home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Glycomacropeptide: ग्लाइकोमाक्रोपाइड क्या है?

परिचय |सावधानी और चेतावनी |साइड इफेक्ट्स|प्रभाव|डोसेज
Glycomacropeptide: ग्लाइकोमाक्रोपाइड क्या है?

परिचय

क्या है ग्लाइकोमाक्रोपाइड (Glycomacropeptide)?

ग्लाइकोमाक्रोपाइड एक तरह की शॉर्ट प्रोटीन है। यह पनीर बनाने की प्रक्रिया के दौरान एक मिल्क प्रोटीन से बनता है। अन्य प्रोटीनों से विपरीत, ग्लाइकोमाक्रोपाइड में अमीनो एसिड फेनिलएलनिन बहुत कम होता है।

ग्लाइकोमाक्रोपाइड का उपयोग किस लिए किया जाता है?

ग्लाइकोमाक्रोपाइड हर्ब का प्रयोग दिल की बीमारियों, दांतों में कीड़ा लगना, गठिया की समस्या, शिशुओं के विकास, लिवर संबंधी रोग, फेनिलकीटोन्यूरिया, मानसिक स्थिति और वजन घटाने जैसी अन्य परेशानियों को दूर करने के लिए करते हैं।

ग्लाइकोमाक्रोपाइड में फेनिलएलनिन की मात्रा काफी कम होती है। इसलिए यह फेनिलकेटोनुरिया (क्रोमोसोम से संबंधित परेशानी) से पीड़ित व्यक्तियों के लिए लाभकारी होती है। इसके सेवन से वजन को भी संतुलित रखा जा सकता है।

और पढ़ें – कंटोला (कर्कोटकी) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Kantola (Karkotaki)

यह कैसे काम करता है?

ग्लाइकोमाक्रोपाइड कैसे काम करता है, इसको लेकर पर्याप्त अध्ययन नहीं किया गया है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से बात करें। हालांकि, ग्लाइकोमाक्रोपाइड वजन कम करने में मददगार है। हालांकि, ग्लाइकोक्रोपेप्टाइड ऐसे कमिकल को निकालने में सहायक है, जिससे भूख कम लगती है। इससे वजन कम होने में मदद मिलती है। ग्लाइकोक्रोपेप्टाइड भी कुछ बैक्टीरिया, वायरस और विषाक्त पदार्थों से जुड़ कर लोगों को संक्रमित होने से रोक सकता है।

और पढ़ें – दूर्वा (दूब) घास के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Durva Grass (Bermuda grass)

सावधानी और चेतावनी

ग्लाइकोमाक्रोपाइड के प्रयोग से पहले मुझे क्या जानकारी होनी चाहिए?

अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट या औषधि विशेषज्ञ से संपर्क करें, अगर:

  • आप प्रेग्नेंट हैं या स्तनपान करा रही हैं, क्योंकि जब आप गर्भवती होती हैं या शिशु को दूध पिलाती हैं, तो इस दौरान केवल उन्हीं दवाइयों का सेवन करना चाहिए, जिसकी सलाह आपको डॉक्टर ने दी हों।
  • अगर आप बेबी प्लानिंग करने की सोच रहें तो इसक आसवन न करें या अपने स्वास्थ्य विषेशज्ञों से राय लें।
  • आप किन्हीं और दवाइयों का सेवन कर रहे हों। इसमें वो दवाइयां भी शामिल हैं, जिनका प्रयोग आप कर रहे हैं और जिन्हें बिना डॉक्टर की सलाह के आप खरीद सकते हैं।
  • आपको इस हर्ब में मौजूद पदार्थ या किसी अन्य दवाई या हर्ब्स से एलर्जी है।
  • आपको कोई अन्य बीमारी या विकार है या मेडिकल स्थिति में।
  • आपको किसी अन्य चीज से एलर्जी हो जैसे भोजन, डाई, प्रीजर्वेटिव या जानवरों से।

हर्बल सप्लिमेंट के नियम दवाइयों की तुलना में अधिक सख्त होते हैं। इसकी सुरक्षा को लेकर अधिक अध्ययन किए जाने की आवश्यकता है। इस हर्बल सप्लिमेंट को लेने के फायदे इससे होने वाले जोखिमों से अधिक होने चाहिए। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या औषधि विशेषज्ञ से बात करें।

और पढ़ें: Japanese Persimmon: जापानी परसीमन क्या है?

ग्लाइकोमाक्रोपाइड का उपयोग करना कितना सुरक्षित है?

ग्लाइकोमाक्रोपाइड को अगर एक साल तक फूड सप्लीमेंट की तरह मुंह के माध्यम से लिया जाए तो यह आपके लिए सुरक्षित हो सकता है। लेकिन, इससे ज्यादा वक्त तक सेवन शारीरिक नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए बेहतर होगा इसके सेवन से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

वैसे इसका उपयोग निम्नलिखित शारीरिक परेशानी को दूर करने के लिए किया जाता है। जैसे-

  • दिल से संबंधित परेशानी
  • जोड़ों की परेशानी या जोड़ों में दर्द होना
  • नवजात शिशु के विकास के लिए दिया जा सकता है
  • लिवर से जुड़ी बीमारियों को दूर करने के लिए इसका सेवन किया जा सकता है
  • बढ़ते वजन को कम करने के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है

और पढ़ें: False Unicorn Root : फाल्स यूनिकॉर्न रुट क्या है?

