुक

बच्चों के लिए पिलाटे के फायदों के बारे में बहुत से स्वास्थ्य और फिटनेस विशेषज्ञों ने बताया है। बच्चों के लिए पिलाटे एक्ससरसाइज करने के अनगिनत फायदे हैं, जो उनके शरीर को फिट रखता है। इस एक्ससरसाइज को करने से न केवल वह फिट रहते हैं। इसके कई फायदे हैं, जो उनके पूरे शरीर के लिए अच्छा है। पिलाटे एक ट्रेनिंग डिसीप्लीन के रूप में बच्चों और अडल्ट के लिए करने की सलाह दी जाती है। बच्चों के लिए पिलाटे उनकी मांसपेशियों की मजबूती, शरीर में इलास्टिसिटी और मसल रिलेक्सेशन के काम आता है।

बच्चों के लिए पिलाटे के अनगिनत फायदें हैं। लेकिन, हम आपको यहां कुछ ऐसे फायदों के बारे में बताएंगे जिनको जानकर आप हैरान हो जाएंगे।

पिलाटे से बच्चे होते हैं फ्लेक्सिबल

बच्चों को अलग-अलग शारीरिक गतिविधियों जैसे बैले, जिमनास्टिक आदि करने के लिए लचीला होने की जरूरत होते हैं। पिलाटे में इस्तेमाल होने वाले पोज बच्चे की मांसपेशियों को लचीला बनाते हैं। बच्चों के लिए पिलाटे इसलिए भी जरूरी है कि उनकी फ्लेक्सिबिलिटी बनी रहे और पिलाटे करने वाले बच्चे उन बच्चों से अधिक स्वस्थ रहते हैं, जो एक्सरसाइज नहीं करते।

यह भी पढ़ेंः बच्चों में ‘मिसोफोनिया’ का लक्षण है किसी विशेष आवाज से गुस्सा आना

पिलाटे बढ़ाता है बच्चों की एकाग्रता

जब बच्चा पिलाटेस आसन करता है, तो उस समय आपके बच्चे को अपने शरीर के एक हिस्से पर ध्यान फोकस करने की जरूरत होती है। बच्चों के लिए पिलाटे उनकी एकाग्रता में सुधार करने में मदद कर सकता है, जिसका असर सीधे उनके रोजमर्रा की जिंदगी पर पड़ता है।  सभी माता-पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा पढ़ाई से लेकर हर क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन करे और बच्चों के लिए पिलाटे उनकी एकाग्रता से जुड़ा है। जो बच्चे पिलाटे एक्सरसाइज करते हैं वह शिक्षा और खेल दोनों में अच्छा प्रदर्शन करते हैं।

पिलाटे बच्चों की मांसपेशियां को बनाता है मजबूत

बच्चों के लिए पिलाटे इसलिए भी जरूरी है क्योंकि वह बच्चों के ब्लड सर्कुलेशन मूवमेंट में सुधार करता है और इससे शरीर के सारी मसल्स मजबूत होती हैं। मजबूत मांसपेशियों के साथ बच्चा अपनी एनर्जी को बचाता है और अपने स्कूल के काम के लिए ज्यादा एक्टिव रहता है। पिलाटे बच्चे के शरीर को टोन करने और एथलेटिक प्रदर्शन में सुधार करने में भी मदद करता है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों में चिकनपॉक्स के दौरान दें उन्हें लॉलीपॉप, मेंटेन रहेगा शुगर लेवल

पिलाटे से ठीक होता है बच्चों का पॉश्चर

आजकल के डिजिटल दौर में बच्चे लंबे समय तक टिवी या कंप्यूटर स्क्रीन से चिपके रहते हैं, जो उनके पॉश्चर पर निगेटिव असर डालता हैं। बचपन में बच्चों के पॉश्चर पर ध्यान न देने की वजह से उन्हें बड़े होकर पीठ में दर्द की समस्या हो सकती है। जो बच्चे नियमित रूप से पिलाटेस करते हैं उनका पॉश्चर ठीक होता है और आगे चलकर उन्हें पीठ से संबंधित समस्याएं कम होती है। इसके अलावा पिलाटेस करने वाले बच्चों का स्पाइनल एलाइमेंट भी बेहतर होता है।

बच्चों के लिए पिलाटे को बनाएं फन एक्सरसाइज

पिलाटे बच्चों के लिए एक्सरसाइज का एक शानदार तरीका है। यह उन्हें स्वस्थ बनाने में मदद करता है। बच्चों के लिए पिलेट्स को मजेदार बनाने के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं।

बच्चों के लिए पिलाटे को बनाएं मजेदार

बच्चों को किसी भी तरह की एक्सरसाइज सीखाना एडल्ट को एक्सरसाइज सिखाने से काफी अलग है। बच्चों को मस्ती करना बहुत पसंद होता है। आपको ऐसे शब्दों और वाक्यों का इस्तेमाल करना चाहिए, जो बच्चों को समझ आएं। आसान भाषा का उपयोग बच्चों को एक्सरसाइज करने में मदद कर सकता है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों में ‘मोलोस्कम कन्टेजियोसम’ बन सकता है खुजली वाले दानों की वजह

