home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Greater celandine: ग्रेटर सैलंडीन क्या है?

परिचय|सावधानियां और चेतावनी|साइड इफेक्ट्स|डोसेज|उपलब्ध
Greater celandine: ग्रेटर सैलंडीन क्या है?

परिचय

ग्रेटर सैलंडीन (Greater celandine) क्या है?

ग्रेटर सैलंडीन एक पौधा है। इसके जमीन से ऊपर के हिस्से को सुखाकर और इसकी जड़ का प्रयोग दवाओं में किया जाता है। इसका वानस्पातिक नाम Chelidonium majus है। ये Papaveraceae परिवार से ताल्लुख रखता है। चीन में इसका इस्तेमाल सालों से कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जा रहा है। ये अस्थमा से लेकर एथिरोक्लोरोसिस के इलाज के लिए उपयोगी माना जाता है। हालांकि, कुछ शोध बताते हैं कि ये लिवर पर बुरा असर डाल सकता है।

ग्रेटर सैलंडीन (Greater celandine) का उपयोग किसलिए किया जाता है?

ग्रेटर सैलंडीन का इस्तेमाल निम्नलिखित परेशानियों के लिए किया जाता है:

कैंसर (Cancer):

ह्यूमन कैंसर सेल्स पर किए गए एक शोध के अनुसार, वैज्ञानिकों ने पाया कि ग्रेटर सैलंडीन कैंसर से लड़ने में कारगर है। ये कैंसर सेल्स की ग्रोथ को रोकता है। 2006 में बीएमसी कैंसर में छपे एक शोध के अनुसार, इसमें एंटी-कैंसर गुण पाए जाते हैं।

एक्जिमा (Eczema):

प्रारंभित शोध के अनुसार, ग्रेटर सैलंडीन एटोपिक डर्मेटाइटिस से निजात दिलाता है। जर्नल ऑफ एथनोफार्माकोलॉजी में छपी एक स्टडी के अनुसार, शोधकर्ताओं ने एटोपिक डर्मेटाइटिस से ग्रसित चूहों पर ग्रेटर सैलंडीन के प्रभावों का परीक्षण किया। इसमें उन्होंने पाया कि इन चूहों में एक्जिमा के लक्षण जैसे खुजली और सूजन काफी हद तक कम हो गए हैं।

डायजेस्टिव ट्रैक्ट संबंधित परेशानियां (Digestive Tract Related Problems):

ग्रेटर सैलंडीन डायजेस्टिव ट्रैक्ट संबंधित परेशानियां जैसे पेट खराब, इरिटेबल बाउल सिंड्रोम, कब्ज, भूख न लगना, पेट में कैंसर, लिवर और गॉलब्लेडर डिसऑर्डर के इलाज के लिए फायदेमंद माना जाता है। इसके अलावा ये डिटॉक्सिफाई, पीरियड्स में होने वाले दर्द, कफ, छाती में दर्द, धमनियों का अकड़ना, हाई ब्लड प्रेशर, अस्थमा और ओस्टियोअर्थराइटिस के इलाज में भी उपयोगी है।

इन परेशानियों में भी मददगार:

  • ग्रेटर सैलंडीन को मस्सा, जननांग में मस्सा, चकत्ते और स्केबीज के लिए सीधे स्किन पर लगाना फायदेमंद होता है।
  • इसके साथ ही इसे दांत दर्द से राहत और दांत निकालने में आसानी होती है। दांत दर्द के लिए इसे कच्चा चबाने की सलाह दी जाती है।

कैसे काम करता है ग्रेटर सैलंडीन (Greater celandine)?

इस बारे में कोई वैज्ञानिक जानकारी नहीं है कि ग्रेटर सैलंडीन कैसे काम करता है। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से कंसल्ट करें। हालांकि कुछ शोध बताते हैं कि इसमें कुछ ऐसे केमिकल्स होते हैं जो कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकते हैं, लेकिन इसके साथ ही ये नॉर्मल सेल्स पर भी बुरा असर कर सकते हैं। प्रारंभिक शोध से पता चलता है कि ग्रेटर सैलंडीन पित्त के प्रवाह को बढ़ा सकता है। इसके अलावा इसमें कुछ दर्द निवारक गुण भी होते हैं।

और पढ़ें: Moringa: सहजन क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

ग्रेटर सैलंडीन (Greater celandine) के उपयोग से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

निम्नलिखित परिस्थितियों में इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें:

  • यदि आप प्रेग्नेंट या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं। दोनों ही स्थितियों में सिर्फ डॉक्टर की सलाह पर ही दवा खानी चाहिए।
  • यदि आप अन्य दवाइयां ले रही हैं। इसमें डॉक्टर की लिखी हुई और गैर लिखी हुई दवाइयां शामिल हैं, जो मार्केट में बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के खरीद के लिए उपलब्ध हैं।
  • यदि आपको ग्रेटर सैलंडीन के किसी पदार्थ या अन्य दवा या औषधि से एलर्जी है।
  • यदि आपको कोई बीमारी, डिसऑर्डर या कोई अन्य मेडिकल कंडिशन है। दिल संबंधित परेशानियों से ग्रसित लोगों को इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • यदि आपको फूड, डाई, प्रिजर्वेटिव्स या जानवरों से अन्य प्रकार की एलर्जी है।

अन्य दवाइयों के मुकाबले औषधियों के संबंध में रेग्युलेटरी नियम अधिक सख्त नही हैं। इनकी सुरक्षा का आंकलन करने के लिए अतिरिक्त अध्ययनों की आवश्यकता है। ग्रेटर सैलंडीन का इस्तेमाल करने से पहले इसके खतरों की तुलना इसके फायदों से जरूर की जानी चाहिए। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लें।

कितना सुरक्षित है ग्रेटर सैलंडीन (Greater celandine) का उपयोग?

ग्रेटर सैलंडीन को डॉक्टर की सलाह के बिना न लें। ये आपके लिए खतरनाक भी साबित हो सकता है।

ये लोग बरतें खास सावधानी:

ऑटो इम्यून संबंधित परेशानियां जैसे मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस), लूपस, रयूमेटायड अर्थराइटिस: ग्रेटर सैलंडीन इम्यून सिस्टम को अत्यधिक एक्टिव बना सकता है। ये ऑटो इम्यून संबंधित परेशानियों के लक्षण को पहले से अधिक कर सकता है। अगर आपको इनमें से कोई भी परेशानी है तो इसका प्रयोग करने से बचें।

पित्त नली में रुकावट: ग्रेटर सैलंडीन एक्सट्रेक्ट पित्त नली में रुकावट को पहले से अधिक कर सकता है।

लिवर संबंधित परेशानियां: अगर आपको लिवर संबंधित परेशानियां है तो इसका उपयोग भूलकर भी न करें।

और पढ़ें: Jambolan: जामुन क्या है?

साइड इफेक्ट्स

ग्रेटर सैलंडीन (Greater celandine) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

ग्रेटर सैलंडीन से लिवर संबंधित सीरियस परेशानी भी हो सकती है। स्किन पर इसे अधिक मात्रा में लगाने से स्किन रैशेज और एलर्जी हो सकती है। यह चक्कर आना, थकान और बुखार को भी ट्रिगर कर सकता है। इसका प्रयोग दिल पर गहरा प्रभाव डाल सकता है। इसके उपयोग से वेंट्रीकुलर एरदिमियास भी हो सकता है। यह लिवर की हेल्थ को भी प्रभावित कर सकती है। इसिलए इसका उपयोग संभलकर करें।

हालांकि, हर किसी को ये साइड इफेक्ट हो ऐसा जरूरी नहीं है। कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें: Mace: जावित्री क्या है?

डोसेज

ग्रेटर सैलंडीन (Greater celandine) को लेने की सही खुराक क्या है?

पेट खराब होने पर: ग्रेटर सैलंडीन को पुदीने का पत्ता, जर्मन कैमोमाइल (German chamomile ), कैरावे (caraway), लीकोराइस (licorice ), क्लाउन मस्टर्ड प्लांट (clown’s mustard plant), लेमन बाम (lemon balm), एंजलिका(angelica), और मिल्क थिस्ल (milk thistle) को मिलाकर चार हफ्तों तक एक मिली लीटर लें।

यहां दी हुई जानकारियों का इस्तेमाल डॉक्टरी सलाह के विकल्प के रूप में ना करें। इसकी खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

और पढ़ें: Java Tea: जावा टी क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है ग्रेटर सैलंडीन (Greater celandine)?

ग्रेटर सैलंडीन निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

  • रॉ ग्रेटर सैलंडीन (Raw Greater celandine)
  • ग्रेटर सैलंडीन लिक्विड एक्सट्रेक्ट (Greater celandine liquid extract)
  • ग्रेटर सैलंडीन टिंचर (Greater celandine tincture)

हमें उम्मीद है कि ग्रेटर सैलंडीन हर्ब पर आधारित यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। अगर इस बारे में किसी भी प्रकार की अन्य जानकारी चाहते हैं तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। इस हर्ब का उपयोग बिना किसी डॉक्टर की सलाह के न करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

CONTENT OF ALKALOIDS AND FLAVONOIDS IN CELANDINE/https://www.researchgate.net/publication/307607560_CONTENT_OF_ALKALOIDS_AND_FLAVONOIDS_IN_CELANDINE_Chelidonium_majus_L_HERB_AT_THE_SELECTED_DEVELOPMENTAL_PHASES

Accessed on March 19, 2020

Greater Celandine’s Ups and Downs−21 Centuries of Medicinal Uses of Chelidonium majus From the Viewpoint of Today’s Pharmacology/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5912214/

Accessed on March 19, 2020

[Effect of Alkaloids From Celandine on Calcium Accumulation and Oxidative Phosphorylation in Mitochondria Depending on Their DNA Intercalating Properties]/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/17100287/accessed on 10/07/2020

Pharmacological Activities of Chelidonium Majus L. (Papaveraceae)/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/8870028/accessed on 10/07/2020

लेखक की तस्वीर badge
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/07/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x