खास सावधानियां और चेतावनियां क्या है अगर आप इसका सेवन कर रहें है तो?

प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग: प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग के दौरान सुरक्षित रहने के लिए इस दौरान इस हर्ब का सेवन करने से बचें। वैसे अगर आप इसका सेवन करना चाहती हैं, तो अपनी मर्जी से इसका सेवन न कर बल्कि हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह लेने के बाद ही करें। अगर डॉक्टर आपको इसके सेवन नहीं करने की सलाह देते हैं, तो इसका सेवन न करें।

बच्चे: ग्लाइकोमाक्रोपाइड को अगर फॉर्मूला में डाल कर नवजात बच्चों को दिया जाए, तो यह पूरी तरह से सुरक्षित है। हालांकि, एक चिंता का विषय यह है कि इस हर्ब युक्त फॉर्मूला से ब्लड क्लॉट (खून का थक्के बनना) के स्तर के ज्यादा होने की संभावना बढ़ जाती है।

और पढ़ें – अस्थिसंहार के फायदे एवं नुकसान: Health Benefits of Hadjod (Cissus Quadrangularis)

साइड इफेक्ट्स

ग्लाइकोमाक्रोपाइड से मुझे क्या साइड-इफेक्ट्स हो सकते हैं?

ग्लाइकोमाक्रोपाइड का सेवन अगर आहार की तरह कर रहें हैं, तो इसका सेवन एक साल तक किया जा सकता है।

बच्चों को इसके सेवन से पहले हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह लेनी चाहिए। पेरेंट्स इसकी जानकारी डॉक्टर से लें।

गर्भवती महिला और स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को इसके सेवन से पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।

वैसे एक वर्ष तक आहार के रूप में मुंह से लिया जा सकता है। इसका उपयोग सप्लीमेंट के तौर पर किया जा सकता है। ग्लाइकोक्रोप्पाइड सुरक्षित माना जाता है।

अगर आप इस हर्ब के साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं तो, इसके सेवन से पहले कृपया अपने डॉक्टर से सलाह लें।

और पढ़ें – बच्चों के डिसऑर्डर पेरेंट्स को भी करते हैं परेशान, जानें इनके लक्षण

प्रभाव

ग्लाइकोमाक्रोपाइड के प्रयोग से क्या प्रभाव पड़ सकता है?

ग्लाइकोमाक्रोपाइड आपकी मौजूदा दवाई या मेडिकल स्थितियों पर प्रभाव डाल सकता है। इसलिए, इसके प्रयोग से पहले अपने डॉक्टर से अवश्य पूछे।

रिसर्च के अनुसार महिलाओं के लिए ग्लाइकोमाक्रोपाइड का सेवन उनके हेल्थ के लिए लाभकारी हो सकता है। दरअसल इसके सेवन से मेटाबोलिज्म रेट या फैट ऑक्सिडेशन की दर बढ़ जाती है। इसका सेवन संतुलित और सही तरह से करने पर हड्डियां भी मजबूत हो सकती हैं वहीं शरीर के फैट को कम करने भी सहायक होता है।

हालांकि यह महिलाओं के लिए लाभकारी है लेकिन, इसके सेवन से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

और पढ़ें – पारिजात (हरसिंगार) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Night Jasmine (Harsingar)

डोसेज

दी गई जानकारी मेडिकल सलाह का विकल्प नहीं है। हमेशा, इस दवा का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें।

ग्लाइकोमाक्रोपाइड लेने की सही खुराक क्या है?

ग्लाइकोमाक्रोपाइड लेने की डोज हर रोगी के लिए अलग हो सकती है। यह डोज आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य शारीरिक स्थितयों पर भी निर्भर करती है। हर्बल सप्लिमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते। इसलिए अपनी मर्जी से इसका सेवन न करें। इसकी सही खुराक के बारे में जानने के लिए कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

और पढ़ें – करौंदा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Karonda (Carissa carandas)

ग्लाइकोमाक्रोपाइड किस रूप में उपलब्ध है?

ग्लाइकोमाक्रोपाइड इन रूपों में उपलब्ध हो सकता है:

  • पाउडर
  • कैप्सूल्स

अगर आप ग्लाइकोमाक्रोपाइड हर्ब या किसी भी अन्य हर्ब से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Glycomacropeptide https://www.webmd.com/vitamins-supplements/ingredientmono-1493-glycomacropeptide.aspx?activeingredientid=1493&activeingredientname=glycomacropeptide Accessed January 08, 2018

Chemical and functional properties of glycomacropeptide (GMP). https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3567326/ Accessed January 08, 2018

WHAT OTHER NAMES IS GLYCOMACROPEPTIDE KNOWN BY? https://www.rxlist.com/glycomacropeptide/supplements.htm Accessed January 08, 2018

Glycomacropeptide is a prebiotic. https://www.physiology.org/doi/pdf/10.1152/ajpgi.00211.2015 Accessed January 08, 2018

Phase 2 Study of Glycomacropeptide Versus Amino Acid Diet for Management of Phenylketonuria (PKU)/https://clinicaltrials.gov/ct2/show/NCT01428258/Accessed on 07/02/2020

लेखक की तस्वीर
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 01/09/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x