बच्चों के लिए पिलाटे के दौरान भावनात्मक सर्पोट

बहुत से बच्चे जब पिलाटे करना शुरू करते हैं, तो उन्हें दर्द का सामना करना पड़ता है। जैसे कुछ अडल्ट भी एक्सरसाइज करते समय गुस्से या दर्द से गुजरते हैं, बच्चे भी इस दौरान इन्हें महसूस सकते हैं। एक्सरसाइज के दौरान अगर बच्चे परेशान होते हैं, तो उनकी सेंसिटिविटी को धैर्यता से हैंडल करें।

पिलाटे के दौरान बच्चों को दे कंफर्ट

आपको अपने बच्चे को शॉर्ट्स, टैंक टॉप या टीशर्ट जैसे आरामदायक कपड़े पहनाने चाहिए। पिलाटे के दौरान अगर आपका बच्चा किसी दर्द या तकलीफ की शिकायत करता है, तो आपको उसी वक्त एक्सरसाइज को रोक देना चाहिए।

बच्चों को पिलाटे के फायदों के बारे में बताएं

बच्चों को पिलाटे सिखाने के साथ ही उनके साथ इसके फायदों पर बात करें, जो उन्हें इससे मिलते हैं। उन्हें बताएं कि वे कैसे मजबूत और लचीले बन सकते हैं। साथ ही उनको बताएं कि पिलाटे उनकी एकाग्रता के लिए अच्छा है। आप इस बारे में भी बात कर सकते हैं कि बच्चों के लिए पिलाटे कैसे शरीर को आराम देता है और तनाव को कम करने में मदद करता है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों का झूठ बोलना बन जाता है पेरेंट्स का सिरदर्द, डांटें नहीं समझाएं

बच्चों के लिए पिलाटे के दौरान याद रखने वाली बातेंः

  • हर एक एक्सरसाइज की तरह पिलाटे एक्सरसाइज करने से भी चोट लगने का खतरा रहता है। खासकर अगर बच्चों के मूवमेंट गलत हैं या वे किसी दूसरी स्वास्थ्य स्थिति से पीड़ित हैं। ध्यान दें कि जब आपका बच्चा पिलाटेस करता है, तो एक प्रोफेशनल ट्रेनर की देख रेख में ही करे।
  • शुरुआत में बेसिक पिलाटेस एक्सरसाइज करें और धीरे-धीरे अपनी एक्सरसाइज बढ़ाएं
  • वर्कआउट को और मजेदार बनाने के लिए आप बच्चे की पसंदीदा चीजो के नाम से एक्सरसाइज का नाम रखें।

बच्चों के लिए पिलाटे कैसे करता है काम

20 वीं शताब्दी की शुरुआत में बनाई गई पिलाटे एक फिजिकल थेरेपी और प्रशिक्षण तकनीक है, जिसका काम शरीर के अंदर मांसपेशियों और बैलेंस के विकास को मजबूत करना है। इस तरह यह शरीर के हर एक अंग के लिए काम करता है। इस एक्सरसाइज का उपयोग करने के अलग-अलग तरीके हैं। आजकल कई लोग इसे योगा, जिम उपकरण और बैंलेस अभ्यास के साथ करते हैं।

यह भी पढ़ेंः बच्चों में फोबिया के क्या हो सकते हैं कारण, डरने लगते हैं पेरेंट्स से भी!

बच्चों के लिए पिलाटे के आसन

बच्चे की उम्र को ध्यान में रखते हुए बच्चों को हफ्ते में कम से कम दो बार 30 से 45 मिनट के सत्र में पिलाटेस करना चाहिए। आपको पहले आसान अभ्यासों से शुरू करना चाहिए, जो योग रिलेक्सेशन पॉश्चर की तरह काम करता है।

बच्चों की एक्सरसाइज समय के साथ और मुश्किल हो जाएगी क्योंकि समय के साथ बच्चे को उसकी आदत हो जाती है। बच्चे को यह पता होना चाहिए कि पिलाटे करने से एकाग्रता, सांस और संतुलन के लिए बहुत फायदेमंद है।

और पढ़ेंः

बच्चों की ओरल हाइजीन को ‘हाय’ कहने के लिए शुगर को कहें ‘बाय’

स्लीप हाइजीन को भी समझें, हाइपर एक्टिव बच्चों के लिए है जरूरी

पेरेंट्स का बच्चों के साथ सोना बढाता है उनकी इम्यूनिटी

बच्चों के लिए सेंसरी एक्टिविटीज हैं जरूरी, सीखते हैं प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल

Share now :

रिव्यू की तारीख दिसम्बर 6, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया दिसम्बर 16, 2019

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे