Phleum Pratense: फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट May 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) क्या है?

फ्लेम प्रैटेंस लंबी, बारहमासी घास होती है जिसे टिमोथी घास भी कहा जाता है। टिमोथी घास एक गुच्छेदार घास होती है। इसमें छोटे फूल भी होते हैं। ये घास दो से तीन फीट लंबी होती है और थोड़ी-थोड़ी दूर पर इनके झुंड जैसे गुच्छे उग आते हैं। ये घास ज्यादातर जंगलों या खेतों में पाई जाती हैं। अधिकतर स्थानों में यह टिमोथी घास अपने आप ही उग जाती है। यह घास यूरोप, एशिया और नॉर्थ अफ्रीका में सबसे अधिक पाई जाती है। ये घास ज्यादातर सर्दियों के मौसम में उगती है। इस टिमोथी घास का इस्तेमाल विभिन्न तरह की दवाओं को बनाने में किया जा सकता है, लेकिन इसे सूखा नहीं खा सकते हैं। इस घास की पत्तियां चपटी होती हैं। आमतौर पर इस घास का प्रयोग बुखार और एलर्जी की दवाइयां बनाने के लिए किया जाता है।

यह भी पढ़ेंः Oswego Tea: ओसवेगो चाय क्या है?

फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) का उपयोग किसलिए किया जाता है?

टिमोथी घास या फ्लेम प्रैटेंस का इस्तेमाल निम्न स्थितियों में किया जा सकता है, जिसमें शामिल हो सकते हैंः

बुखार का उपचार

फ्लेम प्रैटेंस बुखार ठीक करने में अधिक कारगर माना जाता है। इसलिए बुखार की दवाई बनाने में इसका उपयोग किया जाता है।

मौसमी एलर्जी

इसके अलावा ये घास सीजन में होने वाली विभिन्न तरह की एलर्जी को भी ठीक करने में काफी लाभकारी होती है। उपचार के लिए इसका इस्तेमाल करने के लिए इंजेक्शन की मदद से इसे शरीर में डाला जाता है।

अस्थमा के उपचार में

यह घास अस्थमा जैसी बीमारी को ठीक करने में भी कारगर पाई गई है। अगर शुरुआत में ही अस्थमा के लक्षण दिखाई देते हैं, तो आप उसका उपचार करने के लिए टिमोथी घास का इस्तेमाल कर सकते हैं। शुरूआती अस्थमा के उपचार के दौरान इसके इस्तेमाल से अस्थमा की समस्या को बढ़ने से रोका जा सकता है। हालांकि, अस्थमा की गंभीर स्थिति होने पर यह कितना कारगर हो सकता है, इसके बारे में उचित जानकारी नहीं है।

फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) कैसे काम करती है?

अगर आपको किसी भी तरह की कोई मौसमी एलर्जी होती है, तो इस घास के इस्तेमाल से एलर्जी का असर कम हो सकता है। हालांकि, इसकी बहुत कम मात्रा भी काफी असरदार हो सकती है। इसके साथ ही 3 से 16 साल तक के बच्चों के लिए यह सुरक्षित मानी जाती है।

यह भी पढ़ें: Buchu: बुचु क्या है?

उपयोग

फ्लेम प्रैटेंस का इस्तेमाल करना कितना सुरक्षित हो सकता है?

  • फ्लेम प्रैटेंस एक सुरक्षित दवा है। इसका इस्तेमाल करना पूरी तरह से सुरक्षित माना जाता है। हालांकि, इस घास के ओवरडोज की मात्रा के सेवन से बचना चाहिए।
  • फ्लेम प्रैटेंस का इस्तेमाल कई तरह की दवाओं में किया जाता है। अगर आप ऐसी किसी भी दवा या हर्बल प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हैं, जिसमें इसकी मात्रा हो सकती है, तो उसका सेवन करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर की परामर्श जरूर लें।
  • आमतौर पर इससे बनी दवाई को इंजेक्शन की मदद से शरीर में डाला जाता है। हालांकि, कभी-कभी इसे परेशानी हो सकती है और इंजेक्शन लगाई जाने वाली त्वचा में सूजन की समस्या हो सकती है।

साइड इफेक्ट्स

फ्लेम प्रैटेंस के इस्तेमाल से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) से बनी दवा का इस्तेमाल अगर इंजेक्शन की जगह सीधा मुंह से या ओरल दवा के तौर पर किया जाए, तो इससे मुंह में जलन की समस्या हो सकती है। इसलिए, सामान्य तौर पर डॉक्टर इसके दवा की खुराक व्यक्ति को इंजेक्शन के जरिए ही देते हैं।

इसके सीधे इस्तेमाल से मुंह और नाक की त्वचा में छाले निकलने की समस्या हो सकती है।

इसके सीधे इस्तेमाल से त्वचा और मुंह में खुजली और जलन की भी समस्या हो सकती है।

कुछ स्थितियों में इसके इस्तेमाल के कारण जुकाम की समस्या हो सकती है। ऐसी स्थिति होने पर व्यक्ति की नाक से लगातार पानी बहता रहता है।

इसके अलावा प्रेग्नेंसी और ब्रेस्ट फीडिंग के समय भी इस तरह के हर्बल का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए। अगर प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान कोई महिला इसका इस्तेमाल करना चाहती है, तो इसका इस्तेमाल करने से पहले उसे अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए ताकि, इसका इस्तेमाल करने से प्रेग्नेंसी की स्थिति और स्तनपान करने वाले शिशु का स्वास्थ्य सुरक्षित रहे।

यह भी पढ़ें: Oolong Tea: ओलोंग चाय क्या है?

डोसेज

यहां प्रदान की गई जानकारी किसी भी तरह की चिकत्सीय सलाह प्रदान नहीं करती है। ऐसे किसी भी औषधि का इस्तेमाल करने से पहले आपको अपने डॉक्टर की उचित सलाह लेनी चाहिए।

मुझे कितनी मात्रा में फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) की खुराक का सेवन करना चाहिए?

तेज बुखार होने पर

अगर बुखार के उपचार के लिए आप फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) का सेवन करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको बुखार होने से लेकर लगातार अगले आठ दिनों तक आपको इसका सेवन करना पड़ सकता है। आप अपने डॉक्टर की सलाह पर फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) युक्त बुखार की अन्य दवाओं की भी खुराक का सेवन सकते हैं।

हल्का बुखार होने पर

अगर आपको हल्का बुखार है, तो हफ्ते में कम से कम दो बार आपको इसके खुराक का सेवन करना लाभकरी हो सकता है।

अस्थमा होने पर

फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) का इस्तेमाल अस्थमा की समस्या में आपको कितनी मात्रा में करनी चाहिए, इसके लिए आपको अपने डॉक्टर की परामर्श लेनी चाहिए।

इसके अलावा इस बात का ध्यान रखें कि फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) की खुराक व्यक्ति की उम्र, स्वास्थ्य स्थिति और बीमारी पर भी निर्भर कर सकती है। इसलिए हर व्यक्ति के लिए इसकी खुराक की मात्रा अलग-अलग हो सकती है।

अगर आप किसी स्वास्थ्य स्थिति के लिए इस घास या इस घास युक्त दवा का सेवन करते हैं और आपके जैसे ही लक्षण किसी अन्य व्यक्ति में दिखाई देते हैं, तो आपको उस अन्य व्यक्ति को खुद से इस घास या दवा के सेवन की सलाह नहीं देनी चाहिए। हमेशा डॉक्टर की परामर्श के बाद ही इसका सेवन करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: Green Coffee: ग्रीन कॉफी क्या है?

उपलब्ध

फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) किन रूपों में उपलब्ध है?

निम्नलिखित रूपों में आप इस फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) को प्राप्त कर सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • कच्चा
  • फ्लेम प्रैटेंस पराग

हमें उम्मीद है कि फ्लेम प्रैटेंस हर्ब पर लिखा गया यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित होगा। अगर आपको यहां बताई गईं स्वास्थ्य समस्याओं में से कोई भी समस्या है तो आप डॉक्टर की सलाह पर इस हर्ब का उपयोग कर सकते हैं। याद रखें सभी हर्ब सभी के लिए सुरक्षित नहीं होते।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकली सलाह या उपचार की सिफारिश नहीं करता है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो कृपया इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

फ्लोरिजिन के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Phlorizin

फ्लोरिजिन पेड़ की छाल में पाया जाने वाला एक पदार्थ होता है। 1835 में सेब के पेड़ की छाल से फ्लोरिजिन प्राप्त करके इसका इस्तेमाल दवाओं के तौर पर किया गया था।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Bhawana Sharma

Spearmint: स्पीयर मिंट क्या है?

स्पीयर मिंट (पहाड़ी पुदीना spearmint) एक औषधि है जो अपने अनोखे स्वाद के लिए जाना जाती है। इसकी चटनी स्वास्थ्यवर्द्धक मानी जाती है। आयुर्वेद में सदियों से इसका जानें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया lipi trivedi

Muira Puama: मुइरा पूमा क्या है?

मुइरा पूमा (Muira Puama) क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां। Muira Puama Benefits, Side Effects, Dosage, and Interactions in hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Bhawana Sharma

Lungmoss: लंगमॉस क्या है?

लंगमॉस एक लोबेरिया पल्मोनेरिया पौधा है जो लिचेन की एक प्रजाति से संबंधित है। यह छोटे काई होते हैं और बहुत ही धीमी गति से विकसित होते हैं। इनका आकार फेफड़ों के आकार से काफी मिलता-जुलता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Bhawana Sharma

Recommended for you

Ayurvedic remedies/ आयुर्वेदिक रेमेडीज क्या हैं

हर मर्ज की दवा है आयुर्वेद और आयुर्वेदिक रेमेडीज, जानिए इनके बारे में विस्तार से

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr snehal singh
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ January 19, 2021 . 10 मिनट में पढ़ें
इचिनेशिया

हर्बल्स हैं बड़े काम की चीज, जानना चाहते हैं कैसे, तो पढ़ें ये डिटेल्ड आर्टिकल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr snehal singh
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ January 8, 2021 . 11 मिनट में पढ़ें
पर्पल नट सेज

पर्पल नट सेज के फायदे एवं नुकसान: Health Benefits of purple nut sedge

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ July 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
विधारा - elephant creeper

विधारा (ऐलीफैण्ट क्रीपर) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Vidhara Plant (Elephant creeper)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ June 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें